• Home
  • Punjab News
  • Sunam News
  • जनरल वर्ग और ओबीसी के बंद को जिले भर में मिला समर्थन
--Advertisement--

जनरल वर्ग और ओबीसी के बंद को जिले भर में मिला समर्थन

सुनाम शहर पूरी तरह से बंद रहा है, हालांकि रेल व सड़क यातायात रोजाना कि तरह जारी हैं परंतु बसों में यात्रियों की...

Danik Bhaskar | Apr 11, 2018, 03:10 AM IST
सुनाम शहर पूरी तरह से बंद रहा है, हालांकि रेल व सड़क यातायात रोजाना कि तरह जारी हैं परंतु बसों में यात्रियों की संख्या कम देखने को मिली है। इस दौरान शहर के सभी बाजार मुकम्मल तौर पर बंद था। जनरल और ओबसी वर्ग और व्यापार मंडल के प्रधान पवन गुजरां की अगुवाई में सुनाम शहर में शांति पूर्वक रोष मार्च निकाला गया है। रोष मार्च ब्रह्मसिरा मंदिर से हो कर अलग-अलग बाजारों से होता हुुआ ब्रह्मसिरा मंदिर के पास ही समाप्त हो गया था। जनरल और ओबसी वर्ग के नेताओं ने कहा कि आरक्षण हटाओ और देश बचाओ नीति के तहत आरक्षण जाति के आधार पर नहीं बल्कि आमदन के आधार पर मिलना चाहिए। उन्होंने देश के राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री के नाम एसडीएम को मांग पत्र सौंपा। इस मौके पर डीएसपी विलियम जेजी ने पुलिस पार्टी समेत शहर का दौरा कर सुरक्षा व्यवस्था को यकीनी बनाया। इस मौके जतिंदर जैन, सुरेश कुमार, नरेश भोला, अच्छरू गोयल, रजनीश गर्ग, हिटलर गर्ग और ईश्वर गर्ग आदि उपस्थित थे। (टिंका/गक्खड़)

आर्थिक आधार पर मिले आरक्षण : संजय

शेरपुर |जनरल व ओबीसी कैटेगरी की ओर से भारत बंद के आह्वान पर व्यापार मंडल की ओर से मंगलवार को पूरा बाजार बंद रखा गया। व्यापारी नेता संजय सिंगला, चेतन गोयल व कृष्ण सिंगला ने कहा कि आरक्षण जाति के आधार पर नहीं आर्थिकता के आधार पर मिलना चाहिए, क्योंकि आरक्षण का अमीर लोग भी लाभ ले रहे है। गुरुओं ने पहले ही जात पात का भेद खत्म किया है।

सुनाम बंद के दौरान रोष मार्च निकालते जनरल वर्ग के लोग। -भास्कर

केन्द्र सरकार जनरल वर्ग से धक्का कर रही : गोयल

दिड़बा |एससी-एसटी एक्ट में सुप्रीम कोर्ट के फैसले के समर्थन में मंगलवार के बंद को दिड़बा में पूरा समर्थन मिला है। जनरल वर्ग द्वारा अपनी दुकानें बंद कर दिड़बा के मुख्य चौंक में धरना दिया गया और आरक्षण के खिलाफ नारेबाजी की गई। धरने को संबोधित करते समाज सेवी आगू प्रवीन गोयल ने कहा कि केन्द्र सरकार जनरल वर्ग के लोगों के साथ धक्का कर रही है। देश को आजाद हुए 70 साल हो गए है पर अभी भी हमारा संविधान एससी वर्ग को आरक्षण दे रहा है। जबकि जनरल वर्ग के लोग सरकारी नौकरी लेने से भी वंचित है। उन्होंने कहा कि 2019 के चुनावों मे उस उम्मीदवार का समर्थन करेंगे जो आरक्षण खत्म करने के लिए य|शील होंगे। जनरल वर्ग के लोगों द्वारा राष्ट्रपति के नाम तहसीलदार संजीव कुमार को ज्ञापन भी सौंपा गया। इस मौके पर परमजीत कुमार आदि उपस्थित थे। (शुभम)

