Hindi News »Punjab »Ropar» पंजाब सरकार के फैसले के बाद जिले के 72 में से 50 सेवा केंद्रों पर लगेगा ताला

पंजाब सरकार के फैसले के बाद जिले के 72 में से 50 सेवा केंद्रों पर लगेगा ताला

भास्कर संवाददाता | नूरपुरबेदी मौजूदा पंजाब सरकार द्वारा तत्कालीन अकाली-भाजपा सरकार द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 01, 2018, 02:20 AM IST

भास्कर संवाददाता | नूरपुरबेदी

मौजूदा पंजाब सरकार द्वारा तत्कालीन अकाली-भाजपा सरकार द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों में जन सुविधा देने के लिए गांवों में खोले गए सेवा केंद्रों को बंद करने के फैसले के बाद जिला रोपड़ के कुल 72 सेवा केंद्रों में से 50 केंद्रों पर ताला लग सकता है। जिला रोपड़ में बंद होने जा रहे 50 सेवा केंद्रों संबधी लिस्ट की कॉपी मीडिया के हाथ लगने से उक्त पूरे मामले का खुलासा हुआ है। बता दें कि इस समय 72 सेवा केद्रों में 145 नौजवान काम कर रहे हैं लेकिन इनमें से 50 सेवा केंद्र बंद होने से इनमें से 78 बेरोजगार हो जाएंगे। उक्त सेवा केंद्रों के माध्यम से लोगों को जन्म सर्टीफिकेट, मुत्यु सर्टीफिकेट, पासपोर्ट वैरीफिकेशन सहित अन्य 77 प्रकार की सेवाए दी जा रही हैं। वहीं इनके निर्माण के लिए पूर्व सरकार द्वारा खर्च किए गए करोड़ों रूपए का ढांचा भी बर्बादी की कगार पर पहुंचने वाला है।

मीडिया के हाथ लगी बंद होने वाले जिला रोपड़ के 50 सेवा केंद्रों की सूची। -भास्कर

चमकौर साहिब के 13 , रोपड़ के 11, नंगल के 8, आनंदपुर व नूरपुरबेदी के 9 केंद्र होंगे बंद

सरकार के फैसले के बाद चमकौर साहिब ब्लाॅक के सबसे ज्यादा 13 सेवा केंद्र बंद होने जा रहे है। इनमें सरकारी सीसे स्कूल चमकौर साहिब समेत गांव महतोत, बाजीदपुर, संधूआं, बसी गुजरां, मकड़ोना खुर्द, ढौला मजारा, डूमछेड़ी, बैहदाली, रसूलपुर, मडोली कलां, फतेहगढ़ चतौली और झल्लीयां कलां गांवों के सेवा केंद्रों को सरकार बंद करने जा रही है। वहीं जिला हेडक्वार्टर रोपड़ ब्लाॅक के न्यू अनाज मंडी तथा पीडब्ल्यूडी कॉलोनी में स्थित सेवा केंद्र के साथ गांव रोडमजारा, माहलां, बहरामपुर जिमींदारां, खैराबाद, फूलपुर गरेवाल, मीयांपुर, हिरदापुर, तपाल माजरा, लौधीमाजरा आदि गांवों के सेवा केंद्र बंद किए जा रहे हैं। नूरपुरबेदी ब्लाॅक के तहसील परिसर तथा बीडीपीओ रेस्ट हाउस में स्थित कुल दो सेवा केंद्रों को छोड़कर बाकी सभी 9 सेवा केंद्र जिनमें गांव कांगड़, काहनपुरखूही, बड़वा, बैंस, टिब्बा टप्परीयां, टिब्बा नंगल, बजरूड़, गांव थाना और हरदोनिमोह गांवों के सेवा केंद्र बंद किए जा रहे हैं। आनंदपुर साहिब के बंद होने जा रहे 9 सेवा केंद्रों में बीडीपीओ आफिस आंनदपुर साहिब, नैना देवी रोड आनंदपुर साहिब सहित मैहंदली अप्पर, मस्सेवाल, मींडवां अप्पर, अगमपुर, कोटला, रामपुर झज्जर, ढेर गांव का ग्रामीण सेवा केंद्र बंद होने जा रहा है। नंगल एरिया में ग्रामीण और शहरी लोगों को सेवा दे रहे सेवा केंद्रों में से भनुपली, मणकपुर, भलाण, विभौर साहिब, गौलणी, सैहजोवाल, अजौली मोड़ नया नंगल स्थित केंद्र तथा बरारी पंचायत घर स्थित सेवा केंद्र बंद होने जा रहे हैं।

बंद होने वाले केंद्रों में 43 टाइप थ्री और 7 टाइप टू कैटागिरी के

बंद होने जा रहे कुल 50 सेवा केंद्रों में 43 केंद्र टाइप थ्री कैटागिरी के हैं। इनमे प्रत्येक केंद्र में एक कंप्यूटर ऑपरेटर की पोस्ट बनी हुई है। वहीं टाइप टू में 3 कंप्यूटर आॅपरेटर सहित कुल 5 लोग जाॅब कर रहे है। कैबिनेट के इस फैसले के बाद जिला रोपड़ के करोड़ों के इंफ्रास्ट्रक्चर के साथ 78 लोगों का रोजगार छिनेगा।

बादल सरकार ने कंडी के लोगों की सुविधा के लिए खोले थे केंद्र : डाॅ. चीमा

पूर्व शिक्षा मंत्री तथा अकाली दल के सीनियर उपाध्यक्ष और प्रवक्ता डाॅ. दलजीत सिंह चीमा ने मामले पर एतराज जताते कहा कि बादल सरकार ने कंडी क्षेत्र के लोगों को घर के पास में ही सुविधा देने तथा गांवों के बच्चों को रोजगार देने के लिए सेवा केंद्र खोलकर कदम उठाया था। लेकिन मौजूदा सरकार अब गरीब लोगों को मिलने वाली सुविधा छीनने के साथ ही बच्चों का रोजगार भी छीन रही है। सरकार को सेवा केंद्रों को बंद करने की बजाय इनका विस्तार करना चाहिए।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Ropar

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×