अस्पताल में साथी युवक की पिटाई के बाद परिवार ने जान का खतरा बता मांगी सुरक्षा

Sangrur News - गांव बडरूखां में खुले में फेंकी गई सिरिंज से चिट्टे की डोज लेने का मामला उजागर होने के 8 दिन बाद दो और युवकों की...

Bhaskar News Network

Jul 14, 2019, 08:35 AM IST
Sangrur News - family threatened to kill life after beating fellow man in hospital
गांव बडरूखां में खुले में फेंकी गई सिरिंज से चिट्टे की डोज लेने का मामला उजागर होने के 8 दिन बाद दो और युवकों की पहचान की जा चुकी है। दोनों युवकों को मेडिकल जांच में हेपेटाईटिस-बी पॉजीटिव पाया गया है। इससे पहले प्रशासन चिट्टे की गिरफ्त में फंसे 17 युवकों की पहचान कर चुका है। हैरत इस बात की है कि मामले में संगरूर नशा तस्करों के नाम और अड्डों तक का खुलासा हो चुका है बावजूद पुलिस चिट्टे की सप्लाई नहीं रोक पा रही है। नशा तस्करी मामले में किरकिरी होने के बाद प्रशासन लगातार बडरूखां गांव पर नजर बनाए हुए है। शुक्रवार को दो और नए नशे के आदी युवकों का पता लगाकर उनकी सेहत की जांच करवाई गई थी। शनिवार को रिपोर्ट आने पर दोनों युवक हेपेटाइटिस-बी पॉजीटिव भी पाए गए हैं। जिनका उपचार शुरू कर दिया गया है। इससे पहले सेहत विभाग सिविल अस्पताल में 4 और घाबदां पुनर्वास केंद्र में 13 युवकों का उपचार कर रहा है, जिनकी लगातार सेहत की जांच भी करवाई जा रही है। युवकों को उपचार के साथ- साथ नशा छोड़ने के लिए मजबूत बनाने को काउंसलिंग भी की जा रही है।

नशा तस्करों को नहीं पुलिस का खौफ

मामले में नशे के आदी युवक संगरूर की राम नगर बस्ती और अजीत नगर में नशा तस्करों के नाम और ठिकानों को उजागर कर चुके हैं। हालांकि पुलिस तीन लोगों को गिरफ्तार भी कर चुकी है परंतु चिट्टे की सप्लाई को नहीं तोड़ पा रही है। शुक्रवार भी जिले में 105 ग्राम चिट्टा बरामद किया जा चुका है। मामले में गिरफ्तार किए गए आरोपियों के विरूद्ध दर्ज रिपोर्ट बता रही है कि नशा तस्कर बेखौफ नशे की बिक्री कर रहे हैं। भवानीगढ़ में तो पुलिस ने जगसीर सिंह उर्फ जग्गू को सरेआम गांवों में चिट्टा बेचते हुए काबू किया है। आरोपी से 50 ग्राम चिट्टा भी बरामद किया गया है। नशा दिल्ली से संगरूर में पहुंच रहा है।

सरकारी अस्पताल से भी मिल जाती हैं प्रयुक्त सिरिंज

नशा मुक्ति केंद्र में उपचाराधीन एक युवक ने खुलासा किया है कि बडरूखां के प्लाॅट में फेंकी गई सिरिंजों के अलावा वह अस्पताल में ही तैनात एक सरकारी कर्मचारी से इस्तेमाल की गई सीरिंज लेकर जाते रहे हैं। कर्मचारी खुद नशा करने का आदी है।

बताए ठिकानों पर पुलिस ने की रेड | संगरूर अस्पताल के नशा मुक्ति केन्द्र में दाखिल बडरूखां निवासी युवक पर उसके सार्थियों की ओर से किए गए हमले के बाद परिवार चिंता में है। युवक के चाचा का कहना है कि भतीजे की निशानदेही पर ही नशा करने वाले युवकों की पहचान हो सकी है, जिस कारण दूसरे नशेड़ी युवक और नशा तस्कर उनके परिवार के दुश्मन बन गए हैं। इसी रंजिश के चलते बुधवार को अस्पताल के नशा मुक्ति केंद्र में दाखिल उसके भतीजे पर दूसरे नशे के आदी युवकों ने हमला भी किया था। इसलिए पुलिस प्रशासन को उन्हें सुरक्षा मुहैया करवाई जानी चाहिए।

तीन नशा तस्कर किए काबू : एसएसपी

एसएसपी डॉ. संदीप गर्ग ने कहा कि युवकों के बताए गए तीन नशा तस्करों को पुलिस गिरफ्तार कर चुकी हैं। मामले से संबंधित लोगों के बयान दर्ज कर जांच जारी है।

जांच करवाएंगे : सिविल सर्जन

सिविल सर्जन डॉ गुरशरण सिंह ने कहा कि अस्पताल में अधिकतर ऑटो डिसऐबल सिरिंजों को ही इस्तेमाल किया जाता है। बावजूद इसकी जांच की जाएगी।

इधर ... बरनाला में चिट्टे की ओवरडोज से मौत

बरनाला | अगले महीने कनाडा जाने की तैयारी कर रहे परिवार के इकलौते बेटे की चिट्टे की ओवरडोज से मौत हो गई। मृतक हलका महलकलां के गांव मांगेवाल का था। मृतक हरजोत सिंह (22) के पिता बलवीर सिंह ने बताया कि पिछले कुछ समय से उसका बेटा नशे का शिकार था। 5 दिन से वह अपनी बुआ से पास गांव मंनवी तहसील मालेरकोटला में गया हुआ था। उसे 12 जुलाई को घर में लौटना था लेकिन वह शाम तक नहीं लौटा। उन्हें किसी ने सूचना दी कि मालेरकोटला रोड पर गांव संदौड़ में एक मोटर पर उनका बेटा बेहोश पड़ा है। गांव के डॉक्टरों के पास ले आए। डॉक्टरों के बाद वह सिविल अस्पताल में ले आए। वहां से उसे लुधियाना ले गए। जहां पर देर रात डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। बलवीर सिंह ने बताया कि गांव के कुछ लड़कों ने ही उसे नशे की लत लगाई। एसएचओ थाना ठुल्लीवाल गुरप्रीत सिंह ने कहा कि रविवार को सिविल अस्पताल में उसका पोस्टमार्टम किया जाएगा। उसके बाद ही बयान दर्ज किए जाएंगे, जिसके आधार पर अगली कार्रवाई की जाएगी।

सरकारी अस्पताल से भी मिल जातीं हैं इस्तेमाल की गई सिरिंज : उपचाराधीन युवक

X
Sangrur News - family threatened to kill life after beating fellow man in hospital
COMMENT