• Hindi News
  • National
  • Patiala News Killing The Knife In The Neck Killing The Teacher Life Imprisonment

गर्दन में चाकू मारकर की थी टीचर की हत्या, उम्रकैद

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
टीचर का कत्ल करने के केस में जिला सेशन जज रजिन्द्र अग्रवाल ने अारोपी टीचर मास्टर परमिन्द्र सिंह हामझेड़ी को दोषी करार दिया। वीरवार को उसे उम्रकैद की सजा सुनाई गई और 5 हजार रुपए जुर्माना भरने का आदेश दिया। जुर्माना न भरने पर 6 महीने की अलग से सजा भुगतनी होगी।

पुलिस से शिकायत गुरमेल सिंह शुतराणा ने दी थी। उसने बताया कि वह खेती करता है। उसके दो मकान हैं। जहां स्कूल मास्टर भगवान दास रहता था। वह गांव ननहेड़ा के स्कूल मेें हिंदी टीचर था। वह एक साल से उसके मकान मेें किराए पर रह रहा था। 11 फरवरी 2015 को देर शाम उसे भगवान दास के चिल्लाने की आवाज सुनाई दी। जो मारता-मारता कह रहा था। किरायेदार की आवाज सुनकर जब वह बाहर गया तो देखा कि उसके दरवाजे के आगे अारोपी परमिन्द्र सिंह, शुतराणा सरकारी स्कूल में काम करता है, हाथ में चाकू लेकर खड़ा था। उसके देखते-देखते आरोपी ने भगवान दास की गर्दन पर हमला कर दिया और फरार हो गया। बेहोश होने पर भगवान दास को पातड़ा सिविल अस्पताल ले गए। अस्पताल पहुंचने तक उसकी मौत हो गई। भगवान दास आगरा का निवासी था। हत्या की वजह रंजिश थी क्योंकि आरोपी टीचर के चरित्र पर शक करता था।

खबरें और भी हैं...