Hindi News »Rajasthan »Ajmer» ‘होली का अर्थ ही पवित्रता’

‘होली का अर्थ ही पवित्रता’

अजमेर | प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय नवाब का बेडा द्वारा आयोजित हेल्थ वेल्थ हैप्पीनेस आज़ाद...

Bhaskar News Network | Last Modified - Mar 01, 2018, 03:10 AM IST

‘होली का अर्थ ही पवित्रता’
अजमेर | प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय नवाब का बेडा द्वारा आयोजित हेल्थ वेल्थ हैप्पीनेस आज़ाद पार्क में चल रहे आध्यात्मिक मेले में कीर्ति पाठक अध्यक्ष यूनाइटेड अजमेर, अलका गौड, राष्टीय सेविका समिति अध्यक्ष हीरा लाल भट्टाचार, सयुक्त महाप्रबंधक एचएमटी कालीचरण खंडेलवाल आदि ने बाबा बर्फानी की आरती की और मंगल कामना की। इसके बाद सभी कुंभकरण का लाइव शो देखा।

मेले के सेवाधारयों का एस्कॉर्फ और साफा पहनाकर व तिलक लगाकर स्वागत किया। सेवाधारी अम्बाला एव माउंट आबू से आए हैं। इस अवसर कीर्ति एंड ग्रुप ने डांस की प्रस्तुति दी। राजयोगनी शांता बहन ने कहा कि आपने कभी देवी-देवताओं के पीछे एक लाइट देखी होगी। वह कोई साधारण लाइट नहीं, परंतु पवित्रता की एक अदभुत निशानी के रूप में होती है। हम जितने मन से हलके होते है, वह लाइट हमारे पीछे एक आभा मंडल के रूप में प्रखर होती है। पवित्रता बाहरी विघ्नों से बचने का अचूक हथियार है। यह एक छत्र छाया है आपको सोचकर हैरानी होगी की किसी भी तरह का दुख अशांति अपवित्रता का ही परिणाम है, न कि किसी और चीज के कारण हम दुखी या अशांत है। होली का अर्थ ही पवित्र बन पवित्रता का रंग लगाना। होली की इस पूर्व संध्या पर बीके आशा, बीके अंकिता, बीके योगनी, बीके इंद्रा बहन भी मौजूद रहीं। कार्यक्रम का संचालन बी के रूपा बहन ने किया।

आध्यात्मिक मेले में सजी राधा-कृष्ण की झांकी।

अजमेर | प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय नवाब का बेडा द्वारा आयोजित हेल्थ वेल्थ हैप्पीनेस आज़ाद पार्क में चल रहे आध्यात्मिक मेले में कीर्ति पाठक अध्यक्ष यूनाइटेड अजमेर, अलका गौड, राष्टीय सेविका समिति अध्यक्ष हीरा लाल भट्टाचार, सयुक्त महाप्रबंधक एचएमटी कालीचरण खंडेलवाल आदि ने बाबा बर्फानी की आरती की और मंगल कामना की। इसके बाद सभी कुंभकरण का लाइव शो देखा।

मेले के सेवाधारयों का एस्कॉर्फ और साफा पहनाकर व तिलक लगाकर स्वागत किया। सेवाधारी अम्बाला एव माउंट आबू से आए हैं। इस अवसर कीर्ति एंड ग्रुप ने डांस की प्रस्तुति दी। राजयोगनी शांता बहन ने कहा कि आपने कभी देवी-देवताओं के पीछे एक लाइट देखी होगी। वह कोई साधारण लाइट नहीं, परंतु पवित्रता की एक अदभुत निशानी के रूप में होती है। हम जितने मन से हलके होते है, वह लाइट हमारे पीछे एक आभा मंडल के रूप में प्रखर होती है। पवित्रता बाहरी विघ्नों से बचने का अचूक हथियार है। यह एक छत्र छाया है आपको सोचकर हैरानी होगी की किसी भी तरह का दुख अशांति अपवित्रता का ही परिणाम है, न कि किसी और चीज के कारण हम दुखी या अशांत है। होली का अर्थ ही पवित्र बन पवित्रता का रंग लगाना। होली की इस पूर्व संध्या पर बीके आशा, बीके अंकिता, बीके योगनी, बीके इंद्रा बहन भी मौजूद रहीं। कार्यक्रम का संचालन बी के रूपा बहन ने किया।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Ajmer News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: ‘होली का अर्थ ही पवित्रता’
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Ajmer

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×