Hindi News »Rajasthan »Abu Road» नन्हे वैज्ञानिकों ने मॉडल से बताया सूर्य व चंद्र ग्रहण का कारण और क्यों फूटते हैं ज्वालामुखी

नन्हे वैज्ञानिकों ने मॉडल से बताया सूर्य व चंद्र ग्रहण का कारण और क्यों फूटते हैं ज्वालामुखी

राजकीय बालिका उच्च प्राथमिक स्कूल वेलांगरी की छात्रा बुलबुल ने ज्वालामुखी फूटने का मॉडल बनाया। बाल वैज्ञानिक ने...

Bhaskar News Network | Last Modified - Mar 01, 2018, 02:10 AM IST

नन्हे वैज्ञानिकों ने मॉडल से बताया सूर्य व चंद्र ग्रहण का कारण और क्यों फूटते हैं ज्वालामुखी
राजकीय बालिका उच्च प्राथमिक स्कूल वेलांगरी की छात्रा बुलबुल ने ज्वालामुखी फूटने का मॉडल बनाया। बाल वैज्ञानिक ने मॉडल में बताया कि भूगर्भीय उथल-पुथल के दौरान धरती अपना अपशिष्ट (लावा) कमजोर पहाड़ों के मुहाने से बाहर निकाल देती है, जिसे ज्वालामुखी फूटना कहते हैं। छात्रा बुलबुल ने रसायनिक प्रक्रिया के जरिए ज्वालामुखी फूटने का डेमो भी दिखाया।

श्रेष्ठ तीन मॉडल बनाने वाले बाल वैज्ञानिकों को दिया हजार रुपए का नकद इनाम

क्विज व भाषण प्रतियोगिता भी हुई

भास्कर न्यूज | सिरोही

राष्ट्रीय आविष्कार अभियान के तहत बुधवार को आयोजित जिला स्तरीय विज्ञान मेले में नन्हें वैज्ञानिकों ने सूर्य व चंद्र ग्रहण का कारण और ज्वालामुखी क्यों फूटते जैसे जीवंत मॉडल बनाकर अपनी प्रतिभा का परिचय दिया। बाल वैज्ञानिकों ने खगोलीय व भूगर्भीय घटनाओं समेत आपदा के समय बचाव जैसे मॉडल भी बनाए। भारत सरकार ने स्कूल आधारित ज्ञान को स्कूल के बाहर जीवन में अनुसरण और विज्ञान व गणित की सार्थक गतिविधियों को आनंददायी बनाने के लिए राष्ट्रीय आविष्कार योजना लागू की है।

सर्व शिक्षा अभियान के तहत जिले के चयनित राजकीय उच्च प्राथमिक स्कूलों की उभरती वैज्ञानिक प्रतिभाओं ने शानदार मॉडल बनाए। जिले की चयनित 149 में से 132 स्कूलों के 530 छा-छात्राओं ने शिक्षकों के साथ भाग लिया। अभियान के तहत मॉडल, चार्ट, निबंध, प्रश्नोत्तरी व भाषण प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। पहले, दूसरे व तीसरे स्थान पर रहने वाले छात्र-छात्राओं को क्रमश: 1000, 750 और 500 रुपए का नकद पुरस्कार दिया गया। मंडवारिया सरपंच दलपत पुरोहित सभी प्रतिभागियों को ज्योमेट्री बॉक्स दिए। विज्ञान मेले में पहुंचे कलेक्टर संदेश नायक ने बाल प्रतिभाओं का प्रोत्साहन किया। एडीएम आशाराम डूडी, एडीएम नाथूसिंह और प्रधान प्रज्ञा कंवर ने भी बाल वैज्ञानिकों की तारीफ की।

खगोलीय व भूगर्भीय घटनाओं व प्राकृतिक आपदा से बचाव के मॉडल

कैसे फूटते है ज्वालामुखी

इसलिए होते हैं सूर्य व चंद्र ग्रहण

राजकीय उच्च प्राथमिक स्कूल असावा के बाल वैज्ञानिक कृष्णपाल ने सूर्य ग्रहण व चंद्र ग्रहण का मॉडल बनाया। बाल वैज्ञानिक ने मॉडल के जरिए बताया कि पृथ्वी अपनी धुरी पर घूमती हुई सूर्य के चारों तरफ चक्कर लगाती है। जबकि, चंद्रमा पृथ्वी के चारों तरफ चक्कर लगाता है। इस प्रक्रिया के दौरान जब पृथ्वी चंद्रमा और सूर्य के ओट में आती है तब ग्रहण की स्थिति बनती है।

