अजमेर

--Advertisement--

नशे में धुत ड्राइवर को पकड़कर उसी के हाथ में थमा दी स्टेयरिंग, बेकाबू वैन गुमटी में घुसी

ट्रैफिक पुलिस के दफ्तर ले जाते समय पुरानी आरपीएससी भवन के सामने हुआ हादसा, दो जख्मी

Danik Bhaskar

Dec 27, 2017, 07:37 AM IST

अजमेर. पुरानी आरपीएससी भवन के सामने मंगलवार शाम को बेकाबू वैन एक वाहन को टक्कर मारती हुई डेयरी बूथ के पास चाय की थड़ी में घुस गई। वैन दीवार से टकरा कर रूक गई। हादसे में वैन की चपेट में आने से दो लोग गंभीर रूप से जख्मी हुए हैं। खास बात यह है कि वैन चालक शराब के नशे में धुत था, ट्रैफिक पुलिस के कांस्टेबल ने उसे पकड़ कर वैन में बैठकर कोतवाली थाने के सामने ट्रैफिक पुलिस के दफ्तर ले जा रहा था। कांस्टेबल ने चूक यह कर दी कि यह मालूम होते हुए कि ड्राइवर नशे में धुत है, वैन का स्टेयरिंग उसी के हाथ में थमा कर खुद उसके पास वाली सीट पर बैठ गया। फिर क्या था ड्राइवर ने नशे की झोंक में वैन की गति बढ़ा दी, कांस्टेबल ने गति धीमी करने को कहा तो वह उससे उलझ गया। कांस्टेबल ने हड़बड़ाहट में वैन का ब्रेक दबा दिया। वैन असंतुलित होकर डेयरी बूथ के पास चाय की थड़ी में घुस गई।

खुद बगल वाली सीट पर बैठा कांस्टेबल... रफ्तार बढ़ाने पर रोका पर नहीं माना आरोपी

- पलटन बाजार निवासी वैन ड्राइवर अनिल शराब के नशे में धुत था। अंबेडकर सर्किल पर तैनात ट्रैफिक पुलिस के कांस्टेबल नरेन्द्र सिंह ने उसे रोका और जांच की।

- नशे में धुत पाए जाने पर नरेन्द्र सिंह ने अनिल के खिलाफ धारा 185 के तहत कार्रवाई की थी। वाहन सीज करने के लिए कांस्टेबल उसे लेकर कोतवाली ट्रैफिक पुलिस के कार्यालय ले जा रहा था।

- कांस्टेबल ने शराबी अनिल को ही स्टेयरिंग संभला दिया था और खुद ड्राइवर के बगल वाली सीट पर बैठ गया था।

- नशे में धुत अनिल ने आरपीएससी के पुरानी भवन के निकट वैन की गति अचानक तेज कर दी थी। वह वाहन लहराते हुए चला रहा था।

- कांस्टेबल नरेन्द्र सिंह ने उसे गाड़ी रोकने या धीमी करने को कहा तो वह उससे उलझ गया, नतीजतन बेकाबू वैन डेयरी बूथ के पास एक वाहन से टकराते हुए चाय की थड़ी में घुुस गई।

वैन ने कुचल दिया

- डेयरी बूथ के बाहर खड़े रामगंज इलाका निवासी एसपी शर्मा वैन की चपेट में आ गए और मौके पर ही मौजूद एक अन्य वाहन चालक अल्ताफ को भी वैन ने कुचल दिया।

- अल्ताफ के पैर की हड्डियां चकनाचूर हो गईं, जबकि शर्मा के शरीर पर भी कई चोटें आई। मौके पर मौजूद लोगों ने वैन से ड्राइवर व पुलिसकर्मी को उतारा। दोनों के मामूली चोटें आई।

- कोतवाली थाना पुलिस ने आरोपी ड्राइवर का मेडिकल मुआयना कराया है। उसके खिलाफ केस दर्ज किया गया है।

कांस्टेबल को ट्रैफिक कंट्रोल को फोन कर बुलाना चाहिए ड्राइवर

- ट्रैफिक पुलिसकर्मी की यह गलती रही कि जिस ड्राइवर को नशे में पकड़ा था उसे ही वाहन का स्टेयरिंग दे दी। जबकि उसे मौके पर ही वैन खड़ी करवाकर ट्रैफिक कंट्रोल रूम फोन कर ड्राइवर बुलवाना चाहिए था।

- एसपी राजेन्द्र सिंह के अनुसार अगर कांस्टेबल सूचित करता तो कोई भी ड्राइवर मौके पर पहुंच कर जब्त वाहन को कार्यालय ले आता। पर उसने शराबी को ही वैन का स्टेयरिंग संभला दिया।

एक साल में 11 हजार शराबी वाहन चालकों की धरपकड़

- जिला पुलिस ने सड़क हादसों पर अंकुश के लिए इस साल शराब पीकर वाहन चलाने वालों के खिलाफ विशेष तौर पर सख्त कार्रवाई की है।

- एसपी राजेन्द्र सिंह चौधरी के अनुसार इस साल करीब 11 हजार वाहन चालकों के खिलाफ धारा 185 के तहत कार्रवाई की गई।

- इनमें से पांच सौ से ज्यादा आरोपियों के ड्राइविंग लाइसेंस भी निरस्त कराए गए हैं। पिछले साल करीब पांच हजार वाहन चालकों पर ही कार्रवाई हो पाई थी।

- एसपी के अनुसार पुलिसिंग में सबसे ज्यादा जोर शराबी वाहन चालकों की धरपकड़ पर दिया जा रहा है। इससे एक्सीडेंट पर अंकुश लगेगा और जनहानि भी कम होगी


रेलवे स्टेशन परिसर में भी पकड़ा गया था नशे में धुत ओला कैब ड्राइवर
- नशेड़ी ड्राइवरों के खिलाफ अभियान के दौरान दो दिन पहले आरपीएफ के जवानों ने रेलवे स्टेशन परिसर में नशे में धुत टैक्सी ओला कैब के ड्राइवर को पकड़ा था।

- आरपीएफ ने आरोपी का मेडिकल मुआयना कराया और उसके खिलाफ मुकदमा दर्ज किया था।

Click to listen..