Hindi News »Rajasthan »Aahor» कच्ची नहर को तोड़ने पर तहसीलदार को दिया ज्ञापन

कच्ची नहर को तोड़ने पर तहसीलदार को दिया ज्ञापन

भास्कर न्यूज | गुडा बालोतान निकटवर्ती बिठूडा ग्राम पंचायत के राजस्व गांव जोड़ा में एक खेत में जाने वाले राजस्व...

Bhaskar News Network | Last Modified - Aug 03, 2018, 02:00 AM IST

कच्ची नहर को तोड़ने पर तहसीलदार को दिया ज्ञापन
भास्कर न्यूज | गुडा बालोतान

निकटवर्ती बिठूडा ग्राम पंचायत के राजस्व गांव जोड़ा में एक खेत में जाने वाले राजस्व मार्ग पर मिट्टी की पाल बनवाकर एक बंटाईदार काश्तकार द्वारा मार्ग बंद करवाने और दूसरे खेत में जा रहे जवाई नहर के कच्चे खालिये को तोडने को लेकर जोडा गांव के कृषकों द्वारा आहोर तहसीलदार हरीसिंह चारण को ज्ञापन देकर कार्रवाई करवाने की मांग की गई है।

आहोर तहसीलदार को दिए गए ज्ञापन में जोडा गांव निवासी कृषक पीराराम पुत्र इन्दाराम कुम्हार ने बताया कि उसके समेत उसके अन्य भाइयों का खेत जिसका खसरा नम्बर ४६० जवाई नहरी प्रथम जोडा गांव में आया हुआ है। और ये आराजी खसरा जवाई नहर द्वारा सिंचित होता है। इस खसरे की सिंचाई करवाने के लिए राजस्व विभाग द्वारा खसरा नम्बर ४६१ में से होकर जवाई नहर की कच्ची नहर (खालिया) के लिए रास्ता बनाया हुआ है। जो कि १० से १२ फीट चौड़ा है और राजस्व रिकार्ड के नक्शा ट्रेस में भी दर्ज है। इस खालिये का रबी फसल बुवाई करने के दौरान कच्ची नहर (खालिया) के रूप में उपयोग लिया जाता है और खरीफ फसल बुवाई के दौरान खेत तक जाने के लिए रास्ते के रूप में उपयोग में लिया जाता है।

वहीं जोडा गांव निवासी कृषक पीराराम कुम्हार के खेत से पहले अगवरी गांव निवासी कस्तूराराम पुत्र मगाराम घांची का खेत जिसका खसरा नम्बर ४६१ आया हुआ है। इसी कृषक कस्तूराराम घांची के खेत में से होकर पीराराम कुम्हार व उसके भाइयों के खेत तक जाने के लिए राजस्व रिकार्ड में दर्ज जवाई नहर के खालिये के रूप में रास्ता दिया हुआ है। कृषक कस्तूराराम घांची देशावर रहता है और उसने अपना खेत अगवरी गांव के एक काश्तकार को बंटाई पर दे रखा है। उस बंटाईदार काश्तकार ने तीन चार दिन पहले जेसीबी की सहायता से खेत की माठ पर बडी ऊॅचाई वाली मिट्टी की पाल बनवाकर खेत में जाने वाले मार्ग को बंद करवाने के साथ ही खेत में से होकर गुजर रहे जवाई नहर की कच्ची नहर (खालिया) को तुडवाकर मौके पर फसल बुवाई कर दी है। जिससे कृषक पीराराम कुम्हार समेत उसके भाईयों एवं उसके खेत के आसपास आए हुए खेतों के कृषकों को उनके खेतों तक जाने व कृषि संयत्रों को खेतो तक लाने ले जाने में परेशानी उठानी पड रही है। तहसीलदार को दिए गए ज्ञापन में कृषक पीराराम ने बताया कि उसके खेत तक जाने वाली कच्ची नहर (खालिये) को तोडने से उसके खेत की सिंचाई नही हो पाएगी।

गुडा बालोतान. निकटवर्ती जोड़ा गांव में स्थित एक खेत मेें से होकर गुजर रहे कच्चे खालियों को तोड़कर माठ पर बनवाई गई मिट्टी की पाल।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Aahor

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×