--Advertisement--

टैंकरों से पॉम आयल चोरी करने वाले गिरोह का खुलासा, चार गिरफ्तार

ड्राईवरों की मिली भगत सामने आई, नकली देशी घी बनाने में इस्तेमाल का अंदेशा

Danik Bhaskar | Dec 09, 2017, 07:23 AM IST

अजमेर. सिविल लाइंस थाना पुलिस ने स्पेशल टीम की मदद से शुक्रवार को जयपुर रोड अशोक उद्यान के निकट टैंकर से पॉम आयल चोरी कर रहे चार लोगों को गिरफ्तार किया है। पुलिस के अनुसार यह गिरोह लंबे समय से पॉम आयल चोरी कर रहा था। गिरोह ने टैंकरों के ड्राइवर व खलासियों को इस गोरखधंधे में शामिल कर लिया था। यह गिरोह पॉम आयल खरीदने वाली फर्म को लाखों रुपए की चपत लगा चुका है। पकड़े गए अारोपियों से गिरोह के नेटवर्क के बारे में जानकारी हासिल की जा रही है।

आरोपियों के कब्जे से टेंकर और ऑयल चोरी में काम आने वाला सामान भी जब्त किया है। आशंका है कि अजमेर में नकली देशी घी बनाने का कारखाना कहीं संचालित हो रहा है, यह तेल उसी में काम में लिया जाता है।


सीओ नार्थ डा. दुर्गासिंह राजपुरोहित और सिविल लाइंस थाना प्रभारी करण सिंह ने बताया कि पुलिस की स्पेशल टीम की मदद से कार्रवाई की गई, इसमें गिरोह का खुलासा करने में सफलता हासिल हुई है। राजपुरोहित ने बताया कि स्पेशल टीम की सूचना मिली थी कि हाइवे पर एक टेंकर को सड़क से साईड में लगाकर उसमें से कुछ तरल पदार्थ पीपों में खाली किया जा रहा है।

इस सूचना पर डिप्टी दुर्गसिंह ने सिविल लाईन पुलिस को साथ लेकर मौके पर छापा मारा, जिसमे पाया गया कि टेंकर चालक समेत चार लोग टेंकर से आयल चोरी कर रहे है। इस पर पुलिस ने टेंकर को जब्त कर चारों लोगों को गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ में पता चला कि यह टेंकर गुजरात से पाम आयल भरकर यूपी कानपुर जा रहा था।

आरोपी टेंकर ड्राइवर मोहम्मद सद्दाम और खलासी मोहम्मद माजिद यूपी प्रतापगढ़ के निवासी है, जबकि आरोपी किशनलाल घूघरा व ग्यारसीलाल दूदू का रहने वाला है। आरोपियों ने पूछताछ में बताया कि लंबे समय से टेंकरों से चोरी-छिपे ऑयल निकाल कर बेचने का कारोबार कर रहे हैं। कार्रवाई करने वाली पुलिस टीम में स्पेशल टीम प्रभारी एएसआई मनोज कुमार, जोगेन्द्र सिंह, शंकर लाल, जितेन्द्र सिंह, करण सिंह, रामनारायण, मनोहर सिंह, रतन सिंह और महिपाल सिंह सहित अन्य पुलिस कर्मी शामिल थे।

नकली देशी घी बनाने में प्रयुक्त होता है पॉम आयल
पाम आयल नकली देशी घी बनाने के काम आता है। आशंका है कि अजमेर में नकली देशी घी बनाने का कारखाना संचालित हो रहा है। आरोपियों के बयान के आधार पर पुलिस इस कारोबार के मास्टर माइंड शर्मा की तलाश में जुटी है।