Hindi News »Rajasthan »Abu Road» माउंट आबू में भवन निर्माण के लिए आपत्तियों का आज अंतिम दिन, लोग करवा सकेंगे निर्माण व रिनोवेशन

माउंट आबू में भवन निर्माण के लिए आपत्तियों का आज अंतिम दिन, लोग करवा सकेंगे निर्माण व रिनोवेशन

राज्य सरकार की ओर से आपत्तियों पर अंतिम मुहर लगने के बाद माउंटआबू में भवन निर्माण एवं रिनोवेशन के कामों को करवाना...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 02, 2018, 03:15 AM IST

राज्य सरकार की ओर से आपत्तियों पर अंतिम मुहर लगने के बाद माउंटआबू में भवन निर्माण एवं रिनोवेशन के कामों को करवाना होगा बेहद आसान

भास्कर न्यूज | आबूरोड

प्रदेश के एकमात्र हिल स्टेशन माउंटआबू के लोगों के लिए एक राहतभरी खबर है। एनजीटी के निर्णय की अनुपालना में भवन अनुग्रहण समिति की अेार से माउंट आबू मास्टर प्लान 2030 के संबंध में ईको सेंसेटिव जोन गाइड लाइन के तहत नगरपालिका भवन निर्माण बॉयलॉज 2018 को बोर्ड की गत 26 मार्च को हुई बैठक में पारित कर दिया गया है। इसके बाद उसी दिन इन बॉयलॉज को लेकर आमजन से आपत्तियां मांगी गई थी। आपत्तियों के लिए एक हफ्ते का समय निर्धारित किया गया था, जो सोमवार को पूरा हो रहा है। अब नगरपालिका प्रशासन की ओर से इन बॉयलॉज एवं आपत्तियों को राज्य सरकार के पास भिजवाया जाएगा, जहां इन पर अंतिम मुहर लगेगी। इसके बाद स्थानीय लोगों के लिए माउंट आबू में भवन निर्माण एवं रिनोवेशन के कामों को करवाना बेहद आसान हो जाएगा। माउंट आबू के सौंदर्यकरण व सेंचूरी तथा आबादी को सुरक्षित व इनमें समन्वय बनाए रखने के उद्देश्य के साथ बीते करीब ढाई दशक से नए निर्माण कार्यों पर रोक लगी हुई है। इसके साथ ही वहां जो मकान एवं व्यवसायिक प्रतिष्ठान बने है उनके रिनोवेशन के लिए संबंधित व्यक्तियों को एक लंबी प्रक्रिया से गुजरना पड़ता है। इसमें उसे काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। एनजीटी की ओर से माउंट आबू में निर्माणों को लेकर दिए गए आदेश की अनुपालना में नगरपालिका की भवन अनुग्रहण समिति की ओर से मास्टर प्लॉन 2030 के संबंध में ईको सेंसेटिव जोन की गाइड लाइन के तहत बॉयलॉज बनाकर बोर्ड की गत बैठक में रखे गए थे। चर्चा के बाद इन बॉयलॉज को पारित कर आमजन से आपतियां मांगने का निर्णय लिया गया था। इसके तहत कार्यालय के बाहर बोर्ड पर बॉयलॉज को चस्पा कर दिया गया था। आपत्तियां सोमवार शाम पांच बजे तक प्रस्तुत की जा सकेगी। इसके बाद नगरपालिका कार्यालय में खुली सुनवाई होगी, जहां से आवश्यक संशोधनों के साथ इन बॉयलॉज एवं ऑपत्तियों को राज्य सरकार की स्वीकृति के लिए भिजवा दिया जाएगा।

गत 26 मार्च को हुई बोर्ड की बैठक में इसको पारित कर दिया गया है, आपत्तियों की समयावधि पूरी होने के बाद इन्हे राज्य सरकार के पास भेजा जाएगा

