• Hindi News
  • Punjab
  • Patiala
  • डिग्री सफलता का पड़ाव, मंजिल नहीं: डॉ उभा
--Advertisement--

डिग्री सफलता का पड़ाव, मंजिल नहीं: डॉ उभा

Patiala News - भास्कर संवाददाता|फतेहगढ़ साहिब माता गुजरी काॅलेज में दीक्षांत समारोह में ग्रेजुएट व पोस्ट ग्रेजुएट 943 छात्रों...

Dainik Bhaskar

Apr 01, 2018, 02:55 AM IST
डिग्री सफलता का पड़ाव, मंजिल नहीं: डॉ उभा
भास्कर संवाददाता|फतेहगढ़ साहिब

माता गुजरी काॅलेज में दीक्षांत समारोह में ग्रेजुएट व पोस्ट ग्रेजुएट 943 छात्रों को डिग्रियां बांटी गई। 25 गोल्ड मेडल विजेता छात्र व छात्राएं शामिल थे। समारोह में पूर्व शिक्षामंत्री डाॅ. दलजीत सिंह चीमा मुख्य अतिथि थे। खालसा काॅलेज पटियाला के प्रिंसिपल डा. धर्मेंद्र सिंह उभा ने कहा कि डिग्री हासिल करना बेशक एक सफलता का पड़ाव है पर मंजिल नही। डा. चीमा ने कहा कि आज के आधुनिक व मुकाबले के युग में उच्च शिक्षा जरूरी है। शिक्षित लोग ही देश व समाज की तरक्की में अपना योगदान देते हैं। प्रिंसिपल डाॅ. कश्मीर सिंह ने काॅलेज की प्राप्तियों व भविष्य की योजनाओं के बारे में बताया। कालेज प्रबंधक कमेटी के एडीशनल सचिव रंजीत सिंह लिबड़ा ने अतिथियों का आभार जताया। उनको यादगारी चिह्न भी भेंट किए। डीन अकादमिक प्रोफेसर विक्रमजीत सिंह संधू, जगदीप सिंह चीमा, प्रो. गुरदर्शन सिंह, डाॅ. राजेन्द्र कौर, हरवीन कौर मौजूद रहीं।

27 साल बाद ली गायक बुग्गा ने एमए की डिग्री

सियासत पर बाेले डॉ. चीमा, प्रोफेशनल टैक्स पब्लिक पर भार

पूर्व शिक्षामंत्री डाक्टर दलजीत चीमा ने कहा कि कांग्रेस सरकार अपने पहले ही साल में असफल रही है। चुनावी वादे सिर्फ वादे ही रह गए। वित्त मंत्री मनप्रीत बादल पर निशाना साधते हुए कहा कि उन्होंने बजट पर स्पष्टीकरण देने के बजाए सीनियर नेताओं के खिलाफ ही अनुचित बयान देने शुरू कर दिए हैं जिससे उन्हें बचना चाहिए। बजट में तो वह कुछ खास नहीं कर पाए पर प्रोफेशनल टैक्स के नाम पर पंजाब के लोगों पर अतिरिक्त भार डाल दिया गया।

एमजी काॅलेज के दीक्षांत समारोह में डिग्रियां हासिल करने वाले छात्रों का ग्रुप। इस दौरान डाॅ. चीमा ने पंजाबी गायक सतविन्द्र बुग्गा को डिग्री दी।

पंजाबी लोक गायक सतविन्द्र सिंह बुग्गा भी अपनी डिग्री लेने पहुंचे। बुग्गा ने बताया कि उन्होंने 1991 मेंं एम इकनामिक्स में डिग्री हासिल की थी। पर बिजी होने के चलते डिग्री नहीं ले पाए थे। उनकी इच्छा थी कि उन्हें डिग्री अपने काॅलेज में अपने अध्यापकों से मिले। 27 साल बाद उन्हें अपनी डिग्री लेने का सम्मान मिला है। उन्होंने अपने सभी प्रोफेसरों का भी आभार जताया।

X
डिग्री सफलता का पड़ाव, मंजिल नहीं: डॉ उभा
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..