--Advertisement--

राफेल डील कंट्रोवर्सी : फ्रांस से मिलने वाले 36 राफेल जहाजों की खरीद सही : एयर चीफ

आदमपुर में एयरफोर्स के प्रोग्राम में पहुंचे राष्ट्रपति।

Dainik Bhaskar

Nov 17, 2017, 04:56 AM IST
President arrives in the program of Air Force Adampur

जालंधर/नई दिल्ली. राफेल विमान डील कंट्रोवर्सी के बीच वीरवार को पहली बार एयरचीफ मार्शल बीएस धनोआ का भी बयान आया। धनोआ ने कहा, फ्रांस से मिलने वाले 36 राफेल जहाजों की खरीद पूरी तरह सही है। ‘पिछली डील के मुकाबले 36 जहाजों वाली डील ज्यादा फायदेमंद है। अगर कोई यह कह रहा है कि टेक्नॉलॉजी ट्रांसफर नहीं होगी तो यह गलत होगा। नए ऑफसेट एग्रीमेंट के हिसाब से फ्रांस की कंपनियां भारत में रक्षा उपकरणों का निर्माण करेंगी। यह निवेश कम से कम राफेल डील के 50% राशि के बराबर होगा।

इसमें भारत की अलग-अलग संस्थाओं को फायदा होगा, जिसके तहत भारत में राफेल जहाजों की तकनीक भी आएगी। भारतीय ही इस जहाज की तकनीक हासिल करेंगे। आदमपुर एयरफोर्स स्टेशन पर राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद के साथ ही एयर चीफ मार्शल एक समाराेह में शामिल हुए थे। धनाेआ ने कहा कि जहाजों की गिनती लगातार गिरती जा रही थी। हमारी कई स्क्वाड्रन बंद हो चुकी हैं। राफेल की खरीद इमरजेंसी में भी करनी पड़ रही है। गौरतलब है कि इस डील पर कांग्रेस का घोटाले का आरोप है।

ये है मामला : कांग्रेस बोली- हमने अच्छी डील की, भाजपा ने महंगी

हाल ही में, कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने कहा था, ‘राफेल डील से घोटाले की बू आ रही है। डील में ट्रांस्पैरेंसी नहीं थी। सुरक्षा नियमों की परवाह किए बिना ही डील की गई। डील के वक्त न तो डिफेंस मिनिस्टर मौजूद थे और न ही कैबिनेट की सिक्युरिटी कमेटी व दूसरी एजेंसियों से मंजूरी ली गई थी। यूपीए सरकार ने 54000 करोड़ से 126 राफेल जेट्स की डील की थी। मोदी सरकार ने बिना टेक्नोलॉजी ट्रांसफर के 60 हजार करोड़ की बड़ी डील की और केवल 36 राफेल के लिए।

क्या है राफेल डील

23 सितंबर, 2016 को दोनों देशों के रक्षामंत्री ने राफेल सौदे पर साइन किए थे। भारत ने 59,000 करोड़ की फ्रांस से डील की थी। 36 राफेल फाइटर जेट मिलने हैं। पहला विमान सितंबर 2019 तक मिलने की उम्मीद है और बाकी के विमान बीच-बीच में 2022 तक मिलने की उम्मीद है।

बीजेपी का जवाब

केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने राहुल के आरोपों पर कहा- वह इस बात को मान ही नहीं पा रहे हैं कि मोदी सरकार को 3 साल हो गए और उस पर करप्शन का एक भी आरोप नहीं लगा। कांग्रेस ये आरोप ध्यान हटाने के लिए लगा रही है, क्योंकि उनके कई नेताओं से ऑगस्टा वेस्टलैंड घोटाले में पूछताछ की जा सकती है।

राहुल बोले- मुझसे क्यों सवाल पूछते हो, राफेल पर मोदी से सवाल करो

राहुल बोले, ‘आप मुझसे इतने सारे सवाल पूछते हैं, मैं जवाब देता हूं। आप लोग राफेल डील के बारे में पीएम से सवाल क्यों नहीं करते? बीजेपी ने एक बिजनेसमैन को फायदा पहुंचाने को डील ही बदल दी। राहुल दिल्ली में एक मीटिंग के बाद पत्रकारों से बात कर रहे थे।

X
President arrives in the program of Air Force Adampur
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..