• Hindi News
  • Rajasthan
  • Abu Road
  • उमरनी हाउसिंग बोर्ड कॉलोनी में डेढ़ साल पहले लॉटरी से मकान आवंटन, आज तक नहीं सौंपे
--Advertisement--

उमरनी हाउसिंग बोर्ड कॉलोनी में डेढ़ साल पहले लॉटरी से मकान आवंटन, आज तक नहीं सौंपे

Dainik Bhaskar

May 03, 2018, 02:00 AM IST

Abu Road News - उमरनी ग्राम स्थित हाउसिंग बोर्ड कॉलोनी द्वितीय फेज में बने आवासीय मकानों का लॉटरी सिस्टम से आवंटन हुए डेढ़ साल से...

उमरनी हाउसिंग बोर्ड कॉलोनी में डेढ़ साल पहले लॉटरी से मकान आवंटन, आज तक नहीं सौंपे
उमरनी ग्राम स्थित हाउसिंग बोर्ड कॉलोनी द्वितीय फेज में बने आवासीय मकानों का लॉटरी सिस्टम से आवंटन हुए डेढ़ साल से भी अधिक का समय बीत चुका है। इसके बाद भी संबंधित आवंटियों को इन मकानों के कब्जे नहीं दिए जा सके हैं। इससे न तो इनका रखरखाव हो रहा है और न ही उपयोग। वहीं, हाउसिंग बोर्ड प्रशासन से कोई संतोषप्रद जवाब नहीं मिलने से आवंटी परेशान हो रहे हैं। प्राप्त जानकारी के अनुसार अतिप्राचीन ऋषिकेश धाम मार्ग पर उमरनी ग्राम में स्थित राजकीय उच्च प्राथमिक विद्यालय एवं गणेश मंदिर के पास वर्ष 2014-15 में हाउसिंग बोर्ड कॉलोनी द्वितीय फेज का निर्माण कार्य शुरु करवाया गया था। इसमें एचआईजी के पांच, एमआईजी ए-46, एमआईजी बी के 34, एलआईजी के 65 एवं ईडब्लुएस केटेगरी के 70 मकान बनाए गए हैं। इसमें एचआईजी, एमआईजी ए व बी केटेगरी के मकान सेल्फ फाइनेंस स्कीम में आवंटित हुए है। संबंधित आवंटियों की ओर से इनका भुगतान चार किश्तों में जमा भी करवा दिया गया था। इसको भी काफी समय बीत चुका है। जबकि, शेष दोनों केटेगरी में बने मकानों की राशि का भुगतान आवंटियों की ओर से मासिक किश्तों पर किया जा रहा है। करीब डेढ़ साल पहले लॉटरी सिस्टम द्वारा इनका आवंटन कर संबंधित मकानों के नंबर दिए गए थे। तब से लेकर आज तक कब्जा सुपुर्द होने का इंतजार कर रहे है।

अभी तक न तो सड़कें बनी और न ही नालियां, बिजली-पानी की व्यवस्था नहीं

आबूरोड. हाउसिंग बोर्ड कॉलोनी के इन मकानों का लॉटरी सिस्टम से हुआ था आवंटन, जो अभी तक सुपुर्द नहीं किए गए।

यह है कॉलोनी की स्थिति

हाउसिंग बोर्ड प्रशासन ने मकानों का निर्माण तो करवा दिया लेकिन, यहां मूलभूत सुविधाएं मुहैया कराने की ओर ध्यान नहीं दिया गया। हालत यह है कि 220 मकानों वाले इस द्वितीय फेज में आज तक न तो सड़कें एवं नालियां बनी हैं और न ही पेयजल व लाइटों के कोई प्रबंध किए गए हैं। मकानों के आसपास में अंग्रेजी बबूल की बड़ी-बड़ी झाडिय़ां उगी हुई हैं। शाम होते ही पूरा आवासीय क्षेत्र अंधेरे में डूब जाता है।

असामाजिक तत्वों की शरणस्थली बन रहे मकान

कॉलोनी के प्रथम फेज में रहने वाले लोगों की बात माने तो मकानों के सूने होने के कारण यहां असामाजिक तत्वों की गतिविधियां बढ़ जाती हैं। एकांत में बने कई मकानों में देर रात तक शराब की पार्टियां होती रहती हैं। इसके साथ ही आए दिन बंद मकानों के ताले टूटते रहते है। इस संबंध में जब भी हाउसिंग बोर्ड अधिकारी यहां आए है उन्हें बताया गया है वे हर बार समुचित प्रबंध कराने का भरोसा देकर चले जाते है।

मूलभूत सुविधाओं की कमी


X
उमरनी हाउसिंग बोर्ड कॉलोनी में डेढ़ साल पहले लॉटरी से मकान आवंटन, आज तक नहीं सौंपे
Astrology

Recommended

Click to listen..