--Advertisement--

अब 3 किलोमीटर के दायरे में ही बनेंगे परीक्षा सेंटर

पंजाब स्कूल शिक्षा बोर्ड के घोषित परीक्षा सेंटरों की लिस्ट में कुछ बदलाव हो सकते हैं। पहले परीक्षा सेंटर बच्चों...

Dainik Bhaskar

Feb 01, 2018, 02:55 AM IST
पंजाब स्कूल शिक्षा बोर्ड के घोषित परीक्षा सेंटरों की लिस्ट में कुछ बदलाव हो सकते हैं। पहले परीक्षा सेंटर बच्चों के अपने स्कूलों के सात किलोमीटर दायरे में बनाए गए थे लेकिन विभिन्न संगठनों और विद्यार्थियों की आपत्ति के बाद अब इस दायरे को कम करके तीन किलोमीटर किया जाएगा।

बता दें कि इस बार किसी भी स्कूल के बच्चों का सेंटर उनके ही स्कूल में नहीं बनेगा। बोर्ड ने उन अटकलों पर विराम लगा दिया है, जिसमें सेंटर अपने ही स्कूल में बनाने की बात आ रही थी। पिछले दिनों बोर्ड ने परीक्षा सेंटरों की लिस्ट जारी कर दी थी। उस लिस्ट में सेंटरों को इस ढंग से बनाया गया था कि किसी भी बच्चे को अपने स्कूल से सात किलोमीटर से ज्यादा दूर परीक्षा देने के लिए न जाना पड़े। अब नई सूची तीन किलोमीटर के हिसाब से बनाई जा रही है लेकिन अध्यापक नेताओं ने इसका भी विरोध शुरू कर दिया है। उनका कहना है कि सरकारी स्कूलों के विद्यार्थी गरीब परिवारों से संबंधित होते हैं और उनके अभिभावकों के लिए बच्चों को दूर के स्कूल में भेजना संभव नहीं रहता।

राहत

दसवीं और बारहवीं के बच्चों का अन्य स्कूलों में जाना हुआ तय

बहराम और बलाचौर में सेंटर थे काफी दूरी पर

परीक्षा सेंटरों को लेकर बात करें तो जिला नवांशहर की बात करें तो बहराम और बलाचौर इलाके में परीक्षा सेंटर बहुत दूर बनाए जाने से विद्यार्थियों को काफी दिक्कत आने वाली थी। कई सेंटर सात किलोमीटर से भी ज्यादा दूर थे और ऐसे में तीन किलोमीटर की शर्त लगाए जाने के बाद इन इलाकों के विद्यार्थियों को फायदा हो सकता है।

बच्चों को लाने-ले जाने का इंतजाम कौन करेगा

अध्यापक नेता प्रेम रक्कड़ कहते हैं कि सरकार ने सेल्फ सेंटर बंद करने का फैसला तो कर लिया लेकिन बच्चों को अपने स्कूल से दूसरे एग्जाम सेंटर तक लाने-ले जाने का इंतजाम कौन करेगा, इस बारे में कुछ नहीं बताया गया। इस पर होने वाला खर्च कौन करेगा। उन्होंने कहा कि ग्रामीण इलाकों में तो स्कूल ही बहुत दूरी पर हैं, ऐसे में भगवान न करे, कोई हादसा हो जाए तो कौन जिम्मेदार होगा।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..