--Advertisement--

किशनगढ़-टू-दिल्ली की ‘उड़ान’ पर ग्रहण, विमान कंपनियां को सरकारी रियायतों का इंतजार

उद‌्घाटन के तीन माह बाद भी किशनगढ़ से नियमित उड़ानें शुरू नहीं हो पाईं हैं

Danik Bhaskar | Jan 06, 2018, 07:27 AM IST

अजमेर. उप चुनाव की आपाधापी के बीच राज्य की भाजपा सरकार ने एयरपोर्ट का उदघाटन तो करवा लिया, लेकिन तीन माह बीत जाने के बाद भी यहां से नियमित उड़ानें शुरु नहीं हो पाई हैं। किशनगढ़ एयरपोर्ट से विमान संचालित करने वाली कंपनियां दिल्ली में लैंडिंग चार्ज कम करने सहित अन्य रियायतों की मांग कर रही हैं, इस वजह से नए साल के शुरूआत में किशनगढ़ से दिल्ली आैर दिल्ली से किशनगढ़ के लिए नियमित फ्लाइट अब तक शुरू नहीं हो सकी।


- नागरिक उड्डयन मंत्रालय में विमान कंपनियों की फाइल लंबित पड़ी है। यहां से क्लीयरेंस मिलते ही दिल्ली के लिए नियमित विमान सेवाएं शुरू होंगी।

- इधर, आपको बता दें कि पिछले कई माह से किशनगढ़ से दिल्ली आैर दिल्ली से किशनगढ़ विमान सेवा सिर्फ कागजों में ही दौड़ रही है लेकिन शुरूआत अब तक नहीं हो सकी।

- एयरपोर्ट डायरेक्टर अशोक कपूर का कहना है कि जूम एयरलाइंस आैर स्पाइस जेट ने उड़ान स्कीम के तहत प्रपोजल सबमिट किए हैं, प्रक्रिया अंतिम स्टेज पर है। उम्मीद है जल्द ही किशनगढ़ से दिल्ली के लिए फ्लाइट प्रारंभ हो जाएंगी।

अगस्त के बाद सितंबर में उड़नी थी दिल्ली के लिए फ्लाइट, जनवरी तक नहीं हो सकी शुरू

- किशनगढ़ एयरपोर्ट का शुभारंभ विगत 15 अगस्त को तय था, लेकिन पीएमआे से समय नहीं मिल रहा था इस वजह से दिनांक आगे से आगे बढ़ती जा रही थी।

- एयरपोर्ट पर कामों की रफ्तार भी कछुआ चाल थी, इस कारण से भी शुभारंभ में रुकावटें पैदा हो रही थीं। फिर सितंबर में नई तारीक मिली शुभारंभ की, लेकिन डायरेक्ट्रेट ऑफ सिविल एविएशन (डीजीसीए) के निरीक्षण में एयरपोर्ट पर कई खामियां सामने आईं। कार्टो सर्वे में समय लगा, फिर रनवे सहित अन्य ऑपरेशनल एरिया की कमियां दूर की गई।

- मौसम संबंधी उपकरणों का इंस्टालेशन हुआ। एयर ट्रैफिक कंट्रोल (एटीसी) सहित अन्य स्टॉफ की तैनातगी के बाद आखिरकार विगत अक्टूबर माह में आनन-फानन में केंद्रीय नागरिक उड्डयन राज्यमंत्री जयंत सिन्हा आैर सीएम वसुंधरा राजे द्वारा एयरपोर्ट का शुभारंभ कर दिया गया। लेकिन नियमित फ्लाइट सिर्फ उदयपुर के लिए ही शुरू हो सकी।


जानें ‘उड़ान’ स्कीम के बारे में सब कुछ

- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पिछले दिनों शिमला से दिल्ली के लिए क्षेत्रीय हवाई सेवा को हरी झंडी दिखाई थी, जिसका नाम ‘उड़ान’ (उड़े देश का आम नागरिक) है। इसी योजना के तहत किशनगढ़ से दिल्ली आैर दिल्ली से किशनगढ़ के लिए विमान सेवा शुरू होगी।

- मालूम हो कि प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) की ओर से ट्वीट में कहा गया कि ‘उड़ान’ (उड़े देश का आम नागरिक) क्षेत्रीय संपर्क को बढ़ाने के लिए बाजार आधारित अपनी तरह की पहली योजना है। इस योजना के तहत करीब 500 किलोमीटर दूरी, 1 घंटे की फ्लाइट या 30 मिनट की हेलिकॉप्टर यात्रा के लिए 2500 रुपए देने होंगे।


जूम एयर आैर स्पाइस जेट द्वारा किशनगढ़ से दिल्ली आैर दिल्ली से किशनगढ़ विमान सेवा के लिए “उड़ान’ स्कीम के तहत सरकार को प्रपोजल सबमिट किए गए हैं। दिल्ली एयरपोर्ट पर टेक ऑफ आैर लैंडिंग के लिए टाइम स्लॉट नहीं मिलने के कारण देरी हो रही है। इधर, रीजनल कनेक्टिवटी स्कीम में फाइनेंशियल बिड की प्रक्रिया अंतिम चरण में है। उम्मीद की जा रही है जल्द ही दिल्ली के लिए फ्लाइट शुरू होंगी।
-अशोक कपूर
डायरेक्टर, किशनगढ़ एयरपोर्ट