पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • Nawanshahr News Farmers Will Not Pay To Get Incentive Sugar From The Mill

मिल से इन्सेंटिव चीनी लेने के लिए किसान नहीं करेंगे अदायगी

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
सहकारी चीनी मिल की मैनेजमेंट के साथ गन्ना किसानों को इन्सेंटिव चीनी के बदले नकद पैसे न देने पर सहमति बन गई है। इसके साथ ही इलाके के गन्ना किसानों की लंबे समय से चली आ रही मांग पूरी हो गई और अब वे मिल से अपने हिस्से की चीनी बिना नकद अदायगी के ले सकेंगे तथा यह पैसा उनको दिए जाने वाले बकाए में से एडजस्ट कर लिया जाएगा। यह फैसला विधायक अंगद सिंह के साथ मिल के प्रबंधकों की हुई मीटिंग में लिया गया है।

बता दें कि किसानों को मिल में सप्लाई किए प्रति 100 क्विंटल गन्ने के पीछे मिलने वाली 20 किलोग्राम चीनी इन्सेंटिव के तौर पर सस्ते दाम पर दी जाती है। नेशनल फैड के पूर्व मेंबर राणा कुलदीप ने बताया कि किसानों की लंबे समय से मांग थी कि जब मिल ने उनका काफी बकाया अभी देना ही है तो फिर उनसे इस चीनी की कीमत न वसूली जाए बल्कि इसे बकाए में एडजस्ट कर लिया जाए। इसी बात को लेकर बुधवार को मिल में विधायक अंगद सिंह, नेशनल फेडरेशन के पूर्व डायरेक्टर राणा कुलदीप सिंह, मार्केट कमेटी नवांशहर के पूर्व चेयरमैन चमन सिंह भानमजारा और गन्ना किसानों के वफद ने मिल मैनेजमेंट के साथ बात की। जिसमें किसानों ने मांग को जल्द पूरा करने को कहा। उन्होंने बताया कि मिल मैनेजमेंट ने आश्वासन दिया कि कार्यवाही जल्द करके इसको पूरा कर दिया जाएगा। मिल के जीएम कंवलजीत सिंह ने बताया कि साल 2018-19 के पिराई सीजन के दौरान 35.05 लाख क्विंटल गन्ने की पिराई कर 3.50 लाख क्विंटल चीनी बनाई गई। इस बार चीनी की रिकवरी 9.85 प्रतिशत रही जो कि पिछले 18 साल में सबसे ज्यादा है। मिल मैनेजमेंट के अनुसार मिल द्वारा किसानों को 75 प्रतिशत अदायगी की जा चुकी है और बाकी की 25 प्रतिशत शुगरफैड द्वारा कुछ समय पर कर दी जाएगी।

बैठक में मौजूद विधायक अंगद सिंह, राणा कुलदीप और अन्य।

खबरें और भी हैं...