Hindi News »Rajasthan »Ajmer» Compulsion To Carry The Funeral After Crossing The Tracks

पटरियां पार कर शवयात्रा ले जाने की मजबूरी, अंडरब्रिज बनने से हो रही परेशानी

अंडरब्रिज का काम चलने पर रेलवे विभाग द्वारा वैकल्पिक मार्ग की व्यवस्था नही करने से ग्रामीणों को परेशानी हो रही है।

Bhaskar News | Last Modified - Dec 30, 2017, 07:51 AM IST

  • पटरियां पार कर शवयात्रा ले जाने की मजबूरी, अंडरब्रिज बनने से हो रही परेशानी

    अजमेर. तिलोनियारेलवे फाटक पर अंडरब्रिज का काम चलने पर रेलवे विभाग द्वारा वैकल्पिक मार्ग की व्यवस्था नही करने से ग्रामीणों को परेशानी हो रही है। शुक्रवार को गांव में बुजुर्ग की मौत के बाद उनके अंतिम संस्कार के लिए निकाली जा रही शवयात्रा को भी ऊबड़ खाबड़ रास्ते से चढ़कर पटरियां पार करनी पड़ी। इससे शवयात्रा में शामिल बच्चों से लेकर बुुजुर्ग तक को भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ा। पत्थर लगने से पैरों में चोट तक गई। वैकल्पिक मार्ग नहीं होने से हरमाड़ा-तिलोनिया गांव का संपर्क ही टूट गया। इससे पूर्व भी ग्रामवासी विरोध कर चुके है लेकिन कोई सुधार नहीं हुआ।

    - तिलोनिया गांव में रेलवे की ओर से तिलोनिया फाटक को हटाकर अंडर ब्रिज बनाने का कार्य शुरू होने से तिलोनिया हरमाड़ा गांव का संपर्क टूट गया। अब तिलोनिया से हरमाड़ा आने के लिए करीब 12 किलोमीटर का चक्कर लगाना पड़ रहा है। जिससे वाहन चालकों दोनों गांव के ग्रामीणों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

    - गांव के 50 वर्षीय किशनलाल गोदारा की मृत्यु होने पर उनके शव को अंतिम संस्कार के लिए ले जाया जा रहा था। लेकिन वैकल्पिक मार्ग नहीं होने से शवयात्रा में शामिल लोगों को ऊबड़ खाबड़ चढ़ाई चढ़कर पत्थरों के बीच से ऊंचाई पर चढ़कर रेलवे ट्रैक पर पहुंचना पड़ा और उसे पार करना पड़ा।

    - ऐसे में ट्रेन आने का भय भी बना रहता है। शवयात्रा में शामिल होने वालों में बुजुर्ग भी शामिल थे जिन्हें बहुत ज्यादा दिक्कत हुई। कइयों के पैर में पत्थर तक लग गए। इस तरह ग्रामीणों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। ग्रामीणों ने बताया की अंडरपास का काम चलने के कारण हरमाड़ा तिलोनिया का भी सम्पर्क टूट चूका है। तिलोनिया रेलवे फाटक पर अंडरब्रिज के कार्य के चलते वैकल्पिक मार्ग नहीं होने से शवयात्रा को इस तरह पटरी पार करके ले जाते ग्रामीण।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Ajmer

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×