टोहाना चौक पर लोगों ने किया प्रदर्शन

मूनक| सुप्रीम कोर्ट द्वारा एससी-एसटी एक्ट में संशोधन के दिए गए फैसले का स्वागत करते हुए लोगों ने पूरा शहर पूर्ण तौर पर बंद रखा गया। इस दौरान जनरल वर्ग ने केन्द्र से मांग की आरक्षण को जातिवाद के आधार पर समाप्त कर हर वर्ग, धर्म के लोगों को आर्थिक तौर पर आरक्षण का लाभ दिया जाए। टोहाना चौक पर धरने को संबोधित करते हुए नगर पंचायत मूनक के प्रधान जगदीश गोयल, पूर्व प्रधान भीम सैन गर्ग ने कहा कि आरक्षण को जातिवाद से हटा आर्थिकता के आधार पर लागू किया जाए, ताकि आरक्षण का लाभ हर जाति हर धर्म के लोगों को मिल सके। शांतमयी तरीके से प्रदर्शन करने के बाद जनरल वर्ग के लोगों ने तहसीलदार हरिंदर शर्मा को मांग पत्र सौपा। इस मौके पर विनय काला, मनीष जैन, दीपक सिंगला आदि उपस्थित थे।

व्यापारियों ने बंद को समर्थन देकर कारोबार बंद रखे

अमरगढ़ |जनरल वर्ग और ओबसी के लोगों ने आरक्षण के विरोध में भारत बंद के निमंत्रण को लेकर अमरगढ़ के व्यापार मंडल के व्यापारियों ने समर्थन करके बाजार को पूर्ण रूप से बंद रखा है। इस मौके उन्होंने कहा कि व्यापारियों ने अपनी इच्छा के अनुसार दुकानों को बंद किया है। सरकार को आरक्षण जाति के तौर पर नहीं आर्थिक तौर पर ही देने चाहिए। उन्‍होंने कहा कि जनरल वर्ग के बच्चों के 95 प्रतिशत नंबर होने के कारण भी नौकरी नहीं मिल रही है। और कोई भी सुविधा भी नहीं मिलती है। उन्होंने कहा कि 95 प्रतिशत नंबर वाले बच्चें काफी होनहार होते है। इस मौके पर डीएसपी पलविंदर सिंह चीमा और एसएचओ गुरभजन सिंह द्वारा माहौल को ठीक रखने के लिए गश्त की गई। (दुगल)

नौकरियों और शिक्षा में जाति आधारित आरक्षण के विरोध में धनौला बंद

धनौला| मंगलवार को देशव्यापी बंद होने की सनसनी के चलते धनौला मंडी में व्यवसायियों ने दुकानें सुबह से ही बंद रखीं। बंद समर्थक सड़क पर उतरे केंद्र सरकार के खिलाफ जोरदार नारेबाजी की । शहर में प्राइवेट या सरकारी स्कूल और सरकारी संस्थान खुले रहे, नौकरी और शिक्षा में जाति आधारित आरक्षण के खिलाफ प्रदर्शन को देखते हुए गृह मंत्रालय ने एडवायजरी जारी कर सुरक्षा बढ़ाने के निर्देश दिये थे। अजय कुमार गर्ग, विलास राय हाजिर थे। (सदियोडा)

मालेरकोटला में नहीं दिखा बंद का असर

मालेरकोटला| जनरल वर्ग की ओर से भारत बंद का असर शहर में देखने को नही मिला। जिसके चलते मंगलवार को आम दिनों की तरह सभी स्कूल व दुकानें खुली रही। आम दिनों की तरह ही बाजारों में पूरी चहल पहल थी। हालांकि पुलिस की ओर से शहर मे पुलिस बल तैनात किया गया था, परंतु किसी भी वर्ग के लोगों ने कोई प्रदर्शन नहीं किया।

आरक्षण का लाभ सिर्फ गरीबों को मिले : राजीव

बरनाला |जनरल कैटेगिरी एसोसिएशन के राज्य प्रधान राजीव बरनाला ने प्रधान मंत्री नरिंदर मोदी से मांग की है कि आरक्षण का लाभ सिर्फ गरीब दलितों को ही दिया जाए, क्योंकि आरक्षण का अधिकार सिर्फ गरीब दलित व्यक्तियों का ही है। अमीरों दलितों को आरक्षण नहीं दिया जाना चाहिए। राजीव बरनाला ने कहा कि जनरल कैटेगिरी ने हमेशा ही यह मांग की है कि आरक्षण का लाभ सिर्फ गरीब दलितों को दिया जाए, परंतु हमारी सरकारों अौर दलित विरोधी नेताओं ने सदा ही दलितों के नाम पर अमीरों को आरक्षण का लाभ दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि 95 प्रतिशत गरीब दलितों की अनदेखी की जा रही है। आज गांवों में रहते अनेकों ही दलितों को तो आरक्षण का अर्थ भी नहीं पता। इसलिए अब समय आ गया है कि आरक्षण व्यवस्था में से अमीरों को निकाला जाए। उन्होंने कहा कि धर्म और जाति आधारित आरक्षण देश की एकता अौर अखंडता के लिए बहुत घातक है।(लखवीर)