हिंदू-सिख एकता का प्रतीक नगन बाबा साहिब की बरसी आज

Sangrur News - नाभा गेट स्थित नगन बाबा साहिब दास समाध हिंदू-सिख एकता का प्रतीक है। बाबा जी की समाधि पर हर धर्म के लोग आस्था के साथ...

Bhaskar News Network

Oct 12, 2019, 08:51 AM IST
Sangrur News - today is the anniversary of nagan baba sahib a symbol of hindu sikh unity
नाभा गेट स्थित नगन बाबा साहिब दास समाध हिंदू-सिख एकता का प्रतीक है। बाबा जी की समाधि पर हर धर्म के लोग आस्था के साथ आते हैं और सद्भावना का संदेश देते हैं। समाधि में एक तरफ श्री गुरुग्रंथ साहिब जी विराजमान हैं तो दूसरी तरफ रामायण। यही नहीं ट्रस्ट की ओर से युवाओं को शिक्षा व खेलों से जोड़ने के लिए स्कूल व खेल अकादमी का निर्माण भी किया गया है। मान्यता है कि समाधि पर सच्चे दिल से मांगी गई हर मनोकामना पूरी होती है। शनिवार को बाबा नगन दास जी बरसी धूमधाम से मनाई जा रही है। इस संबंध में वीरवार से समाध पर धार्मिक कार्यक्रम का आयोजन चल रहा है। शुक्रवार को शाम 4 से 5 बजे तक संत बाबा दर्शन सिंह जी ने कीर्तन संगतों को निहाल किया। शनिवार को संत बाबा सुखविंदर सिंह जी टिब्बे वाले शाम 4 से 5 बजे कीर्तन से संगतों को निहाल करेंगे।

प्रति वर्ष मनाई जाती है बरसी :

अब इस स्थान पर प्रति वर्ष उनकी बरसी मनाई जाती है। सभी धर्मों के लोग यहां पर नतमस्तक होते हैं। गुरूद्वारा साहिब में श्री गुरु ग्रंथ साहिब जी का प्रकाश किया गया है। यहां प्रत्येक पूर्णमासी को सहज पाठ का भोग व हवन किया जाता है। प्रतिदिन रामायण जी की कथा होती है। प्रतिदिन सुबह-शाम कीर्तन किया जाता है। हर रविवार सुखमणि साहिब का पाठ संगत मिलजुलकर करती है। प्रतिदिन दोपहर को लंगर बरताया जाता है। जून माह में हर साल जागरण का आयोजन होता है। जन्माष्टमी पर झांकियां भी लगाई जाती हैं।

संत बाबा सुखविंदर सिंह जी टिब्बे वाले शाम 4 से 5 बजे कीर्तन से संगत को करेंगे निहाल

संगरूर की नगन बाबा साहिब दास जी की बरसी पर रोशनी से जगमग तप स्थान।

इतिहास के पन्नों से : फौज में थे तब अधिकारी को किया चकित

नगन बाबा साहिब दास जी बचपन से ही संत स्वभाव के थे। जवानी के दौरान उन्हें पहलवानी का शौक था। जिसके बाद वह फौज में भर्ती हुए। जहां पर उनकी मुलाकात संत बाबा अतर सिंह जी से हुई। दोनों का स्वभाव एक जैसा था। दोनों ने फौज में नौकरी छोड़ने का फैसला लिया परंतु अधिकारी ने उन्हें आज्ञा नहीं दी। जिसके बाद दोनों के नाम हाजिरी रजिस्टर से गायब हो गए। जब अधिकारी को इसका अनुभव हुआ तो उन्होंने महापुरुषों से माफी मांग घर जाने की आज्ञा दी।

12 साल मौन रह तप किया

इस स्थान पर बाबा जी माजरी (हरियाणा) से आए थे। जहां पर उन्होंने 12 साल तक मौन धारण कर तप किया। इस स्थान के नजदीक तलाब में रानियां स्नान करती थी। कुछ लोगों की शिकायत पर राजा ने नगन बाबा जी काे बुरा भला कहा परंतु उसके बाद रोज चलने वाली तोप बंद हो गई। इस तोप को रोटी खाने के समय चलाया जाता था। जब राजा को अपनी गलती का अहसास हुआ तो उन्होंने बाबा जी से माफी मांगी। इसके बाद लोगों की बाबा जी में आस्था बढ़ती गई। इसी जगह पर 1908 में बाबा जी ज्योति में विलीन हाे गए।

