• Hindi News
  • Punjab News
  • Sangat News
  • न दवा, न डॉक्टर, दस घंटे दीवार दिखा और पीटकर छुड़वा रहे थे नशा
--Advertisement--

न दवा, न डॉक्टर, दस घंटे दीवार दिखा और पीटकर छुड़वा रहे थे नशा

हेल्थ टीम ने अवैध नशामुक्ति केंद्र में रेड कर बंदी बनाए 23 मरीजों को छुड़ाया जबकि 7 मरीज भाग गए। संचालक भी फरार हो गए।...

Dainik Bhaskar

Jul 14, 2018, 02:45 AM IST
न दवा, न डॉक्टर, दस घंटे दीवार दिखा और पीटकर छुड़वा रहे थे नशा
हेल्थ टीम ने अवैध नशामुक्ति केंद्र में रेड कर बंदी बनाए 23 मरीजों को छुड़ाया जबकि 7 मरीज भाग गए। संचालक भी फरार हो गए। टीम ने रिकॉर्ड व सामान जब्त कर लिया है। मरीजों का आरोप है कि केंद्र में उन्हें रोज पीटा जाता था। 12 मरीजों को सिविल में भर्ती करवाया। अन्य को परिजन ले गए।

नशा मुक्ति केंद्र एकता फाउंडेशन के नाम से गांव राम नगर सीबिया के बस स्टैंड के पास स्थित एक कोठी में चल रहा था। टीम ने सूचना पर शुक्रवार सुबह 11 बजे रेड की। पता चलते ही संचालकों ने सभी मरीजों को साथ की कोठी में बंद कर दिया और भाग निकले। टीम की कार्रवाई शाम 6 बजे तक चली।

सिविल सर्जन डॉ. मनजीत िसंह ने कहा, शिकायत पर 10 से अधिक अधिकारियों की टीम के साथ रेड की। अवैध केंद्र में मरीजों को बांधकर मारपीट करने की बात सामने आई है। मरीज अधिक नशे के आदी नहीं हैं। पुलिस ने हरविन्द्र सिंह निवासी गगड़पुर समेत उसके साथियों पर बंधक बनाकर रखने और ठगी का मामला दर्ज किया है।

हर महीने 9 हजार रुपए लेते थे संचालक | मरीजों ने बताया कि उनके परिवार से नशा छुड़वाने के नाम पर 9 हजार प्रति माह लिए जाते थे। जबकि केंद्र में कोई डाक्टर तक नहीं है। केंद्र को गगड़पुर का व्यक्ति चला रहा था जिसने 10 युवक रखे थे जोकि मरीजों को जबरी घर से उठाकर लाते थे और उनसे मारपीट करते थे।

रोटी खाने को 1 मिनट, नहाने को 3 मिनट का समय देते थे : दविन्द्र

नाभा के दविंद्र सिंह ने बताया, उसे शराब की लत थी। 13 जुलाई की रात को उसे जबरी घर से उठा ले गए थे। दो दिन अंधेरे कमरे में रखा गया। रोटी खाने को 1 मिनट, नहाने को 3 मिनट और शौच के लिए भी 3 मिनट देते थे। यदि कोई मरीज अधिक समय लेता था तो उसे पीटते थे। संगरूर के कुलदीप ने बताया, उसे 5 से अधिक बार पीटा गया। खाने को खराब सब्जी देते थे। संचालक कपड़े धुलवाते थे।

सीसीटीवी पर फोटो दिखा मिलवातेे थे

समाना के गांव साहिजपुर खुर्द के गुरचरण सिंह ने बताया, वह 35 दिनों से यहां बंद है। उसे 10 घंटे तक दीवार की तरफ मुंह करके बिठा दिया जाता था। हिलने पर पीटा जाता था। घरवाले जब मिलने आते तो सीसीटीवी में उसकी फोटो दिखा दी जाती थी।