नए नियम लागू होने के बाद आमजन को मिलेगी राहत

माउंट आबू में निर्माणों पर रोक एवं रिनोवेशन को लेकर लंबी चौड़ी प्रक्रिया से आमजन को सबसे अधिक परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

स्थिति यह है कि संबंधित को इसकी अनुमति मिलती ही नहीं है और जब मिल जाए तो उस दौरान काम करवाना किसी चुनौती से कम नहीं है।

हालांकि, आर्थिक रुप से संपन्न एवं प्रभावशाली लोगों के लिए निर्माणों एवं रिनोवेशन पर रोक का कोई खास असर नहीं हुआ। बीते सालों में आगे लोहे के टीनशेड एवं ग्रीन चद्दर से कवर की आड़ में रोड से सटकर एक के बाद एक कर कई निर्माण हो गए।

इसके साथ ही कुछ लोगों ने आधुनिक सुविधाओं से युक्त लोहे के कंटेनरों का उपयोग करना शुरु कर दिया।

जबकि, माउंट आबू के कई क्षेत्र ऐसे हैं जहां मकानों के रिनोवेशन की अनुमति नहीं मिलने से जीर्णशीर्ण हालत में है। बारिश के दौरान इनमें रहने वाले लोगों को खासी मुश्किलों का सामना करना पड़ता है।

अब नए बॉयलॉज के लागू होने के बाद लोगों को भवन निर्माण और रिनोवशन कार्य को करवाने में परेशानी नहीं होगी और आसानी से कार्य हो पाएंगे।

माउंटआबू के लोगों के लिए राहतभरी खबर है

नए निर्माण एवं रिनोवेशन कार्य शुरु होने के बाद आमजन को बड़ी राहत मिल सकेगी। इससे माउंटआबू का सौंदर्यकरण ओर बढ़े इसका ध्यान हर व्यक्ति रखेगा। माउंट आबू भवन निर्माण बॉयलॉज की 70 पेज की बुकलेट तैयार की गई है। - सुनिल आचार्य, अध्यक्ष, भवन अनुग्रहण समिति, नगरपालिका, माउंट आबू

माउंट आबू विकास के लिए यूआईटी बनाएगी नए प्रोजेक्ट

माउंट आबू में निर्माणों पर रोक के कारण चाहकर भी कुछ नहीं कर पा रहे थे। इस प्रक्रिया के पूरा होने के बाद आमजन को तो राहत मिलेगी ही साथ ही यूआईटी भी नए प्रोजेक्टों के माध्यम से वहां कई प्रकार के विकास कार्य करवा सकेगी। नए बॉयलॉज लागू होते ही हम इसको लेकर कार्य करना शुरु कर देंगे। -सुरेश कोठारी, सचिव, यूआईटी, माउंटआबू

स्वच्छता अभियान में माउंट आबू की सहभागिता का और विस्तार होगा

माउंट आबू में आज भी कई क्षेत्र ऐसे है जहां शौचालय नहीं है। वहां के लोग खुले में शौच जा रहे हैं। लेकिन, रोक की वजह से वहां इनका निर्माण नहीं हो पा रहा था। अब शीघ्र ही यह दिक्कत दूर हो जाएगी। उसके बाद स्वच्छता अभियान में माउंट आबू की सहभागिता का ओर विस्तार हो सकेगा। - सुरेश थिंगर, चेयरमैन, नगरपालिका, माउंटआबू

चार सदस्यीय कमेटी करेगी बॉयलॉज में संशोधन

स्वायत शासन विभाग जयपुर एवं जोधपुर के वरिष्ठ नगर नियोजक, माउंट आबू नगरपालिका आयुक्त एवं यूआईटी माउंटआबू सचिव की सदस्यता में एक कमेटी गठित की गई है। बॉयलॉज को लेकर सभी आपत्तियां इनके पास जाएगी। चर्चा के बाद यह कमेटी इनमें आवश्यक संशोधन करेगी।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Abu Road

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×