--Advertisement--

सरकार सेवा न कर मेवा खाना चाहती है : अमन

सुनाम के विधायक अमन अरोड़ा ने मुख्यमंत्री को फिर से चिट्ठी लिखकर सुनाम हलके के सेवा केंद्रों को ऑनलाइन पोर्टल के...

Danik Bhaskar | Jan 29, 2018, 06:20 PM IST
सुनाम के विधायक अमन अरोड़ा ने मुख्यमंत्री को फिर से चिट्ठी लिखकर सुनाम हलके के सेवा केंद्रों को ऑनलाइन पोर्टल के साथ जोड़ने की मांग की है ताकि इस सुविधा के शुरू होने से सुनाम हलके के लोग सरकारी अधिकारियों और दफ्तरों में होती परेशानी से बच सकें। इस संबंधी अमन अरोड़ा 23 दिसंबर को भी मुख्यमंत्री को चिट्ठी लिख चुके हैं। रविवार को अपने निवास स्थान पर पत्रकारों से बातचीत करते अमन अरोड़ा ने कहा कि पंजाब सरकार 24 जनवरी को हुई कैबिनेट की बैठक में पंजाब के 2147 सेवा केंद्रों में से 1647 सेवा केंद्रों को बंद करने का फैसला ले चुकी है, क्योंकि इन सेवा केंद्रों से सरकार को आमदन नहीं हो रही। जिससे साफ जाहिर होता है कि सरकार लोगों की सेवा नहीं, बल्कि मेवा खाना चाहती है।

उन्होंने कहा कि यदि सरकार सेवा केंद्रों को बंद करने का फैसला ले चुकी है तो क्यों न सरकार उन्हें 6 महीने के लिए पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर ही उन सेवा केंद्रों को चलाने की इजाजत दे। जिससे वह सिद्ध कर सकें कि यदि नीयत साफ हो तो हर काम को पूरा किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि वह सुनाम के लोगों के लिए चलते फिरते सेवा केंद्र बनाकर लोगों के दरवाजे पर सेवा शुरू करेंगे। मोबाइल केंद्र बनाकर प्रत्येक गांव जाकर लोगों को बिना किसी फीस के सभी सुविधाएं मुहैया करवाई जाएंगी। इसके लिए वह सरकार से एक पैसे की मांग नहीं करेंगे। सरकार उनकी आर्थिक मदद करने की जगह ऑनलाइन पोर्टल को पहुंचा दे। पिछली सरकार द्वारा 200 करोड़ रुपए की लागत से सेवा केंद्र निजी कंपनियों को फायदा पहुंचाने के लिए बनाए गए थे। निजी कंपनियों को इन सेवा केंद्रों के ऊपर अपने-अपने टॉवर खोलने की इजाजत दी गई थी। पिछली सरकार के नेताओं ने इन कंपनियों के साथ मिलकर घोटाला किया है। इस मौके पर हरप्रीत हंजरा, रवि कमल गोयल, मनी सराओ, मुकेश आदि उपस्थित थे। (टिंका आनंद)

सुनाम में पत्रकारों से बातचीत करते हुए आप विधायक अमन अरोड़ा।