विज्ञापन

डूंगरपुर | राजस्था

Dainik Bhaskar

Feb 01, 2018, 03:10 AM IST

Ajmer News - आदिवासी महाकुंभ की ड्रोन से ली गई पहली तस्वीर सिर्फ भास्कर में राजस्थान के डूंगरपुर में माही, सोम और जाखम...

डूंगरपुर | राजस्था
  • comment
आदिवासी महाकुंभ की ड्रोन से ली गई पहली तस्वीर सिर्फ भास्कर में

राजस्थान के डूंगरपुर में माही, सोम और जाखम नदियों के संगम पर हर साल आदिवासी समुदाय का महाकुंभ लगता है। पहली बार भास्कर ने अपने पाठकों के लिए महाकुंभ मेले की तस्वीर ड्रोन के जरिए ली है। फोटो: ताराचंद गवारिया


डूंगरपुर | राजस्थान के डूंगरपुर जिले के बेणेश्वरधाम में माही, सोम और जाखम नदियों के संगम (वागड़ प्रयाग) पर हर साल आदिवासी महाकुंभ मेला आयोजित होता है। बुधवार को माघ पूर्णिमा के मौके पर संगम पर एक लाख से ज्यादा श्रद्धालुओं ने स्नान किया। इसमें गुजरात, मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र और राजस्थान समेत 10 राज्यों के लोग पहुंचे। वैसे तो आदिवासी महाकुंभ मेला करीब एक महीने तक चलता है, पर मुख्य मेला सिर्फ 8 दिन चलता है। इस बार यह मेला 27 जनवरी को शुरू हुआ है, जो 3 फरवरी को समाप्त होगा। अब तक मेले में करीब 5 लाख लोग पहुंच चुके हैं। यह उत्तर भारत में आदिवासी समाज का सबसे बड़ा मेला भी है।

राजस्थान के डंूगरपुर में माघ पूर्णिमा पर एक लाख लोगों ने स्नान किया

आदिवासी महाकुंभ में अब तक 5 लाख लोग पहुंचे


अजमेर, गुरुवार, 1 फरवरी, 2018

मेला 24 घंटे लगा रहता है

मेला 24 घंटे लगा रहता है





पालकी में महंत अच्युतानंद

धनुष-बाण, महंत के शाही स्नान और पालकी यात्रा आकर्षण का केंद्र हैं

महाकुंभ मेले में धनुष-बाण की जमकर बिक्री हो रही है। आदिवासी समाज के परिधान भी बिक रहे हैं। बुधवार को मेले का मुख्य आकर्षण निष्कलंक अवतार की पालकी यात्रा और संगम पर महंत अच्युतानंद का शाही स्नान रहा। पालकी यात्रा मावजी महाराज की जन्मस्थली साबला के हरि मंदिर से निकाली गई। सैकडों धर्मध्वजाओं, भजन-कीर्तन, गाजे-बाजे एवं रासलीला के साथ पालकी यात्रा का भक्तों ने आनंद लिया।



4

X
डूंगरपुर | राजस्था
COMMENT
Astrology

Recommended

Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें