Hindi News »Punjab »Nawashahar» बजट में अमृतसर के लिए ट्रेन की आस

बजट में अमृतसर के लिए ट्रेन की आस

एनडीए सरकार के अंतिम बजट को लेकर लोगों में काफी उम्मीदें है। हर किसी के लिए बजट में कुछ न कुछ होगा लेकिन सरकार लोगों...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 01, 2018, 02:55 AM IST

एनडीए सरकार के अंतिम बजट को लेकर लोगों में काफी उम्मीदें है। हर किसी के लिए बजट में कुछ न कुछ होगा लेकिन सरकार लोगों की उम्मीदों पर कितना खरा उतरेगी, यह तो कल का दिन बताएगा। बजट सत्र में शहरवासियों को नवांशहर-अमृतसर ट्रेन चलने की आस है। अकाली दल सांसद प्रेम सिंह चंदूमाजरा ने ट्रेन को बजट सेशन के दौरान चलाने की घोषणा की थी। सांसद ने जनवरी में नवांशहर-अमृतसर के लिए ट्रेन चालू होने का विश्वास दिलाया था। अब सांसद के मुताबिक वह बजट सत्र में नवांशहर-अमृतसर ट्रेन को शुरू करवाएंगे और फरवरी तक चलाने के लिए मोहर लगवा कर आएंगे।

दैनिक भास्कर ने लोगों से बजट के बारे उनकी राय जानी तो हर वर्ग ने बजट में उनके हितों को विशेष ध्यान देने की बात कही। रेलवे रोड के दुकानदार जौली ने कहा कि नवांशहर-अमृतसर ट्रेन को बजट में हरी झंडी मिलनी चाहिए। ट्रेन चालू होने से उन्हें श्री हरिमंदिर साहिब में माथा टेकने के लिए आसान सफर करने का अवसर मिलेगा। कपड़ा व्यापारी मोहन सिंह ने कहा कि वक्त की मांग है कि बजट में नवांशहर रेलवे स्टेशन से एक नई ट्रेन चलाने की सौगात मिलनी चाहिए। दुकानदारों ने जीएसटी व टैक्स छूट मांगी तो नौकरीपेशा स्टैंडर्ड डिडक्शन फिर से लागू करने की बात कही। युवाओं ने कहा कि सरकार बजट में एजुकेशन, मेडिकल, बेरोजगारी जैसी समस्याओं को दूर करने के लिए नए प्रावधानों पर विचार करे। वहीं गृहिणियों ने रोजमर्रा की चीजों को टैक्स मुक्त करने की मांग की है। सरकारी बाबूओं ने टैक्स छूट की तय सीमा बढ़ाने की मांग की। नवांशहर में इंडस्ट्री हब बनाने की भी मांग है ताकि बेरोजगार युवाओं को रोजगार मिले। किसानों ने खेती उपकरणों पर जीएसटी छूट की मांग की है।

जौली और मोहन सिंह।

जीएसटी कम हो : नवीन

रमण बुक डिपो के मालिक नवीन उमट ने कहा बजट आम आदमी को राहत देने वाला होना चाहिए। चार लाख टैक्स की छूट, स्टेशनरी व स्पोर्ट्स गुड्स पर जीएसटी कम करने या खत्म करने पर विचार हो।

देशहित में हो बजट : रमन

मल्होत्रा इलेक्ट्रॉनिक के मालिक रमन मल्होत्रा ने कहते कि बजट में देशहित में सरकार नई नीति बनाए। बिजनेस करना सरल हो। टैक्स घटाने की बजाए इसे सरल किया जाए। इससे भ्रष्टाचार कम होगा।

घरेलू सामान सस्ता हो : रेखा

रेखा के मुताबिक घरेलू चीजों पर जीएसटी नहीं लगना चाहिए, ये रोजाना खरीदी जाती है। खाने पीने केे पैकेड सामान पर जीएसटी हटानी चाहिए ताकि महंगाई कम हो।

टैक्स स्लैब कम हो: नरिंदर

सीनियर वेटेनरी डॉक्टर नरिंदर शर्मा ने कहा कि टैक्स छूट की सीमा बढ़ाई जाए। इसके अलावा कर्मचारियों के लिए स्टैंडर्ड डिडक्शन फिर लाई जाए और अधिकतम टैक्स स्लैब 30 से कम कर 25 की जाए।

किसानों को राहत हो : उप्पल

किसान सोहन सिंह उप्पल ने कहा कि बजट में खेती कर्ज अदायगी के समय में वृद्धि होनी चाहिए। ट्रैक्टर पर जीएसटी खत्म होनी चाहिए। सरकार पेट्रोलियम पदार्थों को जीएसटी में लाकर इसे सस्ता करे।

शिक्षा सस्ती मिले : दीपक

बीसीए पास दीपक ने कहा कि शिक्षा सस्ती होनी चाहिए क्योंकि हर बच्चा शिक्षित हो। फीस अधिक होने से कई युवा शिक्षा से वंचित रह जाते है। युवाओं को नौकरी के अवसर दिए जाए।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Nawashahar

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×