--Advertisement--

लोकसभा उपचुनाव: चार साल बाद फिर से जोश में नजर आई कांग्रेस

मुख्यमंत्री दो हजार करोड़ रुपए का मकान बनवा रहीं हैं। अपनी पेंशन और भत्तों की भी उन्हें चिंता सता रही है।

Danik Bhaskar | Dec 08, 2017, 07:36 AM IST

अजमेर. विधानसभा और लोकसभा चुनावों में नरेंद्र मोदी की लहर में परास्त हुई कांग्रेस अब नए सिरे से चुनावों में भाजपा से दो दो हाथ करने को तैयार नजर आ रही है। लोकसभा उप चुनाव की तैयारियों को लेकर गुरुवार को मोइनिया इस्लामिया स्कूल मैदान में आयोजित बूथ स्तरीय कार्यकर्ता सम्मेलन में कांग्रेसी जिस जोशो खरोश में नजर आए, उससे तो कम से कम यही लगता है। बूथ कार्यकर्ताओं ने जो उत्साह आज दिखाया वो मतदान तक कायम रहा ताे भाजपा को कांग्रेस से कड़ी चुनौती मिल सकती है।


उप चुनाव की तैयारियों का आगाज कर रही कांग्रेस में गुरुवार को अलग तरह का जोश व उर्जा का संचार नजर आया। विपक्ष में रहते हुए चार साल से कांग्रेसी बेहाल नजर आ रहे थे। अजमेर के कांग्रेसी कार्यकर्ताओं ने सम्मेलन में चार घंटे तक अपने नेताओं की बात सब्र के साथ सुनकर जिस तरह प्रदेश अध्यक्ष सचिन पायलट में विश्वास व्यक्त किया वह कांग्रेस के लिए सकारात्मक शुरूआत कही जा सकती है।

सुबह करीब साढ़े 11 बजे सम्मेलन की शुरूआत हुई और करीब पौने तीन बजे सचिन पायलट का भाषण शुरू हुआ तो कार्यकर्ताओं ने सभा स्थल को नारों से गुंजा दिया। हजारों कार्यकर्ताओं का जुटना और कई घंटों तक उनकी मौजूदगी दर्शा रही थी कि कांग्रेस कार्यकर्ता अपनी पार्टी के अच्छे दिनों के लिए लड़ने को तैयार हो गया है।


सम्मेलन में कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष सचिन पायलट सहित राष्ट्रीय महासचिव अविनाश पांडे व वरिष्ठ कांग्रेसियों ने कार्यकर्ताओं को उप चुनाव का महत्व बताते हुए जीत के लिए जुटने का संदेश दिया। मेरा बूथ मेरा गौरव का जो स्लोगन दिया गया है उसे कांग्रेस के राष्ट्रीय व प्रदेश नेताओं ने सराहा और सम्मेलन की सफलता के लिए स्थानीय नेताओं की पीठ भी थपथपाई।

पायलट ने जसराज जयपाल और नाथूराम सिनोदिया को मंच पर अपने साथ बिठाया और संदेश दिया कि वरिष्ठ नेताओं का पार्टी में पूरा सम्मान है।

सरकारी नीतियों से जनता परेशान
कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष ने कहा कि प्रदेश में मौजूदा सरकार के चार साल और हमारी सरकार के पांच साल के कामों का आंकलन जनता करेगी तो निश्चित रूप से इस बार कांग्रेस प्रचंड बहुमत से जीतेगी और इसका आगाज अजमेर उप चुनाव से होगा। पायलट ने कहा कि जनता सरकार की रीति व नीतियों से त्रस्त है। हर काम निजी हाथों में सौंपने पर भी उन्होंने सवाल उठाया।

सीआरपीसी में संशोधन कर प्रस्तावित किए गए कानून को काला कानून बताते हुए पायलट ने कहा कि भ्रष्टाचारियों को बचाने वाला और प्रेस की आजादी पर अंकुश लगाने वाला यह कानून ना तो आज लागू होगा और ना ही कल। पायलट ने कहा कि भाजपा के वरिष्ठ नेता घनश्याम तिवाड़ी खुद सरकार की भ्रष्ट नीतियों पर खुलकर बोल रहे हैं।

#लय में दिखे पायलट ने चुटकियां भी लीं

सचिन पायलट गुरुवार को बिल्कुल अलग लय में नजर आए और भाजपा पर उसी अंदाज में तंज कसे जिस अंदाज में भाजपा, कांग्रेस पर बरसते हुए तंज कसती है।

वसुंधरा राजे की टाइमिंग गलत हो गई

पायलट ने भाषण की शुरूआत वसुंधरा राजे पर कटाक्ष करते हुए कहा कि उप चुनाव की तिथि को लेकर शायद राजे की टाइमिंग गलत हो गई और गुजरात चुनाव के हिसाब से अजमेर में ताबड़तोड़ दौरे कर डाले। चार साल तक जिस सरकार को अजमेर की परवाह नहीं थी अचानक ही यहां सारा प्रेम उमड़ पड़ा।

- एयरपोर्ट का आननफानन में उद्घाटन पर पायलट ने कहा बाजार हम गए, दुकान हमने ढूंंढी, कपड़ा हम लाए, नाप हमने दिया, दर्जी भी हम लाए अब बटन टांक कर और नाड़ा लगाकर इसे अपना बताया जा रहा है।
- कोई कह रहा था कि मुख्यमंत्री दो हजार करोड़ रुपए का मकान बनवा रहीं हैं। अपनी पेंशन और भत्तों की भी उन्हें चिंता सता रही है।
- पहले स्मार्ट सिटी की घोषणा हुई जाे जुमला साबित हुआ। फिर सरकार ने घोषणा की लेकिन अजमेर में स्मार्ट सिटी का काम कहीं नजर नहीं आता
ईवीएम में घपले से यूपी जीता, यहां बूथ कार्यकर्ता रहें सतर्क
राष्ट्रीय महासचिव अविनाश पांडे ने कहा कि राजस्थान में हरेक वर्ग सरकार से त्रस्त है और कुशासन से निजात पाना चाहता है। पांडे ने कहा कि सचिन पायलट के अजमेर से सांसद रहने के दौरान विकास के बड़े काम हुए थे। पांडे ने कहा कि जिस तरह यूपी चुनाव में भाजपा की जीत हुई और ईवीएम को लेकर सवाल उठे वह बिल्कुल जायज थे क्योंकि शहरों में जहां ईवीएम का उपयोग हुआ वहां बीजेपी को 46 प्रतिशत तक वोट मिला वहीं गांवों में जहां बैलेट से मतदान हुआ वहां बीजेपी को 14 से 15 प्रतिशत वोट ही हासिल हुआ। ऐसे में यहां होने वाले चुनाव में कांग्रेसी कार्यकर्ताओं को सतर्क होकर बूथ संभालने की जरूरत है।