• Home
  • Punjab News
  • Sunam News
  • कांग्रेस व अकाली पार्षदों का शिअद प्रधान के विरुद्ध कौंसिल दफ्तर में धरना
--Advertisement--

कांग्रेस व अकाली पार्षदों का शिअद प्रधान के विरुद्ध कौंसिल दफ्तर में धरना

कांग्रेस पार्षदों की ओर से अकाली पार्षदों की मदद से नगर कौंसिल के अकाली प्रधान के विरुद्ध पेश किया गया अविश्वास...

Danik Bhaskar | Jul 03, 2018, 04:25 AM IST
कांग्रेस पार्षदों की ओर से अकाली पार्षदों की मदद से नगर कौंसिल के अकाली प्रधान के विरुद्ध पेश किया गया अविश्वास प्रस्ताव फेल होने के बावजूद पार्षदों का प्रधान के विरुद्ध गुस्सा शांत नहीं हुआ है। सोमवार को कांग्रेस और अकाली पार्षदों की ओर से प्रधान की कार्यशैली के विरुद्ध गीरा भजाओ सुनाम बचाओं बैनर तले नगर कौंसिल दफ्तर में धरना दिया गया। पार्षदों की आरोप है कि प्रधान का शहर के विकास पर कोई ध्यान नहीं है। इस दौरान पार्षदों ने प्रधान के कार्यकाल में किए गए कार्यों की विजिलेंस जांच करवाए जाने की मांग भी उठाई। सोमवार की सुबह नगर कौंसिल के 8 पार्षद और 4 महिला पार्षदों के पति नगर कौंसिल दफ्तर की सीमा के भीतर कौंसिल के मुख्य गेट के बाहर धरने पर बैठे। पार्षदों ने प्रधान के विरुद्ध नारेबाजी कर खूब भड़ास भी निकाली। पार्षद मनप्रीत बांसल, विक्रम गर्ग गुजरां, मनजीत सिंह का कहना है कि प्रधान का विकास कार्यों की तरफ कोई ध्यान नहीं है। पूरे शहर में बरसात के पानी निकासी ठप पड़ चुकी है। मांग की गई कि प्रधान के कार्यकाल में किए गए विकास कार्यों की विजिलेंस जांच करवाई जाए जिसके बाद पूरा सच लोगों के सामने आ जाएगा। इस मौके पर पार्षद सुखविन्द्र कौर ढिल्लों, मनप्रीत मनी बडैच, यादविन्द्र सिंह निर्माण, प्रेम चंद धमाका, हाकम सिंह, बलविन्द्र बोगा, बावा सिंह, हरमेश सिंह पप्पी, बिक्की उपस्थित थे।

सुनाम में सोमवार को नगर कौंसिल में प्रधान के विरुद्ध नारेबाजी करते पार्षद।


प्रधान बगीरथ राए गीरा का कहना है कि वह किसी भी तरह की जांच के लिए तैयार हैं। उन्होंने पूरी ईमानदारी से शहर में विकास कार्य करवाए हैं। अब कौंसिल के कुछ पार्षद ही शहर के विकास में रोड़ा बन रहे हैं। उन्हें जानबूझ कर बदनाम करने का प्रयास किया जा रहा है।

प्रधान के विरुद्ध पास नहीं कर सके थे अविश्वास प्रस्ताव

बता दें कि कांग्रेस पार्षदों की ओर से अकाली दल पार्षदों की मदद से प्रधान के विरुद्ध अविश्वास प्रस्ताव पेश किया गया था। इस संबंधी 22 जून को रखी गई बैठक में 13 पार्षद ही प्रधान के विरुद्ध पहुंचे थे जबकि तीन कांग्रेस से संबंधित पार्षदों की ओर से बैठक से दूर रहकर पेश किया गया प्रस्ताव पास नहीं होने दिया था। पार्षद प्रधान के विरुद्ध 2/3 समर्थन जुटाने में विफल रहे थे। हालांकि कांग्रेस और अकाली पार्षदों की कार्यशैली से दोनों की पार्टी के आला नेता काफी खफा हुए थे बावजूद कांग्रेस पार्षदों के साथ अकाली पार्षदों का प्रधान के विरुद्ध गुस्सा बरकरार है।

तीन माह से लटक रहा कौंसिल का बजट|3 माह से नगर कौंसिल का बजट भी लटक रहा है। बजट को लेकर 4 बैठकें होने के बावजूद बजट को पास नहीं किया जा सका है। प्रधान बजट को लेकर पार्षदों का समर्थन नहीं जटा पा रहे हैं। अधिकतर पार्षद बजट पर सहमति नहीं हैं।