Hindi News »Punjab »Sangat» अभिनेत्री अनुष्का शर्मा के अतिरेक का कचरा

अभिनेत्री अनुष्का शर्मा के अतिरेक का कचरा

एक महंगी आयात की गई कार की खिड़की से कुछ कचरा सड़क पर फेंका गया और इस कार का पीछा करते हुए दूसरी कार ने इस कार के आगे...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jun 19, 2018, 02:35 AM IST

  • अभिनेत्री अनुष्का शर्मा के अतिरेक का कचरा
    +4और स्लाइड देखें
    एक महंगी आयात की गई कार की खिड़की से कुछ कचरा सड़क पर फेंका गया और इस कार का पीछा करते हुए दूसरी कार ने इस कार के आगे निकलकर उसे रुकने पर बाध्य किया। दूसरी कार से अनुष्का शर्मा ने। उसे खूब खरी-खोटी सुनाई और इस कदर लताड़ा मानो उसने अपनी कार से कचरा नहीं वरन् अणुबम फेंक दिया हो। कचरा फेंकने वाले ने क्षमा याचना करते हुए कचरा उठाकर डस्ट बिन में भले नहीं डाला परंतु अनुष्का शर्मा के सुंदर मुख से शब्दों का जलप्रपात कुछ ऐसा जारी रहा कि नियाग्रा के समकक्ष जा पहुंचा। विराट कोहली ने अनुष्का को शांत किया। इस घटना से यह चिंतनीय पहलू उभरता है कि हम अतिरेक को संयत नहीं कर पाते। एक व्यक्ति अपनी भूल पर क्षमा याचना कर चुका है परंतु उस पर शब्दों के हंटर मारे जा रहे हैं। यह अतिरेक ही सारे ‘नेक इरादों और साफ नीयत’ का खोखलापन उजागर कर देता है।

    अनुष्का शर्मा ने ‘एन.एच टेन’ नामक फिल्म बनाई थी, जिसके अंतिम हिस्से में एक महिला सहायता के लिए द्वार खटखटा रही थी परंतु पूरी बस्ती तो उस समय नौटंकी देख रही थी, जिसमें रामायण का कोई प्रसंग प्रस्तुत किया जा रहा था। दृश्य का प्रतीक प्रभावोत्पादक है कि पिछड़ते हुए देश में अवाम मायथोलॉजी में आकंठ डूबी हुई है। हमारी मायथोलॉजी ही आधुनिकता के लिए एक कभी नहीं खुलने वाला लौहकपाट बन चुकी है। आधुनिकता का अर्थ है तर्कसंगत विचार और आचरण न कि महिला द्वारा पहनी ऊंची एड़ी की सैन्डल या लिपस्टिक, भले ही आप बुर्का पहने हों।

    गिरीश कर्नाड द्वारा प्रस्तुत नाटक ‘हयवदन’ में एक महिला से एक पहलवान और एक कवि को प्रेम हो गया है। एक निर्जन स्थान पर भूले-बिसरे उजाड़ मंदिर में निद्रा में लीन देवी के मंदिर परिसर में दोनों प्रेमी युद्ध करते हुए एक-दूसरे का सिर धड़ से अलग कर देते हैं। महिला देवी से प्रार्थना करती है कि दोनों को प्राण देने की कृपा करें। जगाई गई देवी कहती हैं कि कटे हुए सिर धड़ पर रख दो, वे दोनों प्राणवान हो जाएंगे। देवी पुन: निद्रा में चली जाती हैं।

    पति में संपूर्णता की चाह से संचालित चतुर नार पहलवान का सिर कवि के धड़ पर और कवि का सिर पहलवान के धड़ पर इस मोह में रख देती है कि अब उसे कवि-सा संवेदनशील और पहलवान-सा बलिष्ट पति मिलेगा। कवि का सिर और पहलवान का शरीर पाया व्यक्ति कविताएं लिखते हुए कसरत बंद कर देता है। इसी तरह पहलवान का सिर कवि की तरह कमजोर काया प्राप्त व्यक्ति कसरत करने लगता है। उस स्त्री की संपूर्णता की चाह भंग हो जाती है। आज भी हम इसी तरह शासित हो रहे हैं। सरकारी विज्ञापन कहते हैं कि भारत अग्रणी देश बन चुका है परंतु महंगाई अपने शिखर पर पहुंच गई है और जीडीपी दर निचले पायदान पर लट्‌टू-सी घूमते हुए स्थिर नज़र आती है। अनुष्का शर्मा की तरह अतिरेक के शिकार अनगिनत लोग हो गए हैं। उनके द्वारा निर्माण की गई दूसरी फिल्म ‘फिल्लौरी’ भी इसी भ्रमित विचार प्रक्रिया का प्रमाण है। एक दूल्हा विवाह के समय नहीं पहुंच पाया। इस देरी के लिए फिल्म में जबरन जलियांवाला बाग की मानवीय त्रासद घटना को जोड़ दिया गया है।

    बहरहाल, अनुष्का शर्मा का ‘नेक इरादा और नीयत’ का खामियाजा उस व्यक्ति ने भुगता जो अपनी भूल पर क्षमा मांग चुका था। अब अनुष्का शर्मा को कौन बताए कि दिशा-निर्देश के लिए दानव, मानव व देवता पहुंचे थे और उनकी प्रार्थना के उत्तर में तीन बार ‘धा’ की ध्वनि हुई। दानव ने सोचा कि संकेत है कि वे दमन करें, देवताओं ने सोचा कि वे धर्म का पालन करें और मनुष्य के लिए संकेत था कि वह केवल दया करें। अब क्या महान कवि टी.एस. एलियट पुन: जन्म लेकर भारतवासियों को ‘दया’ की महानता का सबक सिखाएं?

