Hindi News »Punjab »Sangat» मेरा कत्ल भी हो जाए तो डर नहीं, धार्मिक गुंडागर्दी बंद होनी चाहिए: ढडरियांवाले

मेरा कत्ल भी हो जाए तो डर नहीं, धार्मिक गुंडागर्दी बंद होनी चाहिए: ढडरियांवाले

भाई रणजीत सिंह ढडरियांवाले दमदमी टक्साल के साथ टकराव को लेकर एक बार फिर से सुर्खियाें में हैं। ढडरियांवालेे ने...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 27, 2018, 02:40 AM IST

मेरा कत्ल भी हो जाए तो डर नहीं, धार्मिक गुंडागर्दी बंद होनी चाहिए: ढडरियांवाले
भाई रणजीत सिंह ढडरियांवाले दमदमी टक्साल के साथ टकराव को लेकर एक बार फिर से सुर्खियाें में हैं। ढडरियांवालेे ने कहा कि वह हमें डराना चाहते हैं। दो साल पहले मेरे साथी को गोली मार दी गई। अगर उन्हें जान से मारने के बाद धार्मिक गुुंडागर्दी खत्म होती है और इससे लोग अवेयर होते हैं तो वह इसके लिए तैयार हैं। लेकिन वह कभी भी गलत को सही नहीं कहेंगे। अगर उन्हें कोई दिक्कत है तो वह अकाल तख्त साहिब या कोर्ट का सहारा लेे सकते हैं।

किसी को जान से मारने की धमकी देना गलत है। वह गुंडागर्दी पर ध्यान न देकर अपनी सोच और विचारों को मजबूत करें। अगर संगत उनके साथ नहीं जुड़ रही है तो उन्हें अपनी सोच बदलनी होगी। उन्हें यह सोचना चाहिए की युवा वर्ग और समाज को कैसे अागे लेकर जाएं। लेकिन वह एेसा नहीं कर रहे हैं, जो समाज को अागे लेकर जाना चाहते, उन्हें वह रोक रहे हैं। वह पहले भी सीबाई जांच की मांग कर चुके हैं लेकिन दोनों सरकारों ने कार्रवाई नहीं की।

दमदमी टकसाल को कैप्टन की चेतावनी का विरोध

अमृतसर | गुरमत सिद्धांत प्रचारकों ने भाई रणजीत सिंह ढडरियांवाले के विवाद के संबंध में दमदमी टकसाल को सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह की चेतावनी का विरोध किया है। तरना दल मेहता चौक के बाबा अजीत सिंह, बाबा दर्शन सिंह टाहला साहिब, बाबा कर्मजीत सिंह टिब्बा साहिब, बाबा गुरभेज सिंह खजाले वाले, संत कंवलजीत सिंह, संत सज्जन सिंह बेर साहिब, संत सुखवंत सिंह चन्नणके, संत बाबा गुरदीप सिंह खजाले, संत बाबा अमरीक सिहं कारसेवा वाले, बाबा दर्शन सिंह तल्ला साहिब, बाबा बलबीर सिंह टिब्बा आदि ने कहा कि कैप्टन जिम्मेदार ओहदे पर हैं उन्हें इस तरह की बयानबाजी नहीं करनी चाहिए। वे दमदमी टक्साल के मुखी संत हरनाम सिंह खालसा के हर आदेश का पालन करने के लिए तैयार हैं।

कोई समागम नहीं किया जाएगा रद्द

धार्मिक समागम रद्द करने के लिए दबाव डाला जाता है। टकराव से बचने के लिए कई बार दिवान नहीं सजाए। लेकिन यह गलत है। धमकियां मिल रही हैं। अपना धार्मिक प्रचार भी एेसे ही जारी रखेेंगे। कोई भी समागम रद्द नहीं किया गया है, उनके ज्यादा समागम विदेशों में रखे गए हैं।

गुरुद्वारा के बाहर पुलिस की तैनाती

दमदमी टक्साल के प्रवक्ता चरनजीत सिंह ने धार्मिक प्रोग्राम में ढडरियांवाले को गोली मारने की धमकी दी थी। वीडियो भी वायरल हुअा था। सरकार ने पहले हुए हमले को देखते हुए गुरुद्वारा के बाहर पुलिस तैनात कर दी। धार्मिक टकराव न हो इसके लिए ढंडरियावाले के काफिले में अब पुलिस फोर्स को लगाया गया है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Sangat

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×