• Home
  • Punjab News
  • Rahon News
  • पाॅलिसी लागू नहीं होने से बहलूर कलां व फूल मकौड़ी में अवैध माइनिंग जारी
--Advertisement--

पाॅलिसी लागू नहीं होने से बहलूर कलां व फूल मकौड़ी में अवैध माइनिंग जारी

भले ही सरकार और जिला प्रशासन रेत की अवैध माइनिंग पर शिकंजा कसने के दावे करता है लेकिन गांव बहलूर कलां और फूल मकौड़ी...

Danik Bhaskar | May 18, 2018, 03:50 AM IST
भले ही सरकार और जिला प्रशासन रेत की अवैध माइनिंग पर शिकंजा कसने के दावे करता है लेकिन गांव बहलूर कलां और फूल मकौड़ी में सरेआम अवैध माइनिंग धड़ल्ले से हो रही है। इन गांवों के लोगों का कहना है कि अवैध माइनिंग करने वाले लोगों पर जिला प्रशासन कोई कार्रवाई नहीं कर रहा है। रेत के भरे बड़े-बड़े टिप्परों के कारण बांध और सड़कों को नुकसान भी हो रहा है।

बता दें कि कुछ महीने पहले प्रदेश के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने हेलीकॉप्टर से जिले के गांव मलकपुर सहित कई स्थानों पर चल रही अवैध माइनिंग की तस्वीरें सोशल मीडिया व जिला प्रशासन को वायरल की थीं, जिसे देखते हुए प्रशासन ने अवैध माइनिंग पर शिकंजा कसने की कार्रवाई तेज कर दी थी। इसके बाद कुछ समय बाद अवैध माइनिंग करने वालों पर पूर्ण तौर पर रोक भी लग गई थी, लेकिन फिर से यह धंधा शुरू हो गया है।

क्षेत्रवासियों ने कहा कि माइनिंग कमेटी द्वारा अवैध माइनिंग रोकने के लिए नई पॉलिसी संबंधी रिपोर्ट मुख्यमंत्री को पेश की गई थी। इसी दौरान कैबिनेट मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने घोषणा की थी कि एक हजार रुपए प्रति रेत की ट्राली मिलेगी, लेकिन कई दिन बीत जाने के बावजूद भी अभी तक इस पालिसी को लागू नहीं किया गया। जिन लोगों ने अपने घरों या अन्य कंस्ट्रक्शन का काम शुरू किया है, उन्हें भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। लोगों ने सरकार से मांग की है कि अवैध माइनिंग को रोकने के लिए नई पाॅलिसी जल्द लागू की जाए।

गांव बहलूर कलां से गुजर रहीं रेत से भरी ट्रालियां।

अधिकारियों की ड्यूटी लगाई जाएगी : एसएसपी

एसएसपी सतिंदर सिंह ने बताया कि अवैध माइनिंग को रोकने के लिए प्रशासन द्वारा पूर्ण तौर पर रोक लगाई गई है। गांव बहलूर कलां और फूल मकौड़ी में चल रही अवैध माइनिंग के संबंध में गांववासियों ने उनके पास कोई शिकायत नहीं की है, फिर भी सतलुज दरिया में अवैध माइनिंग हो रही है तो इसे रोकने के लिए अधिकारियों की ड्यूटी लगाई जाएगी।