--Advertisement--

कोई डॉक्टर तो कोई टीचर बन कर रहा समाजसेवा

आज जबकि पूरा महिला दिवस मना रहा है ऐसे में मानसा जिले में भी कई ऐसी महिलाएं हैं जिन्होंने समाज में अपनी विशिष्ट...

Danik Bhaskar | Mar 08, 2018, 03:25 AM IST
आज जबकि पूरा महिला दिवस मना रहा है ऐसे में मानसा जिले में भी कई ऐसी महिलाएं हैं जिन्होंने समाज में अपनी विशिष्ट पहचान स्थापित कर अपना तथा इलाके का नाम रौशन किया है। खालसा डेंटल व नर्सिंग कॉलेज नंगल कला की चेयरपर्सन वीरपाल कौर के मुताबिक उक्त कॉलेज को पहले 1980 दशक के दौरान उनके ससुर डॉक्टर नगिंदर सिंह हरीका द्वारा शुरु किया गया था। जिसमें विभिन्न प्रदेश से लड़कियां कोर्स कर विदेशों में सेटल होने के अलावा देश के बड़े अस्पतालों में काम रही है।

सशक्तीकरण

विशिष्ट स्थान रखने वाली जिले की महिला सेलिब्रिटीज लोगों की सेवा करने के लिए हमेशा तत्पर

गरीब और लाचार लोगों का सेवा भावना से करना चाहिए इलाज

बलजीत कौर

सही सोच से होगा गांव का विकास| पंजाब में सोकपिट युक्त गांव बनने के बदले राष्ट्रीय अवार्ड हासिल कर चुकी गांव मान असपाल कोठे व मान बीबड़िया की सरपंच कर्मजीत कौर, कमलदीप कौर ने कहा कि उनके द्वारा अपने गांव को मॉडल गांव बनाने के लिए पंचायत, गांव वासियों व अन्य संस्थाओं से मिल कर काम किया जा रहा हैं। उन्होंने कहा कि पंचायत द्वारा मनरेगा स्कीम के तहत व तलवंडी साबो पावर लिमिटेड के साथ मिलकर घर के वेस्ट पानी की संभाल के लिए बनाए सोकपिट के चलते राष्ट्रीय अवार्ड हासिल किया है। उन्होंने समाज के लोगों को अपील करते कहा कि महिलाओं को आगे बढ़ने के लिए उनका सहयोग करना चाहिए ताकि महिला हर क्षेत्र में मर्द के बराबर खड़े।

डायरेक्टर स्कूल हेल्थ ऑफिसर सिविल सर्जन दफ्तर मानसा डॉक्टर बलजीत कौर ने कहा कि डॉक्टरी पेशे को लोग भगवान का दूसरा रूप मानते हैं वहीं डॉक्टरों को भी चाहिए कि वह गरीब और लाचार लोगों का सेवा भावना से इलाज करे। उन्होंने कहा कि उसे महिला डॉक्टर होने पर गर्व है क्योंकि वह भी किसी परिवार की बेटी और बहु हैं। सपनों की उड़ान भरकर वह देश व अपने माता पिता का नाम रोशन कर लोगों की सेवा करे ओर लोगों को गर्व होना चाहिए है कि उनके घर भी बेटी हो जो उनका देश दुनिया में नाम रोशन कर सके।

बेटियों को दें अच्छी शिक्षा : सुमनदीप

नेहरु मेमोरियल सरकारी कॉलेज में विद्यार्थियों को शिक्षा का ज्ञान देने वाली प्रोफेसर सुपनदीप कौर ने कहा कि महिलाएं हर क्षेत्र में पुरुष के साथ कंधे से कंधा मिलाकर काम कर रही है। उन्होंने कहा कि आज देश में राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री व स्पीकर के पद पर तैनात होकर देश चला रही है। उन्होंने कहा कि लेकिन आज भी कुछ लोग बेटियों को अपने ऊपर बोझ समझते है ओर उन्हें अज्ञानता के चलते शिक्षा से भी दूर रखते हैं। उन्होंने कहा कि समाज को चाहिए कि बेटियों को जन्म देकर उन्हें अच्छी तालीम दें कि वह आने वाले भविष्य में देश की बागडोर संभाल सके और महिलाओं को समाज के हर कार्यक्रम में हिस्सा लेना चाहिए।