• Home
  • Punjab News
  • Sangat News
  • एसआईटी की डेराप्रेमी बिट्‌टू के घर रेड साहित्य और 28 खाली कारतूस बरामद
--Advertisement--

एसआईटी की डेराप्रेमी बिट्‌टू के घर रेड साहित्य और 28 खाली कारतूस बरामद

करीब तीन साल पहले बरगाड़ी में हुए श्री गुरु ग्रंथ साहिब की बेअदबी मामले में एसआईटी मंगलवार देर रात पालमपुर से...

Danik Bhaskar | Jun 14, 2018, 03:05 AM IST
करीब तीन साल पहले बरगाड़ी में हुए श्री गुरु ग्रंथ साहिब की बेअदबी

मामले में एसआईटी मंगलवार देर रात पालमपुर से पकड़े गए महिंदर पाल बिट्‌टू के बेटे वरिंदर पाल को उठा ले गई। बुधवार देर शाम टीम ने वरिंदर को साथ लेकर महिंदर पाल बिट्‌टू के जाेडियां चक्कियां के पास स्थित घर पर छापेमारी की। कार्रवाई से पहले पूरा क्षेत्र सील कर दिया गया व किसी को भी मोहल्ले में आने जाने नहीं दिया गया।

डीआईजी रणबीर सिंह खटड़ा ने बताया, रेड के दौरान बिट्‌टू के घर से श्री गुरु नानक देव जी की जन्म साखी की एक प्रति व 32 बोर पिस्तौल के करीब 28 खाली कारतूस मिले। इस बरामदगी को लेकर पुलिस ने महिंदर पाल बिट्‌टू इंसा पर मामला दर्ज कर लिया। डीआईजी ने बताया कि इससे पहले पुलिस टीम ने मुक्तसर रोड पर स्थित डेरा प्रेमी जगजीत सिंह कंडा के निवास पर भी छापामारी की थी व वहां से श्री गुरु ग्रंथ साहिब शब्दार्थ वाली धार्मिक पोथी व कुछ अन्य धार्मिक साहित्य बरामद हुआ जिसे पुलिस ने सत्कार सहित पास के गुरुद्वारे में पहुंचा दिया। इस मामले को संवेदनशील करार देते हुए खटड़ा ने बताया कि जांच चल रही है। ऐसे में कुछ बताने से जांच प्रभावित हो सकती है। बता दें, एसआईटी ने चार-पांच दिन में जिले भर से दर्जन से अधिक डेरा प्रेमियों को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया है।

कार्रवाई से पहले इलाका सील कर दिया

डेरा प्रेमी महिंदर पाल बिट्‌टू के घर के बाहर खड़े पुलिस वाले।

बेअदबी के जिम्मेदारों को तुरंत सजा मिले : लौंगोवाल

अमृतसर | एसजीपीसी प्रधान गोबिंद सिंह लौंगोवाल ने बेअदबी की घटनाओं के लिए जिम्मेदार लोगों के खिलाफ सख्त कानून बनाने की मांग की है। उन्होंने सरकार को कहा कि ऐसी घटना में जिम्मेदार की पहचान होने के बाद उसे तुरंत सजा दिए जाने की व्यवस्था होनी चाहिए। यह बात उन्होंने नवांशहर के गांव बछौड़ी में बेअदबी की घटना की निंदा करते हुए भेजे प्रैस बयान में कही। उन्होंने कहा, बेअदबी की घटनाओं को रोकने के लिए संगत को यकीनी बनाना होगा कि गुरुघरों में हर समय निगरानी के लिए जिम्मेदार व्यक्ति हाजिर रहे।