अजमेर

--Advertisement--

फिल्म पद्मावती: करणी सेना ने दी लोकसभा उपचुनाव में बीजेपी को सबक सिखाने की चेतावनी

फिल्म पद्मावती, सवर्ण जाति को आरक्षण, आनंदपाल प्रकरण, संत रामपाल का मुद्दा छाया रैली में। तीखे तेवर राजपूत नेता बोले समा

Dainik Bhaskar

Dec 22, 2017, 07:32 AM IST
karni sena protest against bjp government

अजमेर. राष्ट्रीय राजपूत करणी सेना ने आनंदपाल, संत रामपाल, आरक्षण, लाल चौक कश्मीर में झंडारोहण और पद्मावती फिल्म पर प्रतिबंध लगाने सहित कई मुद्दों पर गुरुवार को अजमेर में चेतावनी सभा में सरकार के खिलाफ कड़े तेवर दिखाए। राजपूत नेताओं ने लोकसभा उप चुनावों में भाजपा को सबक सिखाने की चेतावनी दी। चेतावनी सभा में बड़ी संख्या में हरियाणा के कथा वाचक रामपाल समर्थक भी पहुंचे। ऐसी चर्चा रही कि रामपाल समर्थकों ने पांच लाख रुपए की राशि एकत्र कर करणी सेना को प्रदान की।


सुरक्षा कारणों से रैली के लिए प्रशासन ने डीएवी कॉलेज मैदान दिया था जो शहर से दूर है। आयोजित चेतावनी सभा में राजपूत, रावणा राजपूत तथा हरियाणा में गिरफ्तार संत रामपाल के अनुयायी आए। रैली को संबोधित करते हुए राष्ट्रीय अध्यक्ष सुखदेव सिंह गोगामेड़ी, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष योगेंद्र सिंह कटार, हरियाणा के पूर्व मंत्री सूरज पाल सिंह, राज्य के पूर्व मंत्री राजेंद्र सिंह गुढ़ा, आशु राठौड़, नीलम सिंह, जिलाध्यक्ष विजेंद्र सिंह राठौड़ ने मंच से सरकार को चेताया कि यदि राज्य में भाजपा सरकार की मुख्यमंत्री ने 10 दिन में मांगे नहीं मानी तो हर विधानसभा क्षेत्र में प्रदर्शन होगा।


- उन्होंने कहा कि आनंदपाल एनकाउंटर मामले में राज्य की सरकार ने मामले की जांच के लिए सात सदस्यीय समिति बनायी थी जिसमें सर्व समाज के बुजुर्ग लोग शामिल थे, लेकिन वादे पूरे नहीं होने से राजपूत और रावणा राजपूत समाज में भारी आक्रोश है।

- सरकार ने वादे पूरे नहीं किए। समाज के कई युवक आज भी जेलों में बंद हैं। सीबीआई जांच की मांग पूरी नहीं हुई है। आनंदपाल की पुत्री को भारत लौटने में मदद करें।

- संजय लीला भंसाली की फिल्म पद्मावती को लेकर भी राज्य की भाजपा सरकार गंभीर नहीं है जबकि इस फिल्म पर स्थायी रोक लगायी जानी चाहिए।

गुढ़ा बरसे
पूर्व मंत्री राजेन्द्र सिंह गुढ़ा ने सभा को संबोधित करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के व्यवहार से प्रदेशभर की जनता परेशान है। सरकार की वायदा खिलाफी की वजह से ही आज प्रदेशभर के डाक्टर हड़ताल पर हैं तो राज्य कर्मचारी लगातार आंदोलन कर रहे हैं। समाज के सभी वर्गों में सरकार के प्रति नाराजगी है। सरकार की नीतियों को लेकर राज्य के हर वर्ग में नाराजगी है। मंत्रालयिक कर्मचारी, रोडवेज कर्मचारी, कृषि, पंचायत राज तथा निकायों के कर्मचारी लगातार आंदोलन कर रहे हैं। सरकार ने हद कर दी है कि कर्मचारियों को पूर्व जो राशि मिली उसकी कटौती भी की जाएगी।

आनंदपाल की मां बोली-संपत्तियां मुक्त करो

चेतावनी सभा में एनकाउंटर में मारे गए आनंदपाल की माता निर्मल कंवर भी मौजूद रही। उन्होंने भी राज्य सरकार के रवैये पर नाराजगी जताई। सभा में रावणा राजपूत समाज के मूल सिंह गहलोत, ईश्वर सिंह जसोल, पहाड़ सिंह, रणवीर सिंह ने राज्य सरकार के इस रवैये को लेकर नाराजगी जतायी।

एडीएम सिटी सेंगवा ने लिया ज्ञापन
सभा के दौरान ही करणी सेना के अध्यक्ष गोगामेड़ी ने जब मुख्यमंत्री के नाम अजमेर के जिला कलेक्टर को ज्ञापन देने की बात कही तो सभा स्थल पर मौजूद पुलिस के अधिकारियों ने इस बात से इंकार कर दिया कि किसी भी व्यक्ति को डीएवी कालेज के मैदान से कलेक्ट्रेट जाने नहीं दिया जाएगा। गोगामेड़ी ने इसके बाद पुलिस क अफसरों के इस बात को मान लिया कि सभा स्थल पर ही ज्ञापन लेने कि व्यवस्था सभा की जाए। इसके बाद सिटी मजिस्ट्रेट अरविंद सेंगवा सभा स्थल पर आए और उन्होंने करणी सेना के पदाधिकारियों से ज्ञापन लिया। सेंगवा ने भरोसा दिलाया कि उनकी मांगों को सरकार तक पहुंचा दिया जाएगा।

करणी सेना को 5 लाख रुपए की सहायता दी

चेतावनी सभा में आए लोगों ने स्वेच्छा से मंच तक पहुंच कर अपने सामर्थ्य के सहायता राशि भी दी। जिलाध्यक्ष राठौड़ ने बताया कि लोगों ने यह राशि सेना के भविष्य में होने वाले कार्यक्रमों के लिए दी है। इसकी घोषणा या मांग लोगों से नहीं की गई थी। चर्चा रही कि यह राशि रामपाल समर्थकों ने दी।

karni sena protest against bjp government
karni sena protest against bjp government
X
karni sena protest against bjp government
karni sena protest against bjp government
karni sena protest against bjp government
Click to listen..