--Advertisement--

कुआं ढहने से दाे भाइयों सहित तीन की मौत, खुशनसीब निकला चौथा मजदूर

अचानक कुएं की मुंडेर से मिट्‌टी का बड़ा हिस्सा ढह गया और तीनों युवक मलबे में दब गए।

Danik Bhaskar | Dec 28, 2017, 08:06 AM IST

कादेड़ा/अजमेर. केकड़ी के कादेड़ा कस्बे की बीसलपुर कॉलोनी में बुधवार सुबह कुअां खोद रहे तीन मजदूर कुअां ढहने से मलबे में दब गए। जेसीबी से मलबा हटाकर निकाले जाने तक तीनों की मौत हो चुकी थी। मृतकों में दो सगे भाई थे।

- जानकारी के अनुसार शाहपुरा रोड़ स्थित बीसलपुर कॉलोनी में बीसलपुर विस्थापित देवकिशन कुमावत के खेत पर कुआं खुदाई का कार्य चल रहा था।

- कुएं के लिए करीब 40 फीट गहरा गड्‌ढा खोदने के बाद सुबह करीब सवा सात बजे तीन मजदूर सोमलपुर निवासी 22 वर्षीय इब्राहीम पुत्र बाबू चीता व 24 वर्षीय इमरान पुत्र बाबू चीता के साथ मसूदा के चौरसिया निवासी 40 वर्षीय रणजीत पुत्र देवाराम रावत कुएं के अंदर काम करने उतरे।


चौथा मजदूर कुएं के बाहर खड़ा था

अचानक कुएं की मुंडेर से मिट्‌टी का बड़ा हिस्सा ढह गया और तीनों युवक मलबे में दब गए। चौथे मजदूर ने खेत पर ही बने मकान पर दौड़़कर कुएं के मालिक को बताया। अाधे घंटे में राहत कार्य शुरू हो गया। प्रशासन व ग्रामीणों ने स्थानीय स्तर पर दो जेसीबी व सावर से एक पाॅकलेन मशीन मंगवाकर मलबा हटाने का काम शुरू किया । चार घंटेे तक चले कार्य के बाद तीनों युवकों के शवों को बाहर निकाला जा सका ।


जानकारी मिलते ही केकड़ी उपखंड अधिकारी नीरज मीणा, केकड़ी तहसीलदार सत्यनारायण सुथार,कादेड़ा नायब तहसीलदार राधेश्याम शर्मा, केकड़ी थानाधिकारी नेमीचंद चौधरी, सरपंच आशाराम वैष्णव, पटवारी वीरेंद्र व्यास व प्रशासन मौके पर पहुंच गए। शवों को कादेड़ा के राजकीय सामुदायिक चिकित्सालय लाया गया, जहां चिकित्सकों के नहीं होने से केकड़ी के राजकीय चिकित्सालय में पोस्टमार्टम कर शव परिजनों के सुपुर्द किए गए।

खुशनसीब निकला चौथा मजदूर, बाल-बाल बचा
बुधवार सुबह रोजाना की तरह चाय पीकर मजदूर काम पर लगने के लिए सुबह 7 बजें कुएं में उतरने लगे। उतरनें के बाद 5 मिनट भी नहीं बीतें कि कुएं की मुंडेर पर से कच्ची मिट्टी का पूरा ढ़ेर कुएं के अंदर जा गिरा। कुएं के बाहर खड़ा एक मजदूर भी अंदर जा गिरा। कुएं के अन्दर के तीनों मजदूर मिट्टी के नीचे दब गए जबकी ऊपर से गिरा मजदूर बच गया।