• Home
  • Rajasthan
  • Ajmer
  • दरगाह दीवान और कमेटी के बीच हुए समझौते को लेकर खादिमों का हंगामा
--Advertisement--

दरगाह दीवान और कमेटी के बीच हुए समझौते को लेकर खादिमों का हंगामा

दरगाह कमेटी द्वारा सोलहखंभा शौचालय भूमि पर निर्माण को लेकर दरगाह दीवान सैयद जैनुअल आबेदीन अली खान से किए समझौते...

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 03:10 AM IST
दरगाह कमेटी द्वारा सोलहखंभा शौचालय भूमि पर निर्माण को लेकर दरगाह दीवान सैयद जैनुअल आबेदीन अली खान से किए समझौते को लेकर बुधवार को खादिमों और अन्य प्रतिनिधियों ने दरगाह कमेटी की बैठक में हंगामा किया। साथ ही इस समझौते को रद्द कराने की मांग की। कमेटी अध्यक्ष शेख अलीम और अन्य सदस्य नाराज प्रतिनिधियों को शांत करने की कोशिश करते नजर आए।

दरगाह गेस्ट हाउस में दरगाह कमेटी के सदर शेख अलीम की सदारत में कमेटी की उर्स की तैयारियों को लेकर बैठक जारी थी। इस बैठक में ही पूर्व पार्षद सैयद गुलाम मुस्तफा चिश्ती व दरगाह के गद्दीनशीन सैयद फख्र काजमी आदि के नेतृत्व में एक प्रतिनिधिमंडल पहुंचा। सैयद गुलाम मुस्तफा, पीर फख्र काजमी और शेखजादा जुल्फिकार चिश्ती आदि ने नाजिम आईबी पीरजादा को निशाने पर लेते हुए दरगाह दीवान से किए समझौते का कड़ा विरोध किया। बैठक में हंगामा कर रहे सदस्यों को कमेटी सदर अलीम के साथ ही नायब सदर हाजी खान मोहम्मद सईद, जावेद पारेख आदि भी शांत करते नजर आए। फख्र काजमी ने यहां तक कहा कि जायरीन की सुविधा के लिए शौचालय बनवाने के लिए दीवान से जितनी राशि ले रहे हैं वे हम लोग देने को तैयार हैं, लेकिन यहां केवल शौचालय ही बनेंगे। किसी और को मालिकाना हक नहीं दिया जा सकता। बैठक में पूर्व पार्षद सैयद बाबर चिश्ती, शेखजादा जुल्फिकार चिश्ती, मुख्तार अहमद नवाब, पार्षद आमाद चिश्ती, काजी मुनव्वर अली, अब्दुल नईम खान, काजी अनवर अली आदि मौजूद थे।

यह है मामला: हाल ही दरगाह नाजिम आईबी पीरजादा ने दरगाह दीवान जैनुअल आबेदीन अली खां से सोलहखंभा शौचालय की भूमि को लेकर एक समझौता किया है। इसके तहत शौचालय की भूमि पर शौचालय के निर्माण के साथ-साथ नीचे दरगाह दीवान के उपयोग के लिए एक हॉल व ऑफिस का भी निर्माण कराया जाएगा। इस खर्च की आधी राशि दरगाह कमेटी व आधी राशि दरगाह दीवान जैनुअल आबेदीन द्वारा दी जाएगी। लोगों को आपत्ति है कि सोलहखंभा में जो भूमि है वह दरगाह कमेटी एंडोमेंट की संपत्ति है तथा यह वक्फ की श्रेणी में आती है। ऐसी संपत्ति का अंतरण किया जाना वक्फ कानूनों के विपरीत है। इन सदस्यों का कहना था कि दरगाह कमेटी का मालिकाना हक की वक्फ संपत्ति का निर्माण करने के लिए समझौता क्यों किया गया।

दरगाह गेस्ट हाउस में दरगाह कमेटी के सदर को ज्ञापन सौंपते प्रतिनिधि।