• Home
  • Punjab News
  • Patiala News
  • 12 सफाई सेवकों ने भादसों चमकाया, 3 महीने से सेलरी नहीं मिली फिर भी सफाई नहीं छोड़ी, लोगों ने कूड़ा डस्टबिन में ही डाला, खाद से कमाई
--Advertisement--

12 सफाई सेवकों ने भादसों चमकाया, 3 महीने से सेलरी नहीं मिली फिर भी सफाई नहीं छोड़ी, लोगों ने कूड़ा डस्टबिन में ही डाला, खाद से कमाई

मैं भादसों हूं। पटियाला से करीबन 30 किलोमीटर दूर लगभग 10 हजार की अाबादी वाला कस्बा। पिछले साल सितंबर 2017 में जब देश भर...

Danik Bhaskar | May 18, 2018, 03:45 AM IST
मैं भादसों हूं। पटियाला से करीबन 30 किलोमीटर दूर लगभग 10 हजार की अाबादी वाला कस्बा। पिछले साल सितंबर 2017 में जब देश भर के लगभग 4 हजार शहरों में सबसे साफ शहर बनने का कंपीटिशन शुरू हुअा तो 1 लाख से कम अाबादी वाली श्रेणी में मैं भी कंपीटिशन का हिस्सेदार बना। मेरे अागे चैलेंज बहुत थे- जैसे सिर्फ 12 सफाई सेवक अौर चारों तरफ फैली गंदगी? लेकिन इन चैलेंजेस को स्वीकार करके मैंने हिम्मत जुटाई अौर अागे बढ़ा। नतीजा सामने है। एेसा टीम वर्क हुअा कि नॉर्थ जोन में मैं सबसे साफ शहर के रूप में चुना गया। अाइए अापको बताता हूं सिर्फ 4 फेजों में अपने नंबर वन बनने की कहानी...

भादसों को नंबर-1 बनाने वाले हीरो

भिंदर

गुरदेव सिंह

पटियाला से 30 किलोमीटर दूर भादसों के नॉर्थ जोन में सबसे साफ शहर बनने की कहानी...

फेज-1

11 वार्डों के 1470 घरों अौर दुकानों को गीला-सूखा कूड़ा अलग करने के लिए 2-2 डस्टबिन सरबत दा भला, लुधियाना की नाहर ग्रुप अॉफ कंपनीज अौर एटीएस ग्रुप ने 4400 डस्टबिन दिए। नीला डस्टबिन सूखे अौर हरा गीले कूड़े के लिए। पीएमअाईडीसी की टीमों ने चंडीगढ़ से अाकर हर घर में जाकर लोगों को कूड़ा अलग-अलग करने की सिखलाई दी।



गीला-सूखा कूड़ा अलग करने की िसखलाई दी

भादसों में 1470 घर, हरेक में 2 डस्टबिन, रोज 11 क्विंटल कूड़ा इकट्‌ठा कर नगर पंचायत बना रही आर्गेनिक खाद

फेज-2

भादसों नगर पंचायत के पास सफाई सेवक 12 थे आैर ट्रालियां 4। यह लोग इस मिशन को बोझ न समझें, इसलिए रोजाना सुबह सफाई से पहले योग करवाया गया। पहले पहल थोड़ी मुश्किल हुई, फिर सब लोग एकजुट हो गए। सरकारी सीनियर सेकेंडरी स्कूल के स्टूडेंट्स को साथ लिया। बच्चों ने अपने ही पेरेंट्स को समझाया तो रोजाना 11 क्विंटल कूड़ा एकत्र होने लगा।

सफाई जागरूकता के लिए गाने बनाए...


सफाई बोझ न लगे इसलिए योग करवाया


10,000 आबादी वाले भादसों से 4.5 लाख आबादी वाले शहर पटियाला को सीखना चाहिए। यहां 8 साल में सॉलिड वेस्ट ट्रीटमेंट प्लांट शुरू नहीं हो पाया आैर वो खाद बेच पैसे कमा रहे

फेज-3

भादसों में 24 पिट्स तैयार हुईं। यहां गीला-सूखा कूड़ा रखकर खाद बनानी शुरू की गई। खाद 1500 रुपए क्विंटल के हिसाब से बेचकर अामदन का जरिया बनाया।

कूड़े से खाद बना कमाई का साधन बनाया

लोग बोले-हम प्रण लेते हैं सफाई बनाए रखेंगे

संजीव शर्मा

वेद प्रकाश

फेज-4

शहर से कूड़ा संभालने, सफाई करने से लेकर स्कूल, मोहल्लों में स्वच्छता क्लब बनाए। 50-50 मैंबर्स के क्लबों ने खाली प्लॉटों को साफ कर पार्क बनाए।

सफाई के लिए 50-50 मेंबर्स के क्लब बनाए

अशोक कुमार

लोगों ने सफाई सेवकों के इस मिशन को कामयाब बनाने का प्रण लिया आैर कहा कि इस सफाई व्यवस्था को वह कायम रखेंगे। अब भादसों को नं-2 नहीं होने दिया जाएगा।