• Hindi News
  • Punjab
  • Nawashahar
  • Balachour News the root cause of sorrows in the world is the desires of the mind of the living being swami chetanananda

संसार में दुखों का मूल कारण जीव के मन की इच्छाएं ही हैं : स्वामी चेतनानंद

Nawashahar News - भूरीवाले गुरुगद्दी परंपरा (गरीबदासी सम्प्रदाय) के सरप्रस्त श्री ब्रह्म सागर जी की तपो स्थली श्री ब्रह्म सरोवर...

Feb 15, 2020, 07:25 AM IST
Balachour News - the root cause of sorrows in the world is the desires of the mind of the living being swami chetanananda

भूरीवाले गुरुगद्दी परंपरा (गरीबदासी सम्प्रदाय) के सरप्रस्त श्री ब्रह्म सागर जी की तपो स्थली श्री ब्रह्म सरोवर धाम मालेवाल में फागुन की अष्टमी को समर्पित तीन दिवसीय संत समागम शुक्रवार से श्रद्धापूर्वक शुरू हो गया। सम्प्रदाय के मौजूदा गद्दीनशीन स्वामी चेतनानंद भूरीवालों ने जगतगुरु आचार्य बाबा गरीबदास रचित बाणी के अखंड पाठों के प्रकाश किए। उन्होंने संगत को प्रवचन करते हुए कहा कि कलियुग का जीव भौतिक पदार्थों की इच्छा रखकर संसार से सुख तलाशता है, लेकिन संसार के दृश्यवान पदार्थ ही दुखों का मूल कारण हैं क्योंकि जीव के मन की इच्छाएं ही दुख देती हैं। उन्होंने कहा कि हम किस्मत वाले हैं कि हमें सतगुरु ब्रह्म सागर ने बाणी के धारिणी बनाकर वहम-भ्रमों से दूर करते हुए सेवा सिमरन तथा दान के रास्ते पर डाला। इस मौके पर स्वामी हरबंस लाल, स्वामी फुम्मण दास, स्वामी सत्तदेव जी, सतपाल भूंबला, वासदेव भूंबला, भजन लाल, गुरदास भंबला, डॉ. यशपाल बूथगढ़, चौधरी अच्छर दास, शम्मी भूंबला, भक्त हरनाम दास, रामजी भक्त, सुरजीत भूंबला, राज कुमार, राम सरूप, मास्टर बलवीर कटारिया, दर्शन मुंडन व संगत मौजूद रही।

प्रवचन करते स्वामी चेतनानंद भूरीवाले।

समागम के दौरान पंडाल में बैठी प्रवचन सुनती उपस्थित संगत।-भास्कर

Balachour News - the root cause of sorrows in the world is the desires of the mind of the living being swami chetanananda
X
Balachour News - the root cause of sorrows in the world is the desires of the mind of the living being swami chetanananda
Balachour News - the root cause of sorrows in the world is the desires of the mind of the living being swami chetanananda

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना