• Home
  • Rajasthan News
  • Aasind News
  • सीएचसी में जुगाड़ से इलाज; रोटेशन पर आते हैं डॉक्टर, कबाड़ से बनाए ओपीडी और फिजियोथैरेपी कक्ष
--Advertisement--

सीएचसी में जुगाड़ से इलाज; रोटेशन पर आते हैं डॉक्टर, कबाड़ से बनाए ओपीडी और फिजियोथैरेपी कक्ष

बदनौर | सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में पर्याप्त कमरे नहीं हैं। अफसर इसलिए व्यवस्था नहीं कर रहे हैं कि नई बिल्डिंग...

Danik Bhaskar | May 04, 2018, 03:15 AM IST
बदनौर | सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में पर्याप्त कमरे नहीं हैं। अफसर इसलिए व्यवस्था नहीं कर रहे हैं कि नई बिल्डिंग प्रस्तावित है। किसी ने नहीं सुनी तो स्टाफ ने जुगाड़ से डॉक्टर चैंबर, ओपीडी व फिजियोथैरेपी कक्ष बना लिए। ओपीडी व फिजियोथैरेपी कक्ष की जरूरत होने पर कर्मचारियों ने कबाड़ में पड़ी सामग्री, लकड़ी, कागज व गत्तों से कक्ष तैयार कर लिए। ओपीडी कक्ष पर 5 रुपए जमा कराने पर रोगी पर्ची देना शुरू कर दिया गया। पास में ही फिजियोथैरेपी कक्ष भी जुगाड़ से ही बनाया गया। सीएचसी में डॉक्टर भी जुगाड़ कर लगा रखे हैं। यहां डॉक्टर के दो पद स्वीकृत हैं, लेकिन दोनों खाली हैं। इसलिए आसींद, शंभूगढ़ और पाटन से आने वाले डॉक्टर रोटेशन से मरीजों का इलाज करते हैं। इसी महीने एक डॉक्टर को लगाया गया, लेकिन उन्होंने अब तक ज्वाइन नहीं किया। अस्पताल में एक्सरे व ईसीजी सुविधा भी नहीं है।