• Home
  • Punjab News
  • Sunam News
  • डीए की बकाया किश्तों के लिए पंचायत समिति कर्मचारी यूनियन का प्रदर्शन जारी
--Advertisement--

डीए की बकाया किश्तों के लिए पंचायत समिति कर्मचारी यूनियन का प्रदर्शन जारी

पंचायत समिति कर्मचारी यूनियन की ओर से अपनी मांगों को लेकर पिछले 8 दिनों से किया गया संघर्ष बुधवार को भी जारी रहा है।...

Danik Bhaskar | Apr 05, 2018, 03:35 AM IST
पंचायत समिति कर्मचारी यूनियन की ओर से अपनी मांगों को लेकर पिछले 8 दिनों से किया गया संघर्ष बुधवार को भी जारी रहा है। बुधवार को यूनियन सदस्यों से ब्लॉक पंचायत कार्यालय के समक्ष धरना देकर रोष जाहिर किया।

धरने को संबोधित करते हुए यूनियन के ब्लॉक प्रधान कुलदीप सिंह ने कहा कि कर्मचारी पिछले लंबे समय से अपनी जायज मांगों को लेकर प्रदर्शन कर रहे हैं, परंतु सरकार उनकी मांगों को अनदेखा कर रही है। इस कारण कर्मचारियों में सरकार के प्रति रोष बढ़ता जा रहा है। अपनी मांगों को लेकर राज्य भर के कर्मचारी कलम छोड़ हड़ताल कर सरकारी कार्यों का बॉयकाट कर चुके है, जिस कारण कार्यालय में काम पर आने वाले लोग खाली हाथ लौट रहे हैं। यदि सरकार ने उनकी मांगों की तरफ ध्यान नहीं दिया तो यूनियन तीखे संघर्ष को मजबूर होगी। उन्होंने मांग की कि कर्मचारियों और अधिकारियों की तरक्की की जाए। डीए की बकाया किश्तें जारी की जाएं। 2001 से भर्ती किए गए कर्मचारियों की पुरानी पेंशन स्कीम को लागू किया जाए। समिति कर्मचारियों का वेतन पंजाब सरकार के खजाना विभाग से जारी किया जाए। इस मौके पर कुलदीप सिंह, बलदेव सिंह, रंजन तलवाड़, राम सिंह, पवन कुमार, प्रीतम सिंह, परम कुमार, गुरविन्द्र कौर, प्रगट आदि उपस्थित थे। (टिंका)

धरने के दौरान नारेबाजी करते पंचायत समिति कर्मचारी यूनियन के सदस्य।

वेतन के लिए कर्मचारियों ने दिया धरना

भवानीगढ़ |ब्लॉक समिति व जिला परिषद के कर्मचारियों की ओर से अपनी मांगों को लेकर शुरू किया गया संघर्ष बुधवार को भी जारी रहा है। गुस्साए कर्मचारियों ने ब्लॉक समिति कार्यालय के समक्ष धरना देकर पंजाब सरकार के विरूद्ध नारेबाजी की। धरने को संबोधित करते हुए टैक्स कलेक्टर यूनियन के राज्य प्रधान जतिन्द्र सिंह, पंचायत यूनियन के ब्लॉक प्रधान धर्म सिंह ने कहा कि पंजाब के विभिन्न ब्लॉकों में कर्मचारियों को पिछले लंबे समय से वेतन नहीं मिला है। जिस कारण उन्हें काफी परेशानी उठानी पड़ रही है। उन्होंने मांग की कि उन्हें दूसरे सरकारी कर्मचारियों की तरह सरकारी खजाने से वेतन मिले। पंचायत अधिकारियों और सुपरिडेंटों को सरकार प्रमोट करके डीडीपीओ या ईओपीएस लगाए। 2004 से पहले की पेंशन बहाल की जाए। यूनियन की ओर से अपनी मांगों को लेकर 5 अप्रैल को पंजाब के सभी डिप्टी कमीशनरों को ज्ञापन सौंपे जाएंगे। (लखविंदर)

ईपीएफ कटौती को डीसी को सौंपा ज्ञापन

बरनाला| ग्रामीण विकास और पंचायतों विभाग में पिछले दस वर्षों से मनरेगा में काम कर रहे मुलाजिमों की मनरेगा कर्मचारी यूनियन पंजाब की जिला स्तरीय मीटिंग बीडीपीअो दफ्तर बरनाला में हुई। इसमें विभिन्न ब्लाकों में काम करते मुलाजिमों के ईपीएफ काटने और अन्य जायज मांगों संबंधित मांग पत्र डिप्टी कमिश्नर बरनाला धर्मपाल गुप्ता को दिया। इसमें मनरेगा कर्मचारियों को इन्सेंटिव के रूप में कंटेनजेंसी को बराबर बांट कर देना, मुलाजिमों की सैलरी अगले वित्तीय वर्ष से 50 प्रतिशत विस्तार करके देना और जिले भर में आउटसोर्सिंग एजेंसी के द्वारा रखे मुलाजिमों को मनरेगा स्कीम में ठेके पर पहल के आधार पर भर्ती करना शामिल है। इस मौके पर ब्लाक प्रधान बरनाला गुरप्रीत सिंह, ब्लाक प्रधान शैहणा गुरदीप दास, अमनदीप सिंह चहल, परमिंद्र सिंह, कुलविन्द्र सिंह, अमनदीप सिंह, जसवीर सिंह, गुरप्रीत सिंह शेरगिल्ल, बलकरन सिंह, जतिंद्र कुमार, दिलप्रीत सिंह जटाना, हरदीप सिंह, हरविन्द्र सिंह उपस्थित थे। (कपिल गर्ग)