चिट्टे का आदी ट्रैफिक पुलिस का एएसआई साथी सहित धर दबोचा

Pathankot News - सूबे में चिट्टे से पुलिस कर्मी भी नहीं बचे हैं। शनिवार को सर्कुलर रोड पर गोशाला के पास कार में सवार ट्रैफिक पुलिस...

Bhaskar News Network

Jul 14, 2019, 08:25 AM IST
Pathankot News - traffic police addicted to asi companion
सूबे में चिट्टे से पुलिस कर्मी भी नहीं बचे हैं। शनिवार को सर्कुलर रोड पर गोशाला के पास कार में सवार ट्रैफिक पुलिस के एक एएसआई को नशे की हालत में उसके साथी समेत गिरफ्तार किया है। उनके पास से एक सिरिंज, 2 लाइटर, एक सिल्वर पेपर व एक इलेक्ट्रॉनिक कंडा बरामद किया गया है। पुलिस के मुताबिक दोनों चिट्टे के आदी हैं। उनके खिलाफ एनडीपीएस एक्ट के तहत केस दर्ज किया है। थाना डिवीजन नंबर-1 के एसएचओ प्रमोद कुमार के मुताबिक एएसआई सरदारा सिंह 3 साल से नशे का आदी था। वह साल 1992 में बतौर हेड कांस्टेबल पंजाब पुलिस में भर्ती हुआ था और पुलिस लाइन की एमटीओ ब्रांच में तैनात रहा था। कुछ दिन पहले ही प्रमोट होकर एएसआई बनने पर उसे ट्रैफिक पुलिस में तैनात किया गया था। एमटीओ ब्रांच में ड्यूटी के दौरान उसकी दोस्ती किराए पर सर्विस स्टेशन चलाने घरथौली मोहल्ला के अमन उर्फ जट्ट से हुई थी। पुलिस को सूचना मिली थी कि दोनों नशे का सेवन करते हैं और गोशाला रोड पर कार मंे बैठकर जा रहे हैं।

जिला पठानकोट में पिछले 7 महीने में नशे की ओवरडोज से हो चुकी है 7 लोगों की मौत

चिट्टे के आदी एएसआई सरदारा सिंह को मेडिकल के लिए ले जाती पुलिस। -भास्कर


एसएचओ प्रमोद कुमार के मुताबिक पुलिस को गुप्त सूचना मिली थी उक्त दोनों नशे का सेवन करते हैं और दोपहर को गोशाला रोड पर कार में बैठकर जा रहे हैं। इस पर एएसआई धर्मपाल ने पुलिस पार्टी के साथ गश्त के दौरान कार सवार उक्त दोनों को रोककर तलाशी ली, तो उनके पास से सिरिंज, लाइटर मिले। इस बीच थाना डिवीजन नंबर-1 के एएसआई लेखराज को भी सूचित कर मौके पर बुला लिया गया। बाद में डीएसपी नारकोटिक्स ललित कुमार की मौजूदगी में उनकी तलाशी लेने पर एक सिरिंज, 2 लाइटर, 1 सिल्वर पेपर व एक इलेक्ट्रॉनिक कंडा बरामद किया गया। बताया जा रहा है कि दोनों 3 साल से एक साथ नशा करते थे। शनिवार को भी हिमाचल प्रदेश के डमटाल से पुरुषोतम नामक शख्स से चिट्टा लेकर आए थे। दोनों का सिविल अस्पताल में मेडिकल कराया गया है।


पठानकोट के साथ सटे हिमाचल के भदरोया व छन्नी बेली से आ रहे चिट्टा-हेरोइन युवाओं के लिए जानलेवा साबित हो रहा है। अकेले जिला पठानकोट में 7 महीने में नशे से 7 लोगों की मौत हुई है। हाल ही में बेहोशी की हालत में मिले कुछ युवाओं ने कहा था कि वह नशे के लिए छन्नी बेली और भदरोया के एरिया से चिट्टा लाते हैं। लगातार बढ़ रहे मामलों और मिल रही शिकायतों के बाद दोनों राज्यों की पुलिस ने संयुक्त कार्रवाई की, लेकिन उसका कोई ठोस परिणाम अभी तक सामने नहीं आ सका है। गत दिनों बॉर्डर एरिया से लगते छन्नी बेली गांव के लोगों ने एकजुट होकर नशा माफिया के खिलाफ अभियान चलाकर पुलिस को हरसंभव सहयोग का आश्वासन दिया है।

1992 में पुलिस में हुआ था भर्ती, कुछ दिन पहले ही प्रमोट होकर एएसआई बना

X
Pathankot News - traffic police addicted to asi companion
COMMENT