• Hindi News
  • Punjab
  • Patiala
  • Patiala News on the night of 25 the entry of the sun in the rohini nakshatra will increase according to the astrologers 9 days of gruesome heat sign

25 की रात सूर्य का रोहिणी नक्षत्र में प्रवेश, बढ़ेगी तपिश ज्योतिषों के मुताबिक- 9 दिन तक भीषण गर्मी के संकेत

Bhaskar News Network

May 18, 2019, 07:21 AM IST

Patiala News - 25 मई से शुरू होने वाला नौतपा इस बार खूब तपेगा, लेकिन खत्म होने के बाद राहत देने वाला भी साबित होगा। क्योंकि नौतपा का...

Patiala News - on the night of 25 the entry of the sun in the rohini nakshatra will increase according to the astrologers 9 days of gruesome heat sign
25 मई से शुरू होने वाला नौतपा इस बार खूब तपेगा, लेकिन खत्म होने के बाद राहत देने वाला भी साबित होगा। क्योंकि नौतपा का प्रवेश इस बार चंद्रप्रधान रोहिणी नक्षत्र में हो रहा है। इससे भीषण गर्मी के संकेत तो मिलते ही हैं, शास्त्रों में खंड वर्षा का कारण भी माना गया है। दूसरी ओर, 2 जून को नौतपा खत्म होने के ठीक 20 दिन बाद सूर्य आर्द्रा नक्षत्र में प्रवेश करने जा रहा है। ग्रह-नक्षत्रों की ऐसी स्थितियों को आधार मानते हुए ज्योतिषियों ने दावा किया है कि सालभर में करीब 52 दिन बारिश होगी। यानी ग्रहों का यह संयोग इस बार कृषि कार्य से जुड़े लोगों के लिए मददगार भी साबित होने वाला है। चंद्र प्रधान लग्न में 25 की रात सूर्य का रोहिणी नक्षत्र में प्रवेश लोगों की तकलीफ कम करने के बजाय भीषण गर्मी के संकेत दे रहा है। ज्योतिषाचार्य डॉ. हरी दास शास्त्री बताते हैं कि ज्येष्ठ मास में जब सूर्य रोहिणी नक्षत्र में प्रवेश करता है। उसके बाद भीषण गर्मी के आसार बनते हैं। शास्त्रों में उल्लेख है कि जैसे ही सूर्य का रोहिणी नक्षत्र में प्रवेश होता है। वैसे ही तेज गर्मी के साथ नौतपा का प्रभाव शुरु होता है। इस बार 25 मई को सूर्य रोहिणी नक्षत्र में रात 8.24 मिनट पर प्रवेश करेगा। उसके बाद 9 दिन अर्थात 2 जून तक नौतपा का प्रभाव रहेगा।

प्रभावी रहेंगी सूर्य की तेज किरणें

ज्योतिषाचार्य का मत है चूंकि रोहिणी नक्षत्र को सूर्य प्रधान कारक माना जाता है। इस दौरान चंद्रमा उच्च भाव में प्रभावी रहेगा। साथ ही जल प्रधान ग्रह होने के कारण इस संयोग में जैसे ही सूर्य की किरणें जल तत्व प्रधान चंद्रमा से होकर गुजरेंगी। इसके प्रभाव से लोगों को भी असहनीय गर्मी का सामना करना पड़ेगा। साथ ही इस बार नौतपा पूरे 9 दिन प्रभावी रहने से लोगों को 2 जून तक उमस का सामना करना पड़ेगा। इसके प्रभाव से बचने के लिए लोगों को सूर्य आराधना करना बेहतर होगा।

सूर्य करेगा आद्रा नक्षत्र में प्रवेश | शास्त्रों में जिक्र है कि नौतपा में तेज गर्मी होने से अच्छी वर्षा के संकेत बनते हैं। इस वर्ष 22 जून को सूर्य शाम 5.17 मिनट पर आद्रा नक्षत्र में प्रवेश करेगा। जिस दिन सूर्य आद्रा नक्षत्र में जाएगा, उस दिन विष्कुंभ योग भी बन रहा है। जो इस बार पूरे देश में खंड वर्षा का संकेत दे रहा है।

