• Home
  • Rajasthan News
  • Aahor News
  • घाणा के सुभद्रा मां मंदिर की प्रतिष्ठा की झलकी आस्था
--Advertisement--

घाणा के सुभद्रा मां मंदिर की प्रतिष्ठा की झलकी आस्था

विमान से बरसते पुष्प, मंगलगान गाती महिलाएं, ढोल नगाड़ों की मृदुल ध्वनि के साथ माता सुभद्रा के गूंजते जैकारे।...

Danik Bhaskar | Jun 17, 2018, 02:00 AM IST
विमान से बरसते पुष्प, मंगलगान गाती महिलाएं, ढोल नगाड़ों की मृदुल ध्वनि के साथ माता सुभद्रा के गूंजते जैकारे। कमोबेश ऐसा ही नजारा दिखाई दिया घाणा गांव में। मौका था सुभद्रा माता मंदिर में मूर्ति की प्राण प्रतिष्ठा का। घाणा गांव में सुभद्रा माता मंदिर में मूर्ति का प्राण प्रतिष्ठा का उत्सव गुरुवार को प्रारंभ हुआ था। जहां प्रथम दिन गांव में भव्य शोभायात्रा के साथ महोत्सव का आगाज हुआ। दूसरे दिन की शाम को भजन जागरण का आयोजन हुआ। जहां शंकर भारती मोहीवाड़ा व कैलाशपुरी भाद्राजून एण्ड पार्टी की ओर से भजनों की भक्तिमय प्रस्तुति दी गई। तीसरे दिन प्रतिष्ठा के समापन का महोत्सव संपन्न हुआ। प्रतिष्ठा की पूर्णाहुति में घाणा गांव के करीब 12 जोड़ों ने पंडितों के आचार्यत्व में हवन में पूर्णाहुतियां दी। मंदिर में मूर्ति स्थापना, प्राण प्रतिष्ठा के बाद मंदिर के शिखर पर कलश (कंगुरा), ध्वजा स्थापना हुई। यहां विमान से पुष्प वर्षा के नजारे को ग्रामीण उत्सुकता के साथ देख रहे थे। वहीं माता सुभद्रा के जैकारे लगा रहे थे। पारंपरिक वेशभूषा में सज्जे धज्जे ग्रामीणों से चौराई अंचल की संस्कृति झलक रही थी। धर्म सभा में धुम्बड़ा मंदिर के मोहीवाड़ा मठाधीश राजभारती महाराज के आतिथ्य में कई संतों ने शिरकस्त कर ग्रामीणों को धर्म,संस्कृति व आध्यात्म के उपदेश दिए। महोत्सव में घाणा गांव के अलावा, गेलावास, बरवा, पुख्तारी, बिजली, भोरडा, रामा, पीपरला ढाणी, भाद्राजून, रेवड़ा, सेलड़ी, तोड़मी, बांकली व बाला समेत जालोर, पाली व बाड़मेर जिले के निकटवर्ती गांवों के ग्रामीणों में प्रतिष्ठा महोत्सव में नवीन स्थापित मूर्तियों की आराधना कर सर्व मंगल की कामना की।

आहोर. भाद्राजून में आयोजित कार्यक्रम में उपस्थित समाजबंधु।