Hindi News »Rajasthan »Aahor» गुडा बालोतान की दो स्कूलों में 300 विद्यार्थियों की स्कूल फीस छठे साल भी जमा कराएंगे भामाशाह दिलीप जैन

गुडा बालोतान की दो स्कूलों में 300 विद्यार्थियों की स्कूल फीस छठे साल भी जमा कराएंगे भामाशाह दिलीप जैन

बच्चों के भविष्य को देखते हुए भामाशाह ने निर्णय लिया भास्कर न्यूज | गुडा बालोतान कस्बे में स्थित आदर्श राजकीय...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 07, 2018, 03:15 AM IST

बच्चों के भविष्य को देखते हुए भामाशाह ने निर्णय लिया

भास्कर न्यूज | गुडा बालोतान

कस्बे में स्थित आदर्श राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय एवं राजकीय बालिका माध्यमिक विद्यालय में कक्षा 9वीं से 12वीं तक की कक्षाओं में अध्ययनरत 300 छात्र छात्राओं की वार्षिक फीस के साथ-साथ दोनों विद्यालयों के लगभग 200 विद्यार्थियों की बोर्ड परीक्षा फीस भामाशाह दिलीप कुमार पुत्र जुहारमल जैन की ओर से जमा कराई जाएगी। वे पिछले 5 वर्षों से इन बच्चों की फीस जमा करवा रहे है। इस बार भी बच्चों के भविष्य को देखते हुए उन्होंने ये निर्णय लिया है। भामाशाह के प्रेरक पुरुषोत्तम सोनी ने बताया कि भामाशाह दिलीपकुमार जैन का मुख्य उद्देश्य है कि कस्बे में स्थित सरकारी विद्यालयों में अधिकाधिक विद्यार्थियों का प्रवेश है और वे बेहतरीन परीक्षा परिणाम दे। गौरतलब है कि स्थानीय विद्यालय में पिछले छ: वर्षों से दसवीं बोर्ड परीक्षा परिणाम शत प्रतिशत कायम बना हुआ है। वही बारहवीं बोर्ड का परीक्षा परिणाम पिछले चार वर्षों से शत प्रतिशत बना हुआ है। जिसके चलते आहोर तहसील में गुडा बालोतान विद्यालय के बेहतर परीक्षा परिणाम के चलते इस विद्यालय को फाइव स्टार का दर्जा प्राप्त है।

एक भामाशाह से प्रेरित होकर दूसरे भामाशाह ने कुछ करने का मानस बनाया : प्रतिवर्ष लाखों रुपये खर्च करके वार्षिक व बोर्ड फीस जमा करवाने वाले भामाशाह दिलीप जैन से प्रेरित होकर सत्र 2015-16 से भामाशाह संजयकुमार मोहनलाल तोगानी की ओर से विद्यार्थियों को नि:शुल्क उत्तर पुस्तिकाएं (कॉपिया) उपलब्ध करवाई जा रही है। इस वर्ष भी उन्होंने पुस्तिकाएं वितरित करने का निर्णय लिया है। भामाशाह संजय जैन ने बताया कि वे भी गुडाबालोतान के सरकारी विद्यालय में शिक्षा ग्रहण कर चुके है। उस समय अभाव ग्रस्त सहपाठी छात्रों को देखकर जीवन में वर्तमान में अभावों में जूझ रहे अभावग्रस्त छात्रों के लिए कुछ करने की धारणा बना रखी थी। वैसे सरकारी विद्यालयों में पढऩे वाले छात्र छात्राओं को सरकार की ओर से नि:शुल्क पाठ्य पुस्तक उपलब्ध करवाई जा रही है। वर्तमान में महंगाई के दौर में कई अभाव ग्रस्त विद्यार्थी पूरे वर्षभर तक उपयोग ली जाने वाली उत्तर पुस्तिकाएं (कॉपिया) खरीदने में असमर्थ होते है उनके लिए बड़ा सहयोग होगा।

कक्षा 9 से 12वीं तक के 300 विद्यार्थियों की वार्षिक फीस व 200 का बोर्ड परीक्षा शुल्क पिछले 5 सालों से जमा करवा रहे भामाशाह

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Aahor

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×