    जयप्रकाश चौकसे

    फिल्म समीक्षक

    jpchoukse@dbcorp.in

    जयप्रकाश चौकसे

    फिल्म समीक्षक

    jpchoukse@dbcorp.in

     

    फोटोग्राफी... ‘पीपुल एंड नेचर’ श्रेणी में अंतरराष्ट्रीय पुरस्कार के लिए चुना गया यह फोटो

    यह फोटो बुखारेस्ट के वामा तट का है, जहां सूर्योदत के वक्त तट की रेत चमकने लगती है। वहां जो हट बनाई गई हैं, उनमें किसी भी तरह प्लास्टिक का इस्तेमाल नहीं किया गया है। वे सभी प्राकृतिक संसाधनों से बनाई गई हैं और संभवत: इसी बात को अमेरिका की ‘द नेचर कंजर्वेन्सी’ समूह ने पसंद किया। वहां के ज्यूरी सदस्यों ने इस फोटो को ‘पीपुल एंड नेचर’ श्रेणी में पुरस्कार के लिए चुना है। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर आयोजित इस स्पर्धा में 135 देशों से 57 हजार फोटोग्राफरों ने अपनी प्रविष्टियां भेजी थीं, उनमें से 12 का चयन किया गया है।

    लर्निंग... चिड़िया का घोंसला देखा तो किसानों ने रद्द किया पुराना घर तोड़ने का फैसला

    चीन के झेजियांग प्रांत की एक घटना पूरे देश की इंटरनेट वेबसाइटों पर चर्चित है। वहां के बारे में पता चला कि किसानों का समूह झुयुान कस्बे में स्थित पुराने लकड़ी के जर्जर मकान को तोड़ने की योजना बना चुका था। उसके लिए कुछ दिन पहले का समय निर्धारित था, लेकिन जब कार्रवाई की प्रक्रिया शुरू होने वाली थी तो किसानों एवं इंजीनियरों ने चहचहाने की आवाज सुनी।

    किसानों के समूह में से एक ने तुरंत ही सभी को काम करने से रोक दिया और वही आवाज गौर से सुनी। वे उसके करीब पहुंचे और देखा कि स्वालो (एक प्रकार की चिड़िया) का घोंसला था और उसमें उसके करीब चार छोटे-छोटे बच्चे थे। बच्चों के अलावा वहां स्वालो के साथ अंडे भी मौजूद थे। किसानों के समूह ने फैसला किया कि इन बच्चों के बड़े होने तक जर्जर मकान तोड़ा नहीं जाएगा, बल्कि यथावत रहने दिया जाएगा। यही नहीं, उन्होंने यह भी निश्चित किया कि इस घोंसले को कोई नुकसान नहीं पहुंचाए, इसकी निगरानी भी की जाएगा।

    चिड़िया के घोंसले में बैठे बच्चे अपना मुंह खोलकर तैयार बैठे थे, शायद उन्हें अपनी मां के आने का इंतजार था कि वह आएगी और उन्हें भोजन कराएगी। एक इंजीनियर ने बताया कि वे जर्जर मकान इसलिए तोड़ना चाहते थे क्योंकि वह भौगोलिक आपदा वाले क्षेत्र में स्थित था।

    en.people.cn

    यह फोटो रोमानिया के ही जॉर्ज बुफान ने क्लिक किया है। वे आमतौर पर नेचर फोटोग्राफी नहीं करते हैं, लेकिन कुछ दिन पहले सुबह के वक्त हेलिकॉप्टर यात्रा के दौरान उन्होंने यह फोटो क्लिक किया था।

    ‘द नेचर कंजर्वेन्सी’ वैश्विक समूह है जो 72 देशों में जलवायु परिवर्तन, भूमि-जल एवं समुद्र के संरक्षण के लिए काम करता है। इसका उद्देश्य जरूरतमंदों तक भोजन और स्वच्छ पेयजल मुहैया कराना है। nature.org

    वायरल... इंटरव्यू के पहले युवक को पुलिस अफसर ने पहनाई टाई

    अमेरिका के मिसौरी प्रांत के सेंट लुइ शहर में पुलिस के खिलाफ लोगों का विरोध प्रदर्शन आम बात है। सेंट लुइ में अश्वेत अमेरिकियों की आबादी अधिक है। वहीं कुछ समय पहले विली हैचर नाम का युवक जॉब इंटरव्यू के लिए जा रहा था, लेकिन उसने टाई अच्छी तरह नहीं बांधी थी। संभवत: उसे टाई बांधनी नहीं आती थी, लेकिन उसने कोशिश जरूर की थी।

    उसे इंटरव्यू के लिए जाते वक्त पुलिस ऑफिसर होवार्ड मार्शल और एबीनेट कार्पर ने देख लिया। उसकी टाई ढंग से नहीं बंधी थी। उनमें से एक अफसर ने टाई बांधने में विली की मदद की। वह मुस्कुराते हुए इंटरव्यू के लिए गया। दो दिन बाद पुलिस विभाग ने ही बताया कि विली को जॉब मिल गई है। विली ने भी बताया कि उसे एक नहीं, तीन जॉब मिली और वह मशहूर हो गया है। facebook.com

  • अभिनेत्री अनुष्का शर्मा के अतिरेक का कचरा
    +4और स्लाइड देखें
  • अभिनेत्री अनुष्का शर्मा के अतिरेक का कचरा
    +4और स्लाइड देखें
  • अभिनेत्री अनुष्का शर्मा के अतिरेक का कचरा
    +4और स्लाइड देखें
  • अभिनेत्री अनुष्का शर्मा के अतिरेक का कचरा
    +4और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Sangat

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×