Home | Rajasthan | Ajmer | IG Trolley driver escaped with highway accident

हाइवे पर हुई दुर्घटना,बाल-बाल बचे आईजी ट्रोला चालक वाहन सहित फरार

जयपुर से अजमेर जाते वक्त किशनगढ़ के निकट जयपुर हाइवे पर आईजी मालिनी अग्रवाल की कार को तेज गति से रहे ट्रोले ने टक्कर मार

Bhaskar News| Last Modified - Dec 30, 2017, 07:47 AM IST

IG Trolley driver escaped with highway accident
हाइवे पर हुई दुर्घटना,बाल-बाल बचे आईजी ट्रोला चालक वाहन सहित फरार

किशनगंज/ अजमेर.  जयपुर से अजमेर जाते वक्त किशनगढ़ के निकट जयपुर हाइवे पर आईजी मालिनी अग्रवाल की कार को तेज गति से रहे ट्रोले ने टक्कर मार दी। कार चालक ने सूझबूझ से कार को नियंत्रित कर लिया। हादसे में आईजी उनकी दोनों बेटियों सहित गार्ड बाल-बाल बच गए। हादसे के बाद ट्रोला चालक वाहन सहित मौके से फरार हो गया। मामूली रूप से चोटिल एक गार्ड का मौके पर ही निजी क्लीनिक में प्राथमिक उपचार कराया गया। हादसे के बाद पुलिस ने जाम खुलवाया। आईजी और परिवार को अजमेर रवाना किया गया। 

 

 

 

- जानकारी के अनुसार आईजी अग्रवाल जयपुर से अजमेर लौट रही थी। उनके साथ उनकी दो बेटियां और गार्ड कार में सवार थे। शाम 6 बजे के आसपास कार के किशनगढ़ के निकट पहुंचते ही पीछे से रहे ट्रोले ने ओवरटेक का प्रयास किया।

- इसी चक्कर में बेकाबू ट्रोले ने कार को साइड से टक्कर मार दी। टक्कर इतनी तेज थी कि कार का अगला हिस्सा बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गया। लेकिन कार सवार आईजी और उनकी दोनों बेटियां बाल-बाल बच गई। जबकि एक गार्ड के मामूली रूप से खरोंच आई।

- हादसे के बाद ट्रोला चालक ने रूकने के बजाय वाहन को तेजी से नसीराबाद हाइवे की ओर बढ़ा लिया। हादसे के बाद मौके पर जाम लग गया और वाहनों की कतार लग गई। घटना के बाद मौके पर बांदरसिंदरी, मदनगंज, गेगल और किशनगढ़ शहर थाना पुलिस पहुंची और व्यवस्था को संभाला।

- मौके पर पुलिस उपाधीक्षक ओमप्रकाश किलानिया भी पहुंच गए। इसके बाद क्षतिग्रस्त वाहन को हटाकर यातायात सुचारू कराया गया। आईजी और उनके परिवार को दूसरे वाहन से अजमेर के लिए रवाना किया गया। 
 

बाल-बालबचा परिवार

-  प्रत्यक्षदर्शियोंने बताया कि हादसा इतना जबरदस्त था कि टक्कर के बाद तेज धमाके की आवाज आई। कार का अगला हिस्सा बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गया। टायर फट गया और स्टेप्नी टूट गई।

- गनीमत रही कि ट्रोला अगली सीट से पीछे की ओर नहीं टकराया वरना जान माल का नुकसान हो सकता था। हादसे के बाद आईजी और उनकी बेटियों को लोगों ने संभाला। आईजी ने तुरंत थाने पर फोन कर दिया। सूचना पर डिप्टी ओमप्रकाश किलानिया पहुंच गए और व्यवस्था संभालने में जुट गए। आईजी और उनके परिवार के सुरक्षित मिलने पर राहत की सांस ली। 

prev
next
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending Now