भास्कर संवाददाता|पटियाला

25 मई से शुरू होने वाला नौतपा इस बार खूब तपेगा, लेकिन खत्म होने के बाद राहत देने वाला भी साबित होगा। क्योंकि नौतपा का प्रवेश इस बार चंद्रप्रधान रोहिणी नक्षत्र में हो रहा है। इससे भीषण गर्मी के संकेत तो मिलते ही हैं, शास्त्रों में खंड वर्षा का कारण भी माना गया है। दूसरी ओर, 2 जून को नौतपा खत्म होने के ठीक 20 दिन बाद सूर्य आर्द्रा नक्षत्र में प्रवेश करने जा रहा है। ग्रह-नक्षत्रों की ऐसी स्थितियों को आधार मानते हुए ज्योतिषियों ने दावा किया है कि सालभर में करीब 52 दिन बारिश होगी। यानी ग्रहों का यह संयोग इस बार कृषि कार्य से जुड़े लोगों के लिए मददगार भी साबित होने वाला है। चंद्र प्रधान लग्न में 25 की रात सूर्य का रोहिणी नक्षत्र में प्रवेश लोगों की तकलीफ कम करने के बजाय भीषण गर्मी के संकेत दे रहा है। ज्योतिषाचार्य डॉ. हरी दास शास्त्री बताते हैं कि ज्येष्ठ मास में जब सूर्य रोहिणी नक्षत्र में प्रवेश करता है। उसके बाद भीषण गर्मी के आसार बनते हैं। शास्त्रों में उल्लेख है कि जैसे ही सूर्य का रोहिणी नक्षत्र में प्रवेश होता है। वैसे ही तेज गर्मी के साथ नौतपा का प्रभाव शुरु होता है। इस बार 25 मई को सूर्य रोहिणी नक्षत्र में रात 8.24 मिनट पर प्रवेश करेगा। उसके बाद 9 दिन अर्थात 2 जून तक नौतपा का प्रभाव रहेगा।

क्या होता है नौतपा

रोहिणी नक्षत्र से नौतपा भी शुरू हो जाएगा। रोहिणी नक्षत्र 25 मई को शुरू होगा और इस बार 8 जून तक रहेगा। ऐसी मान्यता है कि रोहिणी नक्षत्र जब लगता है तो सूरज के तेवर प्रचंड रहते हैं और धरती का तापमान तेजी से बढ़ने लगता है। ज्योतिषियों के अनुसार नौतपा इस साल 25 मई को सुबह 10.33 बजे सूर्य के रोहिणी नक्षत्र में प्रवेश करने के साथ शुरू हो जाएगा और 3 जून को नवतपा का आखिरी दिन होगा। इस दौरान सूर्य, मंगल, बुध का शनि से समसप्तक योग होने से भी धरती के तापमान में इजाफा होता है। साल में एक बार रोहिणी नक्षत्र की दृष्टि सूर्य पर पड़ती है। यह नक्षत्र 15 दिन रहता है लेकिन शुरू के पहले चन्द्रमा जिन 9 नक्षत्रों पर रहता है वह दिन नौतपा कहलाते हैं। इसका कारण इन दिनों में गर्मी अधिक रहती है। मई के आखिरी सप्ताह में सूर्य और पृथ्वी के बीच दूरी कम हो जाती है और इससे धूप और तेज हो जाती है।

X
Patiala News - on the night of 25 the entry of the sun in the rohini nakshatra will increase according to the astrologers 9 days of gruesome heat sign
COMMENT

किस पार्टी को मिलेंगी कितनी सीटें? अंदाज़ा लगाएँ और इनाम जीतें

  • पार्टी
  • 2019
  • 2014
336
60
147
  • Total
  • 0/543
  • 543
कॉन्टेस्ट में पार्टिसिपेट करने के लिए अपनी डिटेल्स भरें

पार्टिसिपेट करने के लिए धन्यवाद

Total count should be

543