--Advertisement--

महिला थाने में 10 हजार की रिश्वत लेते कॉन्स्टेबल को रंगे हाथ पकड़ा

दहेज प्रताड़ना के मामले में मां और बहन का नाम हटाने के एवज में मांगी थी घूस

Danik Bhaskar | Jan 10, 2018, 07:24 AM IST

अजमेर. एसीबी ने मंगलवार को महिला थाने में तैनात कांस्टेबल निर्मल कुमार को दस हजार रुपए रिश्वत लेते रंगे हाथ पकड़ लिया। कांस्टेबल ने दहेज प्रताड़ना के मामले में आरोपी युवक से केस में मां और बहन को बाहर करने के एवज में पंद्रह हजार रुपए की डिमांड की थी। पीड़ित ने सोमवार को एक वकील के माध्यम से कांस्टेबल को चार हजार रुपए पहुंचाए थे, लेकिन वकील ने यह राशि खुद रख ली। रुपए नहीं मिलने से गुस्साए कांस्टेबल ने युवक को उसकी मां व बहन को गिरफ्तार करने की धमकी दी थी। इस पर पीड़ित ने एसीबी में शिकायत की। एसीबी मामले में वकील की भूमिका के बारे में भी जांच कर रही है। आरोपी कांस्टेबल को गिरफ्तार कर लिया गया है।


पुलिस थाने में भी नहीं मिला न्याय

पत्नी और पुलिस से परेशान युवक ने एसीबी की मदद से महिला थाने में व्याप्त भ्रष्टाचार का खुलासा किया है। पीड़ित किशनगढ़ निवासी रोहित पुत्र राजेश कुमार ने बताया कि 23 जनवरी 2015 को उसकी शादी आदर्शनगर बालूपुरा रोड निवासी रमेश चंद्र इंदौरिया की पुत्री खुशबू उर्फ हनी से हुई थी। शादी के कुछ समय बाद ही खुशबू उसे छोड़ कर पीहर चली गई और घर जंवाई बनने के लिए दबाव डालने लगी।


उसने इनकार किया तो दहेज प्रताड़ना के झूठे आरोप के तहत महिला थाने में रिपोर्ट दर्ज करवा दी। मामले की जांच कर रहे कांस्टेबल निर्मल कुमार ने उससे मामले में उसकी मां और बहन को बचाने की एवज में वकील के माध्यम से 15 हजार रुपए मांगे। उसने बार-बार बताना चाहा कि पत्नी झूठे आरोप लगा रही है। उसकी मां और बहन को जबरन फंसाने की कोशिश में है, लेकिन पुलिस थाने में उसकी सुनवाई नहीं हुई।

कांस्टेबल निर्मल कुमार फोन पर लगातार उसे और उसकी मां व बहन को गिरफ्तार करने की धमकी दे रहा था। सोमवार को 4000 रुपए वकील को कांस्टेबल तक पहुंचाने के लिए दिए थे, लेकिन कांस्टेबल तक यह राशि नहीं पहुंची। वकील ने बीच में ही यह राशि अपनी जेब में डाल ली थी।

इस से गुस्साए कांस्टेबल ने मंगलवार को रोहित को थाने बुलाया और उससे रिश्वत राशि की मांग की। परेशान होकर उसने मामले की जानकारी एसीबी को दी। एसीबी दल ने शिकायत का सत्यापन करने के बाद ट्रेप कार्रवाई को अंजाम दिया। इसके तहत उसे दस हजार रुपए केमिकल लगा कर दिए गए। यह रुपए मंगलवार शाम को उसने महिला थाने में ही कांस्टेबल निर्मल कुमार को दिए थे। एसीबी टीम ने आरोपी कांस्टेबल को रंगेहाथ पकड़ लिया।


महिला थाने में वकीलों की भूमिका की भी जांच
एसीबी रोहित के बयान के आधार पर उस वकील के बारे में भी जांच कर रही है, जिसको उसने कांस्टेबल को देने के लिए चार हजार रुपए भेजे थे। इसके अलावा एसीबी के अधिकारियों ने महिला थाने के प्रकरण में जुड़े वकीलों के बारे में भी पड़ताल शुरू कर दी है।