Home | Punjab | Sangat | बढ़ेगी खूबसूरती : 40 किलो सोने से चमकेंगे दरबार साहिब के प्रवेश द्वारों के गुंबद

बढ़ेगी खूबसूरती : 40 किलो सोने से चमकेंगे दरबार साहिब के प्रवेश द्वारों के गुंबद

दुनियाभर में अपनी स्वर्णिम छटा के लिए मशहूर सिखों के सबसे बड़े धर्मस्थल श्री दरबार साहिब के चारों प्रवेश द्वार भी...

Bhaskar News Network| Last Modified - Jun 11, 2018, 03:15 AM IST

1 of
बढ़ेगी खूबसूरती : 40 किलो सोने से चमकेंगे दरबार साहिब के प्रवेश द्वारों के गुंबद
दुनियाभर में अपनी स्वर्णिम छटा के लिए मशहूर सिखों के सबसे बड़े धर्मस्थल श्री दरबार साहिब के चारों प्रवेश द्वार भी अब 40 किलो सोने से चमकेंगे। इनको सोने की पतरों से सजाया जाएगा। इसके पहले चरण के तहत घंटा घर साइड के प्रवेश द्वार (मेन गेट) की दर्शनी ड्योढ़ी के गुंबदों पर पतरे चढ़ाने का काम शुरू भी कर दिया गया है। पतरे लगाने की कार सेवा का जिम्मा शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी ने बाबा कश्मीर सिंह भूरीवाले को सौंपा है। बाबा भूरी वाले के प्रवक्ता राम सिंह के मुताबिक मुख्य द्वारों के चारों गुंबदों के अलावा 4 छोटे गुंबद, 50 छोटी गुंबदियां और 2 पालकी हैं। सभी पर सोना लगाने का काम अगले साल की बैसाखी तक पूरा हो जाएगा। इस काम पर 40 किलो से अधिक सोना लगेगा। बताते चलें कि श्री दरबार साहिब के 4 प्रवेश द्वार हैं। घंटा घर वाली साइड के प्रवेश द्वार के गुंबदों की कार सेवा मुकम्मल होने के बाद दूसरे प्रवेश द्वार भी सोने से सजाए जाएंगे। गौरतलब है कि बाबा भूरी वाले ही श्री दरबार साहिब की दर्शनी ड्योढ़ी के ऐतिहासिक दरवाजों की सेवा भी करवा रहे हैं।

बैसाखी तक पूरा होगा सोना लगाने का काम, पहले चरण में मेन गेट की दर्शनी ड्योढ़ी के गुंबदों पर पतरे चढ़ाना शुरू

चारों गुंबदों के अलावा 4 छोटे गुंबद, 50 छोटी गुंबदियां और 2 पालकी पर भी लगाया जाएगा सोना

सोना चमक न छोड़े इसलिए 22 परते चढ़ाई गईं

16 गेज तांबे के पतरों पर पारे की मदद से सोने की 22 परतें चढ़ाई गई हैं। समय के साथ-साथ धूप और बारिश के कारण सोने की चमक खराब न हो, इसके लिए इतनी परतें चढ़ाई जाती हैं।

संगत के दान से ही होती है सोना चढ़ाने की कारसेवा

कार सेवा करवाने वालों की ओर से संगत के चढ़ावे के लिए गोलक लगाई जाती है। इसमें संगत अपनी श्रद्धा के मुताबिक पैसे व साेना चढ़ाती है। यहां से ही सारा प्रबंध किया जाता है। गुरुघर के लिए किसी व्यक्ति विशेष से सहायता नहीं मांगी जाती।

4 महीने की तैयारी के बाद हुई पतरें बनानी की शुरुआत

बाबा भूरीवाले को सेवा नवंबर 2017 में मिली। इसके बाद उन्होंने सोने से पतरे बनाने की शुरुआत की। उन्होंने बताया कि गुंबदों पर सोना लगाने से पहले उसकी तैयारी के बेस बनाया जाता है। तांबे के बेस पर माहिर कारीगरों की ओर से पारे की मदद से सोना चढ़ाया जाता है। दर्शनी ड्योढ़ी के गुंबद पर सोना लगाने की तैयारी के लिए तांबे का बेस बनाया गया। करीब चार महीने की तैयारी के बाद सोना चढ़ाने की शुरुआत 10 फरवरी को दरबार साहिब के अरदासिये कुलविंदर सिंह की ओर से अरदास के बाद की गई। सेवा के पहले दिन गुंबद के 10 माेजबान (पतरे) लगाए गए थे। अब मेन गेट के गुंबदों की सेवा पूरा होने को है।

बढ़ेगी खूबसूरती : 40 किलो सोने से चमकेंगे दरबार साहिब के प्रवेश द्वारों के गुंबद
prev
next
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending Now