--Advertisement--

गर्लफ्रेंड का मर्डर कर रोजाना की तरह घर जाकर खाना खाया, जुट गया अपने काम में

सच्चाई बताई तो मिली मौत : प्रेमिका का विवाह तय होने की बात सुन प्रेमी ने उतारा मौत के घाट

Danik Bhaskar | Jan 08, 2018, 07:05 AM IST

अजमेर. कॉलेज छात्रा कोमल की हत्या का 24 घंटे में रविवार को पुलिस ने खुलासा कर दिया। कातिल मृतका का प्रेमी निकला, मृतका द्वारा विवाह तय होने की बात नहीं बताने से नाराज था। जैसे ही यह जानकारी मिली, उत्तेजित होकर प्रेमिका की गला घोंट कर हत्या कर दी। आरोपी ने मृतका को धोखे से घर के पीछे बुलाया आैर रस्सी से गलाघोंट कर उसकी हत्या कर दी। शव वहीं पास में कंटीली झाड़ियों में फेंक दिया। वारदात के बाद रोजाना की तरह घर जाकर खाना खाया आैर अपने काम में जुट गया। पुलिस आरोपी को सोमवार को कोर्ट में पेश करेगी।

विश्वासघात, आखिरी बार मिलने के बहाने घर के बाहर बुलाया
- पुलिस के मुताबिक आदर्शनगर दुर्गा कॉलोनी निवासी करण सिंह उर्फ जूली पुत्र नेमसिंह को गिरफ्तार किया गया। आरोपी जूली से मृतका जोंसगंज निवासी कोमल कुशवाह के प्रेम संबंध थे, कुछ समय पहले ही कोमल का विवाह तय हो गया था। एक दो दिन में उसकी गोदभराई के लिए आने वाले थे।

- यह जानकारी कोमल ने जूली को नहीं बताई थी, लेकिन रोजाना दोनों के बीच फोन पर बातचीत जारी थी। इसी दौरान दो तीन पहले जूली का फोन आया, कोमल बात कर रही थी कि पीछे से घरवालों ने उसके विवाह से जुड़ी कोई बात बोली आैर यह जूली ने सुन ली।

- इसके बाद वह कोमल पर आगबबूला हो उठा, डर के मारे कोमल ने सच्चाई बताई तो जूली को यह नागवार गुजरा। धमकी देकर हाथोंहाथ खुद से शादी का दबाव बनाने लगा। मनाही पर उग्र हो गया आैर कोमल को धोखे से आखिरी बार मिलने की बात कहकर घर के बाहर बुलाया आैर मौत के घाट उतार दिया।

नशे की लत का शिकार है आरोपी
- प्रेमिका को मौत के घाट उतारने वाला हत्यारा जूली नशे की लत का आदि है। वह पूर्व में भी मृतका कोमल को डरा-धमका चुका है। फोन पर बात करते समय भी कई बार गुस्सा करता था।

- जांच में सामने आया कि आरोपी जूली डीजे का काम करता है, शादी व अन्य समारोह में डीजे की बुकिंग लेता है। जबकि कोमल के पिता अनिल कुमार भी कैटरिंग का काम करते हैं।

मामला एक नजर
- मृतका कोमल सावित्री कॉलेज में फर्स्ट ईयर की छात्रा थी। मृतका के पिता अनिल ने पुलिस को जानकारी दी थी कि दस दिन पहले ही उन्होंने कोमल का संबंध आगरा में तय कर दिया था।

- लड़के वाले कुछ दिन बाद ही गोदभराई की रस्म के लिए आने वाले थे। पत्नी अस्पताल में भर्ती है। शुक्रवार शाम को कोमल घर से बगैर कुछ बताए निकल गई थी।

- परिजनों ने समझा कि वह मां से मिलने अस्पताल गई है, लेकिन देर रात घर नहीं पहुंची तो उसकी तलाश की गई। रामगंज थाने पर कोमल की गुमशुदगी की सूचना दी गई थी।

- शनिवार सुबह मकान के पीछे ही रेलवे बाउंड्री के पार झाड़ियों में कोमल की लाश पड़ी मिली थी। कोमल के गले पर रस्सी से फंदा लगाए जाने के निशान आैर शरीर के अन्य हिस्सों में भी रगड़ और खरोंच के निशान थे।

टीम वर्क का परिणाम 24 घंटे में खुलासा
एसपी राजेंद्र सिंह के दिशा-निर्देशन में आईपीएस मोनिका सैन के नेतृत्व में सीआई अजयकांत, एसआई युनूस खां, एएसआई विजय कुमार, मुकेश कुमार, हैड कांस्टेबल पवन कुमार, कांस्टेबल सुरेंद्र बहादुर, बाबूलाल, शिवराज, योगेश कुमार, प्रहलाद सिंह, श्रवण सिंह, भंवरलाल आैर शंकर सिंह को पुलिस टीम में शामिल किया गया। टीम ने मशक्कत कर चौबीस घंटे में कोमल हत्याकांड का खुलासा कर आरोपी को गिरफ्तार कर लिया।