आर्यभट्ट के विद्यार्थियों का जिला स्तरीय स्केटिंग मुकाबले में शानदार प्रदर्शन

1000 मीटर स्केटिंग रेस में अरमान दीप सिंह प्रथम

बरनाला, आर्यभट्ट इंटरनेशनल स्कूल बरनाला में जिला स्तरीय स्केटिंग मुकाबले में स्कूल के विद्यार्थियों ने अच्छी पोजिशन हासिल की। इसमें स्कूल के विद्यार्थियों ने अंडर-14 मुकाबले में अरमान दीप सिंह ने 1000 मीटर स्केटिंग रेस में पहला स्थान, 500 मीटर रेस में दूसरा स्थान, जशनदीप सिंह ने 1000 मीटर रेस में दूसरा, 2000 मीटर रेस में तीसरा स्थान प्राप्त किया। इनलाइन प्रतियोगिता में अनमोलप्रीत ने 1000 मीटर में पहला, 500 मीटर में तीसरा स्थान हासिल किया। यह मुकाबले स्प्रिंग वैली स्कूल बरनाला में करवाए गए। स्कूल प्रिंसिपल शशिकांत मिश्रा ने सभी विजेता खिलाड़ियों को इनाम देकर पुरस्कृत किया। कोच कुलदीप सिंह को बधाई देकर प्रशंसा की गई। स्कूल की तरफ से सभी बच्चों को खेल के साथ जोड़ने के लिए कई संभव प्रयास किए जाते हैं और खेलों से जुड़ी गतिविधियां समय-समय पर करवाई जाती हैं।

विजेता खिलाड़ियों को सम्मानित करते हुए स्कूल प्रबंधक।

शिक्षा व खेलों को दिया जा रहा बढ़ावा|धन-धन नगन बाबा साहिब दास प्रबंधक कमेटी के प्रधान प्रेम शर्मा और सेवा दल के प्रधान हरीश अरोड़ा और सेवादार संदीप दानियां ने बताया कि यहां पर प्रत्येक धर्म के लोग माथा टेकते हैं। ट्रस्ट द्वारा सोहियां रोड पर पहली से लेकर दसवीं कक्षा तक स्कूल भी चलाया जा रहा है। जिसमें जरूरतमंद बच्चों को शिक्षा दी जाती है। 2004 से बाबा जी के नाम पर हॉकी अकादमी व रेसलिंग अखाड़ा भी चल रहा है।

जिला स्तरीय किक बाॅक्सिंग मुकाबलों में सुखप्रीत सिंह काे गोल्ड मेडल

संगरूर, जिला स्तरीय किक बाॅक्सिंग मुकाबलों में एकेडमिक हाइट्स पब्लिक स्कूल के छात्र सुखप्रीत सिंह ने गोल्ड मेडल जीत माता-पिता व स्कूल का नाम रोशन किया है। जानकारी देते प्रिंसिपल रीतू राणा ने बताया कि मुकाबलों में करीब 22 जिलों से 500 खिलाड़ियों ने भाग लिया था। जिनमें उनके स्कूल में आठवीं कक्षा में पढ़ते सुखप्रीत सिंह ने कोच गुरप्रीत सिंह की अगुवाई में खेलों में भाग लिया। जिसमें उसने गोल्ड जीत स्कूल व माता-पिता का नाम रोशन किया। जिसे राज्य स्तरीय खेलों के लिए भी चुना गया है। स्कूल के चेयरमैन संजय सिंगला ने छात्र व उसके माता-पिता को बधाई दी।

लहरागागा के एकेडमिक हाइट्स स्कूल में छात्र को सम्मानित करते गणमान्य।

Sangrur News - today is the anniversary of nagan baba sahib a symbol of hindu sikh unity
Sangrur News - today is the anniversary of nagan baba sahib a symbol of hindu sikh unity
X
Sangrur News - today is the anniversary of nagan baba sahib a symbol of hindu sikh unity
Sangrur News - today is the anniversary of nagan baba sahib a symbol of hindu sikh unity
Sangrur News - today is the anniversary of nagan baba sahib a symbol of hindu sikh unity
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना