Hindi News »Rajasthan »Ajmer» डूंगरपुर | राजस्था

डूंगरपुर | राजस्था

आदिवासी महाकुंभ की ड्रोन से ली गई पहली तस्वीर सिर्फ भास्कर में राजस्थान के डूंगरपुर में माही, सोम और जाखम...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 01, 2018, 03:10 AM IST

आदिवासी महाकुंभ की ड्रोन से ली गई पहली तस्वीर सिर्फ भास्कर में

राजस्थान के डूंगरपुर में माही, सोम और जाखम नदियों के संगम पर हर साल आदिवासी समुदाय का महाकुंभ लगता है। पहली बार भास्कर ने अपने पाठकों के लिए महाकुंभ मेले की तस्वीर ड्रोन के जरिए ली है। फोटो: ताराचंद गवारिया


डूंगरपुर | राजस्थान के डूंगरपुर जिले के बेणेश्वरधाम में माही, सोम और जाखम नदियों के संगम (वागड़ प्रयाग) पर हर साल आदिवासी महाकुंभ मेला आयोजित होता है। बुधवार को माघ पूर्णिमा के मौके पर संगम पर एक लाख से ज्यादा श्रद्धालुओं ने स्नान किया। इसमें गुजरात, मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र और राजस्थान समेत 10 राज्यों के लोग पहुंचे। वैसे तो आदिवासी महाकुंभ मेला करीब एक महीने तक चलता है, पर मुख्य मेला सिर्फ 8 दिन चलता है। इस बार यह मेला 27 जनवरी को शुरू हुआ है, जो 3 फरवरी को समाप्त होगा। अब तक मेले में करीब 5 लाख लोग पहुंच चुके हैं। यह उत्तर भारत में आदिवासी समाज का सबसे बड़ा मेला भी है।

राजस्थान के डंूगरपुर में माघ पूर्णिमा पर एक लाख लोगों ने स्नान किया

आदिवासी महाकुंभ में अब तक 5 लाख लोग पहुंचे

8 दिन के इस आदिवासी महाकुंभ मेले में राजस्थान, मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र, गुजरात, छत्तीसगढ़ समेत 10 राज्यों से श्रद्धालु पहुंचे

अजमेर, गुरुवार, 1 फरवरी, 2018

मेला 24 घंटे लगा रहता है

मेला 24 घंटे लगा रहता है

खास है कि मुख्य मेले के 8 दिन तक दुकानें 24 घंटे खुली रहती हैं।

करीब 450 साल से आदिवासी महाकुंभ का आयोजन हो रहा है।

खास है कि मुख्य मेले के 8 दिन तक दुकानें 24 घंटे खुली रहती हैं।

करीब 450 साल से आदिवासी महाकुंभ का आयोजन हो रहा है।

पालकी में महंत अच्युतानंद

धनुष-बाण, महंत के शाही स्नान और पालकी यात्रा आकर्षण का केंद्र हैं

महाकुंभ मेले में धनुष-बाण की जमकर बिक्री हो रही है। आदिवासी समाज के परिधान भी बिक रहे हैं। बुधवार को मेले का मुख्य आकर्षण निष्कलंक अवतार की पालकी यात्रा और संगम पर महंत अच्युतानंद का शाही स्नान रहा। पालकी यात्रा मावजी महाराज की जन्मस्थली साबला के हरि मंदिर से निकाली गई। सैकडों धर्मध्वजाओं, भजन-कीर्तन, गाजे-बाजे एवं रासलीला के साथ पालकी यात्रा का भक्तों ने आनंद लिया।

माघ पूर्णिमा पर श्रद्धालुओं ने आबूदर्रा स्थित संगम पर परिजनों की अस्थियों को पारंपरिक अनुष्ठानों के साथ विसर्जित किया।

वागड़ संस्कृति पर शोध कर रहे कमलेश शर्मा बताते हैं कि यह महाकुंभ मेला 1548-1580 ई. के बीच शुरू हुआ था।

4

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Ajmer

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×