अवैध नशा मुक्ति केन्द्र से छुड़ाए युवक। मारपीट के निशान दिखाता एक पीड़ित।

इधर नशे की ओवरडोज से दो और युवकों की मौत

जंडियाला/फिरोजपुर | नशे की ओवरडोज से दो और युवकों की मौत हो गई। जंडियाला के गांव गहरी मंडी के हिमांशु की एक गांव में लाश मिली है। बताते हैं बाजू पर नशे का टीका लगाने के निशान हैं। मौत ओवरडोज से हुई है। फिरोजपुर के गांव गांव गुलामी वाला में नशे का टीका लगाने से जोधा सिंह की मौत हो गई। परिजनों के मुताबिक जोधा ने बीती शाम नशे का टीका लगाया था। हालत गंभीर होने पर उसे सिविल अस्पताल से फरीदकोट रैफर कर दिया, जहां उसकी मौत हो गई।

पंजाब को नशे की भट्ठी में झोंकने वालों पर सख्त कार्रवाई हो : जत्थेदार

संगत प्रशादे का नशा करे, युवाओं को बचाने का काम करे

अमृतसर | कुछ लोगों ने अपने निजी लालच के चलते नशे का धंधा शुरू किया और हंसते खेलते पंजाब की नौजवानी को नशे की भट्ठी में झोंक दिया। सरकार सख्त कार्रवाई कर नशे के सौदागरों को जेल में बंद करे, चाहे वह कितना भी बड़ा व्यक्ति या अफसर क्यों न हो। यह बातें अकाल तख्त के जत्थेदार ज्ञानी गुरबचन सिंह ने शुक्रवार को मीडिया से बातचीत में कही।

जत्थेदार ने कहा, सिख रहत मर्यादा के मुताबिक संगत को नशा केवल प्रशादे का ही रखने का हुक्म है, परंतु आज पंजाब नशे में इतना फंस चुका है, जिसके चलते हर पंथ दर्दी चिंतित है। उन्होंने कहा, नशे को रोकने को हर नागरिक अपना फर्ज समझते हुए अपने परिवार, गली मोहल्ले व गांव का ख्याल रखें। रास्ता भटक चुके युवाओं को बचाने के लिए हर कोशिश करें। जत्थेदार ने पंजाब सरकार को कहा कि वह नशे में फंसे नौजवानों का फ्री इलाज करवाए। कहा, नशे के खिलाफ पंजाब सरकार, एसजीपीसी, अकाली दल, दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी व अन्य संस्थाएं कोशिश कर रही हैं, फिर भी नशे का रुझान रुक नहीं रहा।

कलाकार भी आगे आएं

जत्थेदार ने नशे के िखलाफ बुद्धिजीवी वर्ग, डॉक्टराें, कलाकारों व मीडिया को आगे आने को कहा। शिक्षण संस्थानों का स्टाफ छात्रों को प्रेरित करें। पंजाब के कलाकार नशे के खिलाफ प्रोग्राम पेश करें। उन्होंने हर व्यक्ति को धर्म में परिपक्व रहने के साथ नशामुक्ति में भूमिका निभाने को कहा। आखिर में उन्होंने सभी को मिल कर इस बुराई के खिलाफ मजबूत मुहिम चलाने का संदेश दिया।

न दवा, न डॉक्टर, दस घंटे दीवार दिखा और पीटकर छुड़वा रहे थे नशा
न दवा, न डॉक्टर, दस घंटे दीवार दिखा और पीटकर छुड़वा रहे थे नशा
X
न दवा, न डॉक्टर, दस घंटे दीवार दिखा और पीटकर छुड़वा रहे थे नशा
न दवा, न डॉक्टर, दस घंटे दीवार दिखा और पीटकर छुड़वा रहे थे नशा
न दवा, न डॉक्टर, दस घंटे दीवार दिखा और पीटकर छुड़वा रहे थे नशा
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..