Hindi News »Rajasthan »Abu Road» बकाया वेतन व ओवरटाइम का भुगतान नहीं करने का आरोप, मजदूरों ने किया प्रदर्शन

बकाया वेतन व ओवरटाइम का भुगतान नहीं करने का आरोप, मजदूरों ने किया प्रदर्शन

शहर के पुराना चेकपोस्ट क्षेत्र के पास स्थित मरुधर यार्न (टीएफआई) के श्रमिकों ने बुधवार शाम को बकाया वेतन एवं...

Bhaskar News Network | Last Modified - Mar 01, 2018, 02:10 AM IST

बकाया वेतन व ओवरटाइम का भुगतान नहीं करने का आरोप, मजदूरों ने किया प्रदर्शन
शहर के पुराना चेकपोस्ट क्षेत्र के पास स्थित मरुधर यार्न (टीएफआई) के श्रमिकों ने बुधवार शाम को बकाया वेतन एवं ओवरटाईम की भुगतान की मांग को लेकर इकाई परिसर में विरोध प्रदर्शन किया। यह घटनाक्रम करीब एक घंटा चला। इस दौरान इकाई प्रबंधन के खिलाफ नारेबाजी करते हुए रोष व्यक्त किया। इस बीच कुछ श्रमिकों ने कार्यालय के बाहर खड़ी एक कार के टायरों की हवा निकाल दी तथा भुगतान नहीं होने तक इकाई संचालकों को बाहर नहीं जाने देने की चेतावनी दी।

जानकारी मिलने पर श्रमिक नेता राजनसिंह मौके पर पहुंचे तथा श्रमिकों से समझाइश की। गुरुवार को बकाया भुगतान करवाने का आश्वासन दिया गया। इसके बाद ही श्रमिक शांत हुए तथा काम पर लौटे। प्रदर्शनकारी श्रमिकों का आरोप था कि उनका जनवरी व फरवरी दो महीनों का वेतन एवं ओवरटाइम बकाया है। शुक्रवार को होली त्यौहार होने के बाद भी उनका भुगतान नहीं किया जा रहा है। इससे उनकी मुश्किलें बढ़ गई है। वेतन से पीएफ एवं ईएसआई कटौती करने के बाद भी वहां जमा नहीं करवाई जा रही है। इससे इन सुविधाओं का लाभ नहीं मिल रहा है।

एक घंटे तक किया श्रमिकों ने किया प्रदर्शन, समझाइश के बाद माने

आबूरोड. वेतन व बकाया ओवरटाइम को लेकर इकाई परिसर में प्रदर्शन करते मजदूर।

संतोषजनक जवाब नहीं मिलने से भड़के श्रमिक

इस मामले को लेकर श्रमिक कई बार कार्यालय परिसर में जाकर आए लेकिन, कोई संतोषप्रद जवाब देने के बजाय इकाई संचालक पीयूष जैन ने कहा कि अगर वे भुगतान नहीं करेंगे तो क्या कर लोगे। इससे श्रमिकों में रोष व्याप्त है। श्रमिकों ने भुगतान नहीं देने तक किसी को बाहर नहीं जाने देने की भी चेतावनी दी। फैक्ट्री मैनेजर अफजल खान ने श्रमिकों से समझाईश की लेकिन, श्रमिक नहीं माने। इस दौरान श्रमिक नेता राजनसिंह वहां पहुंचे। उन्होंने श्रमिकों से समझाईश कर काम पर लौटने का आग्रह किया। उन्होंने गुरुवार को बकाया भुगतान कराने का भी भरोसा दिलाया। इसके बाद श्रमिक काम पर लौटे।

मंदी के दौर से गुजर रही है इकाई

वर्ष 2001 में ही इकाई बंद हो गई थी। उसके बाद से इसे लगातार चलाने का प्रयास कर रहे हैं। इकाई से श्रमिक एवं कार्यालय कर्मचारियों को मिलाकर चार सौ परिवारों का पालन पोषण हो रहा है। पिछले कुछ समय से इकाई आर्थिक मंदी के दौर से गुजर रही है। इससे यह समस्या हो रही है। संचालकों की ओर से संतोषप्रद जवाब नहीं देने से यह समस्या हुई। श्रमिकों को गुरुवार को भुगतान कराने का भरोसा देकर समझा दिया गया है तथा वे काम पर लौट गए है। श्रमिक हमारे परिवार का सदस्य है उन्होंने नाराजगी जाहिर की है। यह कोई बड़ी बात नहीं है। - राजनसिंह, श्रमिक नेता, मरुधर यार्न (टीएफआई), आबूरोड

केवल 1 घंटा इंतजार करने के लिए कहा था

जिस समय श्रमिक आए उस दौरान कार्यालय में इलेक्ट्रिसिटी बोर्ड के अधिकारियों के साथ बैठक चल रही थी। मैने उन्हें इंतजार करने को कहा था। इस बीच वे कई बार अंदर आ गए तो एक घंटे बैठने के लिए कहा था। श्रमिकों के ईएसआई एवं पीएफ का चालान आज जमा करवा दिया गया है। क्योंकि, अगर मार्च में ये पैसा जमा नहीं होता है तो एकाउंट लैप्स हो जाते हैं। रही बात बकाया कि तो फरवरी माह पूरा होगा। इसके बाद बेलेन्सशीट बनाकर भुगतान किया जाता है। हां 16 से 31 जनवरी, 1 से 15 फरवरी एवं 16 से 28 फरवरी 2018 तक ओवरटाईम का करीब सात लाख रुपए बकाया है। इसके लिए मना नहीं किया गया है। - पीयूष जैन, मैनजमेंट सदस्य, मरुधर यार्न (टीएफआई), आबूरोड

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |
Web Title: बकाया वेतन व ओवरटाइम का भुगतान नहीं करने का आरोप, मजदूरों ने किया प्रदर्शन
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Abu Road

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×