--Advertisement--

चिकित्सा शिविर में 1064 लोगों का किया उपचार

आयुर्वेद विभाग के तत्वावधान में विशिष्ठ संगठक योजना के तहत माली समाज धर्मशाला परिसर में आयोजित दस दिवसीय निशुल्क...

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 02:10 AM IST
आयुर्वेद विभाग के तत्वावधान में विशिष्ठ संगठक योजना के तहत माली समाज धर्मशाला परिसर में आयोजित दस दिवसीय निशुल्क शल्य एवं पंचकर्म चिकित्सा शिविर के आठवें दिन बुधवार को यहां सेवा देने वाले विभागीय कर्मचारियों एवं अन्य लोगों का सम्मान किया गया। 2 मार्च को धूलंडी होने से शिविर गुरुवार को एक दिन पूर्व ही संपन्न हो जाएगा। इस दौरान केवल आउटडोर चिकित्सा सुविधा का लाभ मिल सकेगा। शिविर प्रभारी डॉ. केशव भारद्वाज के अनुसार बुधवार को चिकित्सकों ने सर्दी, जुकाम, बुखार, खांसी, कफ, वातविकार, स्त्री रोग एवं बाल रोगों से पीडि़त तीन सौ रोगियों की जांच की। विभाग की ओर से दवाइयां वितरित की गई। 25 रोगियों की बस्ती चिकित्सा की गई। 175 रोगियों की स्नेहन स्वेदन एवं अर्श भंगदर रोग से पीडि़त 28 रोगियों का उपचार किया गया। 25 रोगियों का रक्तमोक्षण अगिनकर्म किया गया। पांच रोगियों का शिरोधारा तथा दर्द से परेशान 106 रोगियों का न्यूरोपेथी चिकित्सा पद्धति से उपचार किया गया। आठवें दिन चार सौ लोगों ने रोग प्रतिरोधक क्षमता बढाने वाला काढ़ा पिया।

शिविर में इनका हुआ सम्मान

समारोह में मौजूद अतिथियों ने आयुर्वेद विभाग के डॉ. विजेंद्र कुमार त्यागी, डॉ. कुलदीपसिंह, डॉ. उदयभानूप्रतापसिंह, डॉ. कांतिलाल माली, डॉ. संदीप कुमार, डॉ. प्रतिभा, डॉ. मुकेश भट्ट, डॉ. नीलम निगम व डॉ. रामअवतार शर्मा, कंपाउंडर शंकरलाल, कालूराम मीणा, मनोहरलाल, हरिओमसिंह, जयपालसिंह, बद्रीलाल, दिनेश कुमार, अशोक कुमार, ओंकारलाल, तेजाराम, अभ्यंगकर्मी राजेंद्र कुमार, परिचारक वागाराम, गोविंदराम, भरत पुरोहित, कसनाराम, रघूनाथराम, अनिल कुमार, खुशालसिंह एवं कमलेश भट्ट को शिविर के दौरान सेवाएं देने के लिए सम्मानित किया। इस दौरान माली समाज की ओर से सम्मानित होने वाले लोगों को गुलाब का फूल भी दिया गया। इसके साथ ही कोटा से आए न्यूरोथेरेपिस्ट डॉ. मनोज शर्मा एवं चितौडगढ़ के सेवानिवृत जिला आयुर्वेद अधिकारी वैद्य भंवरलाल शर्मा की अगुवाई में आई तीन दर्जन सदस्यों की टीम का भी सम्मान किया गया।

आबूरोड. चिकित्सा शिविर के दौरान आयोजित कार्यक्रम में मौजूद लोग।