फर्जी अाईपीएस का िरमांड पर कबूलनामा

Patiala News - अाईपीएस की वर्दी पहनकर लाेगाें पर राैब जमाने वाले अमनदीप सिंह नलीना काे पुलिस ने रिमांड के बाद जज निधी सैणी की...

Bhaskar News Network

Jul 14, 2019, 08:30 AM IST
Patiala News - confession over fake ops case
अाईपीएस की वर्दी पहनकर लाेगाें पर राैब जमाने वाले अमनदीप सिंह नलीना काे पुलिस ने रिमांड के बाद जज निधी सैणी की काेर्ट में पेश किया। वहां से उसकाे 26 जुलाई तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया। रिमांड पर पूछताछ में उसने माना कि सीसी के जरिए उसने प्राइवेट बीसीए जालंधर से की थी। उसके ज्यादातर दाेस्त पुलिस में भर्ती हाे गए, लेकिन उसे भर्ती हाेने का माैका नहीं मिला। इससे उसे बेइज्जती लगती थी। दाेस्ताें काे दिखाने के लिए केवल उसने वर्दी खरीदी अाैर डेढ़ महीने में अाईपीएस बनकर दिखाया।

नई ज्वाइनिंग के बहाने खरीदी एसअाई की वर्दी, साहब के प्रमोशन की बात कहकर खरीदे अाईपीएस के बैज

दाेस्त पुलिस में भर्ती हाे गए अाैर खुद नहीं हाे पाया, उनकाे दिखाने के लिए वर्दी खरीद डेढ़ महीने में बना अाईपीएस

जांच अधिकारी अमरीक सिंह ने बताया कि अाराेपी ने पूछताछ में माना कि करीब तीन महीने पहले उसने त्रिपड़ी बाजार की दुकान से एसअाई की वर्दी यह कहते हुए खरिदी कि वह नई भर्ती में एसअाई बना है। उसका अभी अाईकार्ड नहीं अाया है। जल्द अाईकार्ड अा जाएगा। उसकी बाताें में अाकर दुकानदार ने उसकाे एसअाई की वर्दी दे दी। डेढ़ महीने बाद अाराेपी दुकान पर जाकर बाेला कि मेरा साहब पीपीएस से अाईपीएस बन गया है उसके लिए बैज दे दाे। जिसके बाद अाराेपी ने दुकान से अाईपीएस के बैज खरीदे अाैर उसे लगाकर शहर में घूमने लगा।

अमनदीप ने दो साल पहले पूरी की पढ़ाई

अाराेपी अमनदीप की पढ़ाई दाे साल पहले पूरी हुई थी। जांच के दाैरान पुलिस ने वर्दी बेचने वाले दुकानदार से पूछताछ की। अाराेपी ने खुद काे नई भर्ती का मुलाजिम बताकर वर्दी खरीदी थी। मामला सामने आने के बाद अाईजी एएस राय ने कहा था कि दुकानदार को देखना चाहिए कि वह अाईपीएस के स्टार व अन्य सामान जिसको दे रहा है उसके पास अाईडी भी है।

नशा करते माइग्रेन का शिकार हाे गया था

जांच में पुलिस काे पता चला कि अाराेपी पहले नशा करता था, इस दाैरान उसे माइग्रेन की बीमारी हाे गई थी। उसका प्राइवेट डाॅक्टर के पास इलाज चल रहा था। अभी तक परिवार ने काेई मेंटल हाेने जैसा सबूत पेश नहीं किया। उनकाे दस्तावेज पेश करने काे कहा है। पुलिस के मुताबिक अाराेपी हरकताेें से बीमार जरूर नजर अाता है, पर इसकी पुष्टि नहीं हो सकी है।

पिता ने कहा था- परेशान हूं, बेटा अपसेट है

पुलिस ने पिता स्वर्णजीत सिंह को फोन कर थाने बुलाया था। तब पिता ने बताया कि बेटा अमनदीप सिंह मेंटली अपसेट है। उसका इलाज चल रहा है। उनके मुताबिक वह जल्द पुलिस को उसके दिमागी परेशानी का सर्टिफिकेट दिखाएंगे। जब उनसे बेटे की हरकतों, वर्दी में घर से निकलने, गाड़ी पर पुलिस के स्टिकर लगाने को लेकर पूछा गया तो उन्होंने टिप्पणी नहीं की थी।

यह था मामला

लहल काॅलाेनी के जिम में अमनदीप अाईपीएस अफसर बनकर अाया। जिम के स्पा में ताला लगा दिया। लड़कियाें ने ताला लगाने का विराेध किया ताे हंगामा करने लगा। अफसर हाेने की धाैंस दिखाते हुए देख लेने की धमकी दी और वर्दी में थाने चला गया। उसके कहने पर पुलिस जिम ट्रेनर काे उठा लाई। जब वह शिकायत नहीं लिख सका तब खुलासा हुआ।

X
Patiala News - confession over fake ops case
COMMENT