पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • Pathankot News Labor Cards Not Being Made In Service Center Token Number Of Men Crossed 300

सेवा केंद्र में महिलाओं के नहीं बन रहे लेबर कार्ड, पुरुषों की टोकन संख्या 300 पार पहुंची

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
सिविल अस्पताल के पास बने सेवा केंद्र में महिलाओं के लेबर कार्ड न बनने के कारण लोगों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। हालांकि सेवा केंद्र में बनाए जाने वाले लेबर कार्ड के लिए करीब 320 से भी अधिक के टोकन दिए जा चुके है। सेवा केंद्र में पुरुषों के तो लेबर कार्ड बनाए जा रहे है लेकिन महिलाओं को सिर्फ शनिवार ही आने के लिए कहा जा रहा है। यदि किसी पुरुष को अपना लेबर कार्ड बनाना है तो उसके लिए उन्हें 395 रुपए और अगर किसी महिला को बनवाना है तो उसकी फीस उन्हें 10 रुपए जमा करवानी पड़ेगी। यह स्पेशल स्कीम उन महिलाओं के लिए हैं जो लोगों के घरों में काम कर अपनी रोजी रोटी कमा रही है। सेवा केंद्र कर्मियों का कहना है कि डीसी रामवीर की ओर से महिलाओं के लेबर कार्ड शनिवार को बनाए जाने की हिदायत दी गई है। इस समय पुरुषों के लेबर कार्ड बनवाने के लिए के 300 के करीब टोकन वितरित किए जा चुके है। जिन लोगों को टोकन बांटे गए है पहले उनके कार्ड तैयार किए जाएंगे।

डीसी रामवीर के आदेशों पर महिलाओं के सिर्फ शनिवार को ही बनाए जाएंगे कार्ड

सेवा केंद्र में लेबर कार्ड बनाने वालों की लगी भीड़।

न राशन कार्ड बना न आधार कार्ड अब लेबर कार्ड बनाने में हो रही पेरशानी

प्रवीण कुमारी निवासी परमानंद ने कहा कि उन्हें लेबर कार्ड बनवाना है लेकिन उनका न तो आधार कार्ड और ना ही राशन कार्ड बना है। इससे उन्हें कार्ड बनवाने में काफी परेशानी हो रही है। कई बार राशन कार्ड बनवाने के लिए अप्लाई किया है लेकिन नहीं बना। अब इससे उनका आयुष्मान भारत कार्ड और लेबर कार्ड नहीं बन रहा।

नंबर लगाने के लिए महिलाओं में हो रही धक्का मुक्की

सेवा केंद्र में महिलाओं की ओर से कार्ड बनवाने के लिए अपना नंबर लगाने के लिए धक्का मुक्की हो रही है। सुबह 7 बजे ही महिलाएं सेवा केंद्र के बाहर नंबर लगाने के लिए बैठ जाती है। हालात यह हो जाते है कि कई बार तो भीड़ को संभालने के लिए सेवा कर्मियों को पुलिस की सहायता भी लेनी पड़ रही है।

घर में कोई कमाने वाला नहीं, लोगों के घर में काम करके कर रही गुजारा

बुजुर्ग मंजीत निवासी मिशन रोड ने कहा कि घर में कोई भी कमाने वाला नहीं है, इसलिए अकेली ही दूसरों के घर में काम कर अपने घर का गुजारा कर रही है। पिछले 15 दिनों से लेबर कार्ड बनाने को लिए कई चक्कर काटा रही हूं लेकिन अभी तक नहीं बना। अब शनिवार को आने के लिए कहा गया है।

हम चक्कर लगा हार गई नहीं बने लेबर कार्ड

मोहल्ला कच्चे क्वार्टर निवासी पुष्पा देवी, निर्मला व दर्शना ने कहा कि वह कई दिनों से सेवा केंद्र में चक्कर लगा रहे है, लेकिन उन्हें हर बार शनिवार को आने के लिए कहा जा रहा है। इससे वह अपना लेबर कार्ड नहीं बनवा पा रहे।

कार्ड बनवाने के लिए सेवा केंद्र के चार बार काट चुके हैं चक्कर

गुलशन कुमारी व साबी निवासी पूर्ण नगर ने कहा कि लेबर कार्ड बनाने आई थी चार चक्कर लगा चुके है हर बार शनिवार को आने के लिए कहा जा रहा है चक्कर लगा लगा हम परेशान हो गए है। लेकिन लेबर कार्ड नहीं बन रहा।

खबरें और भी हैं...