बनाई हाईड्रोलिक क्रेन

राजकीय उच्च प्राथमिक स्कूल प्रथम पिंडवाड़ा के छात्र हीरसिंह ने हाईड्रोलिक क्रेन का मॉडल बनाया। बाल वैज्ञानिक ने मॉडल के जरिए बताया कि साधारण चुंबकीय क्रेन की बजाय इलेक्ट्रॉनिक हाईड्रोलिक क्रेन बेहद उपयोगी साबित होती है। क्योंकि, चुंबकीय क्रेन से चिपकने वाले सामान को हटाना मुश्किल होता है, जबकि हाईड्रोलिक क्रेन का इलेक्ट्रॉनिक कनेक्शन स्वीच बंद करते ही सामान छूट जाता है।

पहले चेतावनी बांध फूटने की

राजकीय बालिका उच्च प्राथमिक स्कूल गांधीनगर आबूरोड की छात्रा डोली राठौड़ ने अतिवृष्टि के दौरान बांध फूटने से पहले चेतावनी के हूटर का मॉडल बनाया। बाल वैज्ञानिक ने मॉडल के जरिए बताया कि बांध लबालब होने के बाद भी लगातार पानी आवक को जारी रहने की स्थिति में हूटर बजने लगता है, ताकि प्रशासन अलर्ट कर आसपास के गांवों को खाली करा सकें।

स्कूल आधारित ज्ञान को स्कूल के बाहर जीवन में अनुसरण और विज्ञान व गणित की सार्थक गतिविधियों को आनंददायी बनाने का प्रयास

विजेताओं को दिया नकद पुरस्कार

मॉडल : रूपाराम सालोतरा, प्रवीणनाथ भूजेला, सुरेश कुमार एवडी प्रथम, सहीन बानू वासा, कृषसिंह झांकर, स्नेहाकुमारी लुनियापुरा द्वितीय और भारती कुमारी करेली, विशाल कुमार टांकरिया व डोली राठौड़ आबूरोड तृतीय रहीं।

निबंध : चेतना कुमारी एवडी, पारा कुमारी कोटडा, किरण कुमारी शिवगंज प्रथम, कमलेश कुमार सोनानी, नीतू सुथार जामोतरा, डिम्पल नई झाडोली द्वितीय, खेमाराम बडेची, काजल मनोरा, ललिता सेउडा तृतीय रहीं।

क्वीज : दिव्या सिरोही, हंसमुख राजगढ़, गणेशराम डांगराली प्रथम, डिम्पल नवाखेड़ा, शानू अग्रवाल जनापुर, आशाराम कलदरी द्वितीय, भावना खेजडिया, ललूराम पालडी खेड़ा, सेवाराम हिरापुरा तृतीय रहे।

भाषण : हीरा कुमारी प्रथम, करिश्मा कुमारी पाडीव द्वितीय व सज्जनसिंह मेरवाडा तृतीय स्थान पर रहे। प्रतियोगिता में प्रथम, द्वितीय व तृतीय स्थान पर रहे प्रतिभागियों को क्रमश: 1000, 750 और 500 रुपए का नकद इनाम दिया गया।

तीन चरणों में चयनित होने पर पहुंचे जिला स्तर पर

जिला स्तरीय विज्ञान मेले में पहुंचने वाले प्रतिभागियों को तीन चरणों में चयनित होना पड़ता है। पहले स्कूल, फिर नोडल और फिर ब्लॉक स्तर पर चयनित होने पर जिला स्तर पर पहुंचना होता है। इस मौके पर विज्ञान मेले का प्रभारी सुनिल कुमार गुप्ता, एसएसए एडीपीसी आनंद राज आर्य, डीईओ आरके गर्ग, रमसा के एडीपीसी अशोक व्यास, एपीसी मनोहर सिंह चारण, एपी नरेन्द्र सिंह आढा, आरपी हिम्मत रावल, हिम्मत माली, प्रेम सिंह, लालसिंह, नथाराम आदि मौजूद रहे।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Abu Road News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: नन्हे वैज्ञानिकों ने मॉडल से बताया सूर्य व चंद्र ग्रहण का कारण और क्यों फूटते हैं ज्वालामुखी
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Abu Road

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×