Hindi News »Punjab »Sangrur» संस्कृति की संभाल जरूरी है : हंस राज हंस

संस्कृति की संभाल जरूरी है : हंस राज हंस

दी ग्लोबल इंटरनेशनल नूमिसमैटिक एंड फ्लैटिक सोसायटी की ओर सेे पुरातन चीजों का प्रदर्शित किया गया, जिसमें पुराना...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 17, 2018, 04:00 AM IST

संस्कृति की संभाल जरूरी है : हंस राज हंस
दी ग्लोबल इंटरनेशनल नूमिसमैटिक एंड फ्लैटिक सोसायटी की ओर सेे पुरातन चीजों का प्रदर्शित किया गया, जिसमें पुराना मोटरसाइकिल, स्कूटर, म्यूजिकल डिब्बे, सिक्के, बैंक नोट, करंसी, कुषाण काल, मुगल काल, इंडियन स्टेट सिक्के, फूलकारी, दरियां, पित्तल के गिलास, पेटिंग, भारतीय गणतंत्र के सिक्के, पुराने बर्तन, पुराने कैमरे, ग्राम फोन, पुरानी किताबें, मिट्टी के तेल के लैंप, डाक की टिकटें व ब्रिटिश साम्राज्य का पुराना कांच का सामान लगाया गया। गायक हंस राज हंस ने मुख्य मेहमान के तौर पर शिरकत की। इस दौरान गायक हंस राज हंस ने कहा संस्कृति की संभाल बहुत जरूरी है। तो ही आने वाली पीढ़ी को अपने इतिहास के बारे में पता चलता है। उन्होंने कहा कि अगर किसी देश के बारे में जानकारी प्राप्त करनी हो तो पहले उसकी संस्कृति के बारे में जान ले। अश्वनी चौधरी ने कहा कि हमारे लक्ष्य है कि एजुकेशन, पुरानी चीजों को संभाल कर रखना व नशामुक्त समाज होना व संस्था के साथ लोगों को जोड़ना।

संस्था की ओर से मुख्य मेहमान हंस राज हंस को सम्मानित भी किया गया। इस मौके पर दिनेश एडवोकेट, गौतम चौधरी, मनिंदर बराड़, बलविंदर जिंदल, सुरिंदर शर्मा, भूपिंदर सिंह, प्रमोद गर्ग, विजय साहनी, रिकू गर्ग आदि उपस्थित थे।

दी ग्लोबल इंटरनेशनल नूमिसमैटिक एंड फ्लैटिक सोसायटी ने पुरातन वस्तुओं को प्रदर्शित किया

संगरूर में हंसराज हंस पुरातन चीजों के संबंध में जानकारी प्राप्त करते हुए।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Sangrur

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×