• Home
  • Rajasthan News
  • Aahor News
  • उखरडा गांव में पेयजल संकट गहराने से ग्रामीण हो रहे परेशान
--Advertisement--

उखरडा गांव में पेयजल संकट गहराने से ग्रामीण हो रहे परेशान

भास्कर न्यूज | गुडा बालोतान निकटवर्ती उखरड़ा गांव में पिछले दस दिनों से जलापूर्ति व्यवस्था गड़बड़ा जाने से...

Danik Bhaskar | May 30, 2018, 02:00 AM IST
भास्कर न्यूज | गुडा बालोतान

निकटवर्ती उखरड़ा गांव में पिछले दस दिनों से जलापूर्ति व्यवस्था गड़बड़ा जाने से ग्रामीणों को गर्मी के दौरान भारी परेशान होना पड़ रहा है। गर्मी के कहर के बीच पीने के पानी की मांग बढ़ी हुई है और दूसरी ओर जलदाय विभाग की ओर से उखरड़ा गांव के जीएलआर में एक माह के दौरान करीब दस दिन ही पानी छोड़ा जा रहा है। जो ग्रामीणों की हलक तर करने के लिए अपर्याप्त साबित हो रहा है। इसी के साथ गांव में ग्रामीणों के साथ-साथ पशुपालकों को भी अपने पशुओं व मवेशियों को पानी पिलाने के लिए दर दर की ठोकरें खानी पड़ रही है। जानकारी के अनुसार उखरड़ा गांव में जलदाय विभाग का जीएलआर बना हुआ है। जिसे पांचोटा गांव की पहाड़ी की तहलटी में स्थित नागणेशी मंदिर के पास स्थित जलदाय विभाग के ट्यूबवेल से भरा जाता है। पहले उखरडा गांव के जीएलआर में एक दिन के अंतराल से जलापूर्ति दी जाती थी। गर्मी बढ़ने के बाद जलापूर्ति के दिनों में कटौती करनी शुरू कर दी गई। वर्तमान में स्थिती ये बनी हुई है कि करीब तीन या चार दिन के अंतराल से जलापूर्ति दी जा रही है। पिछले दस दिनों से ये स्थिती भी बिगड़ जाने के ग्रामीणों को पीने के पानी के लिए तरसना पड़ रहा है। गांव के आसपास स्थित कृषि कुओं का पानी खारा होने के साथ पीने के लायक नहीं होने से पानी का पानी या तो चांदराई गांव से लाना पड़ रहा है। या अन्य गांवो से मुंह मांगे दामों पर पीने के पानी के टेंकर मंगवाने पड रहे है।

विभाग की ओर से जीएलआर में 1 माह के दौरान करीब 10 दिन ही पानी छोड़ा जा रहा है, पशुओं के लिए नहीं मिल रहा पानी

गुडा बालोतान. निकटवर्ती उखरड़ा गांव में जलापूॢत के अभाव में सूखा पड़ा जीएलआर और पानी के इंतजार में खाली पड़े बर्तन।

इनका कहना है